संदेश

भारत का गगनयान मिशन 2024 में: इसरो प्रमुख

चित्र
 नई दिल्ली  भारत अंतरिक्ष में अपना पहला मानव मिशन गगनयान-3 अगले साल 2024 में लॉन्च कर सकता है। इसे लेकर हर स्तर पर बारीकी से परीक्षण किए जा रहे हैं। एस्ट्रोनॉट्स की सुरक्षा की दृष्टि से इसरो पहले मानव रहित तरीके से गगनयान की लॉन्चिंग करेगा। यह बात भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के चेयरमैन डॉ एस. सोमनाथ ने विशेष साक्षात्कार में कही है।   विशेष बातचीत के प्रमुख अंश यहाँ प्रस्तुत किये जा रहे हैं।  प्रश्न: भारत अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव में छात्रों एवं प्रतिभागियों का उत्साह देखकर कैसा लग रहा है? उत्तर: सब मुझे उत्साह से लबरेज नज़र आए। युवाओं की जबरदस्त सहभागिता दिखी है। इस आयोजन में अभूतपूर्व प्रतिसाद देखने को मिला।  प्रश्न: केंद्र सरकार ने हाल ही में स्पेस सेक्टर को निजी क्षेत्रों के लिए खोला है। इसरो के नजरिये से भविष्य में इसके क्या लाभ होंगे? उत्तर: सरकार ने दो साल पहले स्पेस सेक्टर रिफॉर्म्स-2020 जारी किया था। यह इसका तीसरा साल है। हमने बहुत से काम किए हैं। पहला, हमने 'इन-स्पेस' का गठन किया, जो अधिकृत करने, बढ़ावा देने व सहयोग देने वाली एजेंसी के रूप में कार्य कर र

केरल पर्यटन ने यात्रियों को आकर्षित करने के लिए कार्यनीति में किया बदलाव

चित्र
    नई दिल्ली : वैश्विक रूप से प्राप्त पुरस्कारों और प्रशंसाओं से उत्साहित, केरल पर्यटन नई योजनाओं और कार्यक्रमों की एक श्रृंखला आरंभ करेगा जो राज्य को ऐसे गंतव्य के रूप में बदल देगा जहां पर्यटक किसी भी मौसम में घूमने के लिए जा सकते हैं। साथ ही लगातार घूमते रहने वाले यात्रियों के ठहरने को आरामदायक ऊर्जावान और ग्रामीण इलाकों और कम प्रसिद्ध स्थानों के मनोरम आकर्षण को सामने लाते हुए उनकी यात्रा को एक सीखने वाले अनुभव में बदल देगा।   नए स्थलों के द्वार खोलना, एकदम नए पर्यटन सर्किटों की अवधारणा, बुनियादी ढांचे के विकास में निवेश, अवार्ड जीतने वाले रिस्पॉन्सिबल टूरिज्म पहल को व्यापक बनाना, जो पर्यटकों को ग्रामीण जीवन और स्थानीय समुदायों को लाभान्वित करने का अवसर प्रदान करता है, और बेहतर संपर्क साधनों (कनेक्टिविटी) को सुनिश्चित करना राज्य के नए सिरे से गठित पर्यटन की ऐसी पहल हैं, जिन पर उसका सारा ध्यान इस समय केंद्रित है।  इसकी घोषणा आज शहर के इरोज होटल में केरल टूरिज्म पार्टनरशिप मीट के हिस्से के रूप में केरल पर्यटन के उप निदेशक (प्रभारी) श्री श्रीकुमार एस द्वारा संबोधित एक मीडिया सत्र में क

संस्कार केंद्र स्कूल ने जीता "सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी"

चित्र
नोएडा   आज सोमवार 23 जनवरी  को नोएडा लोक मंच द्वारा आयोजित "पहला कदम "सांस्कृतिक प्रकल्प के अंतर्गत" सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी" में भाषण एवं वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। आज की प्रतियोगिता में संस्कार केंद्र सरफाबाद सेक्टर -73 नोएडा ने  "सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी" में बाजी मारी। प्रतियोगिता में कुल 30 बच्चों ने प्रतिभाग किया जिसमें प्रथम वर्ग में कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के 14 बच्चे एवं द्वितीय वर्ग में कक्षा 6 से कक्षा 8 तक के 16 बच्चों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता की शुरुआत गायत्री मंत्र से की गई। प्रथम वर्ग में भाषण प्रतियोगिता हुई जिसके विषय इस प्रकार थे। 1-मेरे सपनों का विद्यालय 2-मेरी दिनचर्या  3-मेरे जीवन का आदर्श  4-मेरे जीवन का लक्ष्य    एवं द्वितीय वर्ग में वाद - विवाद की प्रतियोगिता हुई जिसके विषय इस प्रकार थे।  1-महिला शिक्षा वरदान या अभिशाप 2-जीवन में मोबाइल वरदान या अभिशाप  प्रथम वर्ग में पूजा ने प्रथम , प्रीति ने द्वितीय ,पलक एवं आयुष ने तृतीय स्थान में प्राप्त किया वहीं द्वितीय वर्ग में प्रथम स्थान में खुशी, द्वित

लायंस क्लब नोएडा ने लगाया विशाल मोतियाबिंद शिविर

चित्र
  नोएडा  लायंस क्लब नोएडा द्वारा आंखों की मुफ्त जांच व मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए कैंप का आयोजन आज 22 जनवरी  को ग्राम सदरपुर के बरात घर में आयोजित किया गया।  कैंप में आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से अनेक लोगों ने आंखों की जांच करवाई। जरूरतमंद लोगों को यथार्थ हॉस्पिटल के सौजन्य से सभी मरीजों की शुगर जांच तथा ब्लड प्रेशर की जांच की गई। इसके बाद मरीजों की आंखों की जांच की गई और उनके आंखों के व्याधि के अनुसार दवाई दी गई। जिन मरीजों को मोतियाबिंद ऑपरेशन की के लिए पाया गया उनको लायंस आई हॉस्पिटल गाजियाबाद के चिकित्सकों द्वारा मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए गाजियाबाद पहुंचाने का प्रबंध लायंस क्लब नोएडा द्वारा किया गया।  इस कैंप में 109 व्यक्तियों की जांच की गई जिसमें से 21 मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए उपयुक्त पाए गए जिन्हें आज ही गाजियाबाद में लायंस आई हॉस्पिटल पहुंचाया जाएगा। कल इनका ऑपरेशन होने के उपरांत इनको वापस नोएडा पहुंचा दिया जाएगा। कैंप में स्थानीय लोगों ने बड़ी संख्या में सहयोग दिया तथा मरीजों का मार्गदर्शन करते देखे गए। कैंप में अध्यक्ष ला रचना यादव, कोषाध्यक्ष ला दीप्ति वार्ष्णेय, ला उमेश कुमार

सुदूर अरुणाचल में अध्ययनकर्ताओं को मिला दुर्लभ गवैया पक्षी

चित्र
नई दिल्ली : भारतीय बर्डवॉचर्स ने अरुणाचल प्रदेश के सुदूर क्षेत्र में गाने वाले एक पक्षी का पता लगाया है। यह गवैया पक्षी रेन बैबलर (Wren Babbler) की संभावित रूप से एक एक नई प्रजाति है। पक्षियों को खोजने वाले अभियान में शामिल अध्ययनकर्ताओं ने गाने वाले इस पक्षी का नाम लिसु रेन बैबलर रखा है।  इस अभियान दल में बेंगलुरु, चेन्नई और तिरुवनंतपुरम के बर्डवॉचर्स और अरुणाचल प्रदेश के उनके दो गाइड शामिल थे। अभियान के सदस्य धूसर रंग के पेट (Grey-bellied Wren Babbler) वाले दुर्लभ और चालाक रेन बैबलर की तलाश में उत्तर-पूर्वी अरुणाचल प्रदेश की मुगाफी चोटी की यात्रा पर निकले थे। जब वे वापस आये तो गाने वाले पक्षियों की सूची में एक नये नाम और विज्ञान के लिए नया दस्तावेज साथ लेकर लौटे।  धूसर पेट वाला रेन बैबलर मुख्य रूप से म्यांमार में पाया जाता है। इस प्रजाति के कुछ पक्षी पड़ोसी देश चीन और थाईलैंड में पाए जाते हैं। भारत से धूसर पेट वाले रेन बैबलर की पिछली केवल एक रिपोर्ट रही है, जब 1988 में इन्हीं पहाड़ों से गाने वाले इस पक्षी के दो नमूने एकत्र किए गए थे। एक नमूना अब अमेरिका के स्मिथसोनियन संग्रहालय में र

अमृत सरोवर योजना : जल संरक्षण तथा संवर्धन के लिए महत्वपूर्ण

चित्र
डॉ दिनेश प्रसाद मिश्र जल संरक्षण एवं संवर्धन की दृष्टि से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता प्राप्ति के 75  वें वर्ष में आयोजित आजादी अमृत महोत्सव के अवसर पर 24 अप्रैल सन 2022 को आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर देश के प्रत्येक जनपद में 75अमृत सरोवर बनाए जाने की योजना की घोषणा की है, जिन्हें अगस्त 2023 तक निर्मित कर राष्ट्र को समर्पित करना है। वस्तुतः जीवन में जल का अत्यधिक महत्व है ,जीवन के लिए आवश्यक  तत्वों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण वायु एवं जल ही हैं, जिनके अभाव में जल, थल एवं नभ में विचरण करने वाले  समस्त जीव जंतुओं तथा शैवाल, घास फूस से लेकर विशालकाय वृक्ष आदि वनस्पतियों के जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती, किंतु दुर्भाग्य से दिनानुदिन जल एवं वायु के प्रदूषित होने के साथ ही साथ उनकी उपलब्धता भी निरंतर कम होती जा रही है। निरंतर बढ़ रही आबादी तथा वर्षा की अनियमितता तथा उसमें निरंतर हो रही कमी के कारण आवश्यकता के विपरीत पृथ्वी  के जल स्तर में लगातार कमी आ रही है जिससे समस्त विश्व के समक्ष जल की समस्या विकराल रूप धारण कर उपस्थित हुई है, जिससे भारत भूमि भी अछूती नहीं है। देश के अनेक म

सेक्टर 122 में लोहड़ी सामूहिक रूप से मनाई गई

चित्र
 नोएडा : सेक्टर 122 में लोहड़ी सामूहिक रूप से 13 जनवरी को मनाई  गई. इस अवसर पर अध्यक्ष उमेश शर्मा ने बताया कि लोहड़ी, जिसका का अर्थ है- ल (लकड़ी)+ ओह (गोहा यानी सूखे उपले)+ ड़ी (रेवड़ी). कार्यक्रम में माताएं अपने छोटे-छोटे बच्चों को गोद में लेकर लोहड़ी की अग्नि की चक्कर लगाई और अग्नि में  कपूर, इलाइची, लोंग, इलाइची,मूंगफली, रेवड़ी, मेवे, गज्जक, पॉपकॉर्न आदि की आहुति दी.ऐसा माना जाता है कि लोहड़ी के चक्कर लगाने से बच्चे को किसी की नजर नहीं लगती।  प्रसाद के रूप में सभी लोगो में रेवड़ी, पॉपकॉर्न, मूंगफली का मिश्रण बाटा  गया. यह दिन नवविवाहित जोड़ो और नवजात शिशु के लिए बहुत ही ख़ास होता है  समाजसेवी के पी सिंह  ने इस अवसर पर सिक्योरिटी गार्ड  को जाड़े से निजाद  पाने के लिये कंबल बाटे. आरडब्लू के अध्यक्ष डॉ उमेश  शर्मा एवं महासचिव देवेंद्र कुमार ने त्योहार के अवसर पर सेक्टर 122 के सभी लोगों को शुभकामनायें दी.