राष्टीय पुस्तक न्यास द्वारा लोगों में मानसिक स्वास्थ्य एवं कल्याण संबंधी मुद्दों के संबंध में जागरूकता बढ़ाने के लिए हेल्पलाइन की शुरुआत
नई दिल्ली  राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत (शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार) ने एक कोरोना हेल्पलाइन का शुरुआत की है ताकि महामारी से उपजे मानसिक - सामजिक चुनोतियों का सामना करने के लिए मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण संबंधित मुद्दों के संबंध में आम लोगों को समुचित जानकारी प्रदान की जा सके।  इस परियोजना से जुड़े …
इमेज
ब्लैक फंगस पर डॉ हर्ष वर्धन ने ट्विटर पर दिया जागरूकता का संदेश
न ई दिल्ली (इंडिया साइंस वायर): केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से म्यूकोर्माइकोसिस, जिसे आमतौर पर ब्लैक फंगस के रूप में जाना जाता है, का शुरुआती तौर पर पता लगाने, और उसके उपचार के बारे में सला…
इमेज
कोविड और मलेरिया की दोहरी स्थिति में घातक हो सकता है स्टेरॉयड
नई दिल्ली (इंडिया साइंसवायर): कोरोना संक्रमण के प्रकोप से मरीजों को निजात दिलाने के लिए विभिन्न उपचार पद्धतियों का सहारा लिया जा रहा है। इसमें स्टेरॉयड का उपयोग भी व्यापक रूप से हो रहा है। हालांकि, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) इंदौर और कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (केआईएमस), भुवनेश्…
इमेज
“5जी प्रौद्योगिकी का कोविड-19 संक्रमण से नहीं है कोई संबंध”
नई दिल्ली (इंडिया साइंस वायर): विभिन्न सोशल मीडिया मंचों पर इन दिनों कई भ्रामक संदेश फैल रहे हैं, जिनमें कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कारण 5जी मोबाइल टावरों से किए जा रहे परीक्षण को बताया जा रहा है। संचार मंत्रालय के दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने हाल में एक वक्तव्य जारी करके ऐसे सभी संदेशों को भ्रामक ए…
अग्रिम पंक्ति में तैनात नर्सें क्यों हैं सबसे साहसी कोरोना योद्धा !
फीचर नई दिल्ली(इंडिया साइंस वायर): कोविड-19 से लड़ने के लिए दवाओं एवं टीके के विकास में जुटे वैज्ञानिकों से लेकर डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी और सफाईकर्मी तक सभी इस महामारी के खिलाफ डटकर खड़े हुए हैं। निश्चित तौर पर अग्रिम पंक्ति में तैनात इन सभी लोगों की भूमिका महत्वपूर्ण है। लेकिन, मरीजों …
इमेज
झील से जलकुंभी निकालकर योगा मैट बना रही हैं मछुआरा युवतियां
न ई दिल्ली:(इंडिया साइंसवायर): जलाशयों में जलकुंभी का होना एक समस्या है। लेकिन, गुवाहाटी की दीपोरबील झील से जलकुंभी के साम्राज्य को खत्म करके उससे उपयोगी उत्पाद बनाए जा रहे हैं। इसकी शुरुआत योग करने के लिए चटाई (योगा मैट) बनाने से हुई है, जो स्थानीय मछुआरा समुदाय की छह युवतियों की पहल पर आधारित है…
इमेज