जन औषधि दवाखाने में अब न्यूट्रास्यूटिकल्स उच्च प्रोटीन की बिक्री भी होगी


 दवाओं की संख्या बढ़कर 1800 और शल्य चिकित्सा उपकरणों की संख्या 285 हो गई
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) की कार्यान्वयन एजेंसी, फार्मास्यूटिकल्स एंड मेडिकल डिवाइसेज ब्यूरो ऑफ इंडिया (पीएमबीआई) ने अपने समूह में नए उत्पाद जोड़े हैं। नई दवाइयों में जैसे मधुमेह के लिए डापाग्लिफ्लोज़िन 10 मिलीग्राम और मेटफॉर्मिन हाइड्रोक्लोराइड (एक्सटेंडेड रिलीज) 1000 मिलीग्राम टैबलेट, जन औषधि प्रोटीन (उच्च प्रोटीन) पाउडर, महिलाओं के लिए जन औषधि प्रोटीन (व्हे प्रोटीन पाउडर) आदि भी  जन औषधी दवा केंद्र में उपलब्ध होंगी।

ज्ञात हो कि फार्मास्यूटिकल्स एंड मेडिकल डिवाइसेज ब्यूरो ऑफ इंडिया (पीएमबीआई), जो (पीएमबीजेपी) को लागू करता है, नियमित रूप से बाजार के विभिन्न रुझानों का विश्लेषण करता है और विश्लेषण के आधार पर, इन केंद्रों के माध्यम से सस्ते मूल्यों पर बेचने के लिए दवाओं और अन्य उत्पादों को शामिल करता है। इसी क्रम में, प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना ने अब मधुमेह के लिए दवाओं के कुछ नए वेरिएंट और विभिन्न प्रकार के न्यूट्रास्यूटिकल्स को किफायती कीमतों पर बेचने के लिए शामिल किया है।
 केंद्र सरकार ने 31 दिसंबर 2023 तक देश में 10,000 जन औषधि केंद्र खोलने का फैसला किया है। 30 जून 2023 तक देश भर में कुल 9,512 जन औषधि केंद्र खोले गए। प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) के उत्पाद समूह में 1800 दवाएं, 285 शल्य चिकित्सा उपकरण और उपभोग्य वस्तुएं हैं। ये उत्पाद बाजार की तुलना में 50 प्रतिशत से 90 प्रतिशत तक कम कीमत पर उपलब्ध हैं।

पिछले 9 वर्षों में केंद्रों की संख्या 100 गुना और बिक्री 170 गुना से अधिक बढ़ गई है। 31 दिसंबर 2023 तक 10000 केंद्र स्थापित करने की उपलब्धि को हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) ने देश के 651 विभिन्न जिलों से जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदन आमंत्रित किया है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा

सेक्टर 122 हुआ राममय. दो दिनों से उत्सव का माहौल