गुरु के प्रति श्रद्धा,भक्ति और कृतज्ञता अर्पित करने अवसर है गुरु पूर्णिमा

 






एस एन वर्मा

नोएडा: सेक्टर 62 स्थित योगदा आश्रम नोएडा में हर्षोल्लास और भक्तिपूर्ण वातावरण में साधकों द्वारा आदि काल से चले रहे गुरु पूर्णिमा त्योहार  मनाया गया। गुरु पूर्णिमा  के महत्व पर प्रकाश डालते हुए स्वामी आद्यनंद बताया कि अपने गुरु के प्रति श्रद्धा ,भक्ति और कृतज्ञता अर्पित करने का यह एक उचित अवसर होता है। उन्होंने बताया कि सच्चा गुरु वह है जिसने ईश्वर से संपर्क स्थापित कर लिया है। गुरु ईश्वर का ही एक रूप है जिसके माध्यम से ईश्वर अपने भक्तों से बातें करता हैं।

परमहंस योगानंद द्वारा रचित पुस्तक योगी कथामृत को उद्धृत करते हुए स्वामी आद्यनंद ने बताया कि आदिशंकराचार्य ने कहा है सच्चा गुरु से बढ़ कर तीनों लोकों में और कुछ भी नहीं है। जो गुरु के आश्रय में जाता है उसे गुरु अपना बना लेते हैं। ईश्वर की कृपा से ही हमें गुरु की प्राप्ति होती है। गुरु हमें अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने के लिए हमारे जीवन में आते है और हमें सभी खतरों माया आदि से बचाते हुए सुरक्षित स्थान भगवत धाम ले जाते हैं।

उन्होंने कहा कि गुरु की तीन गुण होते हैं। वे सर्वज्ञ, सर्वशक्तिमान और सर्वव्यापक होते हैं। उन्होंने दयामाता के हवाले बताया कि जितना हम भगवान और गुरु को चाहते हैं उससे तीन गुना वे हमें चाहते हैं। हम एक कदम उनकी ओर बढाते हैं तो वे दोनों हमारी तरफ तीन कदम बढ़ाते हैं।

उन्होंने बताया कि हमें गुरु में पूर्ण निष्ठा समर्पण होना चाहिए। जब हम गुरु से समस्वर हो जाते हैं तो वे हमारे सारे कर्म अपने उपर ले लेते हैं और फिर हमारे जीवन को गुरु अपनी योजनानुसार चलाते हैं।

इसके पूर्व गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्यों द्वारा प्रातः ही परमहंस योगानंद के चित्र को पालकी में रख कर पूरे आश्रम में प्रभात फेरी लगाया गया।पालकी के पीछे भक्तों की एक मंडली भजन गाते हुए चल रही थी. तत्पश्चात स्वामी ललितानंद के नेतृत्व में ध्यान सत्र आयोजित किया गया। दोपहर में नारायण सेवा में सैंकड़ों लोगों को भरपेट भोजन कराया गया। शाम 5 बजे से स्वामी आद्यनंद द्वारा ध्यान,भजन कीर्तन और प्रवचन सत्र प्रारंभ किया गया। देर रात तक गुरु लंगड़ चलता रहा।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा

इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल न लाया जाय और निजीकरण का विफल प्रयोग वापस लिया जाय : ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन