नोएडा स्टेडियम में किया गया 11वें इंटर स्कूल ड्राइंग कंपीटिशन का आयोजन



नोएडा 

सोसायटी फॉर स्पोर्ट्स एंड कल्चरल एडवांसमेंट (SSCA) पिछले 11 वर्षों से बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य कर रही जिले की एकमात्र संस्था है. संस्था की ओर से विश्व विक्लांग दिवस के मौके पर 2 दिसम्बर  को नोएडा स्टेडियम में 11वें इंटर स्कूल ड्राइंग कंपीटिशन का आयोजन किया गया। इस आयोजन में दिल्ली-एनसीआर के 38 स्कूलों के करीब 450 स्टूडेंट्स ने भाग लिया। 

शुक्रवार सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलने वाले इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रख्यात शिल्पकार पद्म भूषण, पद्म राम वनजी सुतार रहे. जबकि हर्ष इन्द्र लूम्बा चित्रकार सम्मानित अतिथि, पंचशील बालक इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ नीरज टंडन और समाजसेवी महेश सक्सेना ने स्पेशल गेस्ट के रूप में शामिल होकर बच्चों को प्रेरित किया। कार्यक्रम में प्रतिभाग कर रहे सभी बच्चों को संस्था की और निशुल्क रिफ्रेशमेंट और सर्टिफिकेट प्रदान किए गए।

 क्लास वन और टू की प्री प्राइमरी कैटेगरी में रौनक सिंह ने पहला, फैजान ने दूसरा और सार्थक ने तीसरे स्थान की ट्रॉफी जीती।

क्लास 3 से 5 तक की प्राइमरी कैटेगरी में अंजू वर्मा ने पहले, संतान मैती ने दूसरे और पल्लवी प्रसाद ने तीसरे स्थान की ट्रॉफी अपने नाम की।

क्लास 6 से 8 वीं तक की जूनियर कैटेगरी में सबा परवीन ने पहला, राधा कुमार ने दूसरा और भव्य शर्मा ने तीसरे स्थान की ट्रॉफी जीती।

क्लास 9वीं से 12वीं तक की सीनियर कैटेगरी मे पूजा सिंह को पहला, शिवम् राय को दूसरा और प्रतिभा को तीसरे स्थान की ट्रॉफी प्रदान की गईं।

इसके अलावा चारों कैटेगरीज मे 7 - 7 बच्चों को प्रोत्साहन ट्रॉफी प्रदान की गई। कार्यक्रम में जजों की भूमिका प्रीति अग्रवाल पूजा श्रीवास्तव व के आसिफ ने निभाई। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष सीए सुभाष अग्रवाल, संयोजक प्रोफेसर एम एम ए बेग, सहसचिव संतोष शर्मा, कार्यकारिणी सदस्य इंद्रा चौधरी, श्रीमती राजेश्वरी त्यागराजन, श्रीमती श्वेता त्यागी, विमलेश शर्मा, नरेंद्र कुच्छल, बिपिन बंसल, देवेंद्र कुमार, अशोक सैनी समेत तमाम लोग मौजूद रहे । यह प्रतियोगिता निःशुल्क थी ।




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सुपरटेक टावर के ध्वस्त होने के बाद बढ़ेंगी स्वास्थ्य चुनौतियां, रखें ये सावधानियॉ

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

आत्मसाक्षात्कार को आतुर साधकों को राह दिखाने के लिए ईश्वर द्वारा भेजे गए संत थे योगानंद- स्वामी स्मरणानंद