देश में अब तक का सबसे अधिक 329.86 मिलियन टन बागवानी उत्पादन

 बागवानी फसलों के क्षेत्र व उत्पादन का वर्ष 2020-21 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी

सरकार की किसान हितैषी नीतियों, किसानों के परिश्रम व वैज्ञानिकों के शोध का सुफल- श्री तोमर 

नई दिल्ली : कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों व अन्य सरकारी स्रोत एजेंसियों से प्राप्त जानकारी के आधार पर विभिन्न बागवानी फसलों के क्षेत्र व उत्पादन का वर्ष 2020-21 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी कर दिया हैं। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में सरकार की किसान हितैषी नीतियों, किसानों के अथक परिश्रम व वैज्ञानिकों के शोध के फलस्वरूप वर्ष 2020-21 में बागवानी उत्पादन 329.86 मिलियन टन (अब तक का सबसे अधिक) होने का अनुमान है, जिसमें 2019-20 में तुलना में करीब 9.39 मिलियन टन (2.93%) की वृद्धि परिलक्षित है।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने बताया- बागवानी फसलों के क्षेत्र व उत्पादन के अद्यतन दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार, फलों का उत्पादन वर्ष 2019-20 में प्राप्त 102.08 मिलियन टन की तुलना में इस साल 102.76 मिलियन टन होने का अनुमान है। सब्जियों का उत्पादन पिछले वर्ष के 188.28 मिलियन टन की तुलना में 196.27 मिलियन टन (4.42 प्रतिशत की वृद्धि) होने का अनुमान है। 

श्री तोमर के अनुसार, प्याज का उत्पादन वर्ष 2019-20 में प्राप्‍त 26.09 मिलियन टन की तुलना में 26.92 मिलियन टन होने का अनुमान है। इसी तरह, आलू का उत्पादन वर्ष 2019-20 में 48.56 मिलियन टन की तुलना में 53.69 मिलियन टन (10.55% की वृद्धि) होने का अनुमान है। टमाटर का उत्पादन वर्ष 2019-20 में 20.55 मिलियन टन की तुलना में 21.00 मिलियन टन होने की सूचना प्राप्‍त हुई है। इसी प्रकार, सुगंधित और औषधीय फसलों में 6.11% की वृद्धि दर्ज की गई है। अर्थात, इसमें वर्ष 2019-20 में 0.73 मिलियन टन की तुलना में इस वर्ष 0.78 मिलियन टन उत्पादन का अनुमान है। बागान फसलों का उत्पादन पिछले वर्ष के 16.12 मिलियन टन से बढ़कर 16.60 मिलियन टन हो गया है। मसालों का उत्पादन पिछले वर्ष प्राप्‍त 10.14 मिलियन टन की तुलना में वर्ष 2020-21 में बढ़कर 10.54 मिलियन टन (3.93 फीसदी की वृद्धि) हो गया है ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव