देश में रबी की बुवाई अब तक की सर्वाधिक

 रबी सीजन का क्षेत्र कवरेज रेकार्ड 684.59 लाख हेक्टेयर, पिछले साल था 665.59 लाख हेक्टेयर

देश के अन्नदाता अपनी मेहनत व लगन से खेतों में जुटे हैं- कृषि मंत्री श्री तोमर

गांव-गरीब-किसान-किसानी की प्रगति के लिए भारत सरकार दृढ़ संकल्पित

नई दिल्ली। देश में इस बार रबी की बुवाई अब तक की सर्वाधिक हुई है। रबी सीजन का क्षेत्र कवरेज रेकार्ड 684.59 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गया है जो पिछले साल कुल 665.59 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में था। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री  नरेंद्र सिंह तोमर ने इस बड़ी उपलब्धि पर कहा कि देश के अन्नदाता अपनी कड़ी मेहनत और लगन से खेतों में जुटे हुए हैं, यह हम सब के लिए गौरव व गर्व की बात है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार किसानों के हितों के लिए प्रतिबद्ध है और आगे भी सतत उनकी भलाई में लगी रहेगी।

श्री तोमर ने विश्वास जताया है कि किसानों की अथक मेहनत, कृषि वैज्ञानिकों के अनुसंधान और सरकार की किसान हितैषी नीतियों व कार्यक्रमों के कारण कृषि क्षेत्र की प्रगति निश्चित ही ऊंचाइयों पर पहुंचेगी। प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में बीते छह साल से ज्यादा के समय में किसानों के हित में एक के बाद एक कदम उठाए गए हैं। गांव-गरीब-किसान-किसानी की तेज प्रगति के लिए केंद्र सरकार दृढ़संकल्पित है। 

रबी सीजन की बुवाई के आज 29 जनवरी को प्रारंभिक अंतिम आंकड़े आए हैं। देश में अंतिम रबी क्षेत्र के कवरेज के विश्लेषण के अनुसार, रबी फसलों के अंतर्गत कुल क्षेत्रफल का कवरेज पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 665.59 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल के मुकाबले, 684.59 लाख हेक्टेयर क्षेत्र है। इस प्रकार पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में कुल रबी क्षेत्र के कवरेज में 19.01 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। 

कमोबेश सभी फसलों के क्षेत्र कवरेज में बढ़ोत्तरी हुई है। अंतिम क्षेत्र कवरेज में रेपसीड और सरसों सहित गेहूं, चावल, दलहन और तिलहन के तहत कवरेज क्षेत्र में वृद्धि दर्ज की गई है। तिथि के अनुसार, राज्यों द्वारा रिपोर्ट किए गए कुल अंतिम क्षेत्र कवरेज, पिछले वर्षों में अंतिम क्षेत्र कवरेज की तुलना में सर्वाधिक (आल टाइम हाई) है। 

पिछले वर्ष के 336.43 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल के मुकाबले 346.36 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की बुवाई की गई है, अर्थात् गेहूं के क्षेत्र कवरेज में 9.93 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। 

इसी तरह, पिछले वर्ष के 30.20 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल के मुकाबले चावल की बुवाई 35.23 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हुई है, यानी क्षेत्र कवरेज में 5.02 लाख हेक्टेयर की वृद्धि दर्ज की गई है। 

दलहन के अंतर्गत क्षेत्र कवरेज 167.38 लाख हेक्टेयर रहा है, जो कि पिछले वर्ष के 162.87 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के मुकाबले 4.51 लाख हेक्टेयर अधिक है। पिछले साल के 79.98 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के मुकाबले तिलहन की फसलों की बुवाई 83.95 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हुई है। इस प्रकार तिलहन में 3.97 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवरेज में वृद्धि हुई है। 

रेपसीड एंड मस्टर्ड के तहत क्षेत्र कवरेज, पिछले वर्ष के 69.08 लाख हेक्टेयर की तुलना में 73.94 लाख हेक्टेयर दर्ज किया गया है, यानी क्षेत्र कवरेज में 4.85 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। 

जल भंडार की स्थिति और लगभग सभी राज्यों में मिट्टी की नमी बहुत अच्छी है, इसलिए रबी फसलों की संभावना बहुत अच्छी है। उल्लेखनीय है कि खरीफ सीजन में भी रेकार्ड बुवाई हुई थी। कोरोना महामारी के बावजूद खरीफ व रबी सीजन की रेकार्डतोड़ बुवाई कृषि क्षेत्र की प्रगति की सूचक है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव