हाथरस कांड सभ्य समाज के मुंह पर तमाचा : देवेंद्र सिंह अवाना

माला जपने वालों को नहीं पता है मातृशक्ति का मतलब : हीरालाल यादव


समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने कैंडिल जलाकर दी हाथरस की बिटिया को श्रद्धांजलि


नोएडा। अब हाथरस की एक बेटी दानवों की हवस का शिकार हो गई। इस हादसे ने अब से करीब सात वर्ष पहले दिल्ली में हुए निर्भया कांड की याद ताजा कर दी। कू्ररता का शिकार हुई हाथरस की बेटी को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सेक्टर-11 स्थित झुंडपुरा गांव में कैंडिल जलाकर विनम्र श्रद्धांजलि दी। उन्होंने दोषियों को ऐसी सख्त सजा देने की मांग की, जो भविष्य में भी याद रखी जाए। वक्ताओं ने इस हादसे को सभ्य समाज के मुंह पर तमाचा करार दिया। 


समाजवादी मजदूर सभा के प्रदेश महासचिव देवेंद्र सिंह अवाना ने हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार बेटी की मौत पर गहरा दुख जाहिर किया। उन्होंने कहा कि यह सरकार की नाकामी है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली सरकार में ही बेटियों पर सर्वाधिक अत्याचार हो रहे हैं। इस मामले में पुलिस भी कम दोषी नहीं है। उनके खिलाफ भी कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस समाज में बेटियों को देवी के तौर पर पूजा जाता है, उसमें इस तरह की घिनौनी हरकत सभ्य समाज पर बदनुमा धब्बा है। यह शासन को चुनौती भी है। 


समाजवादी मजदूर सभा के प्रदेश सचिव हीरालाल यादव ने कहा कि सत्ता में बैठी पार्टी के हर कार्यकर्ता की जुबान पर मातृ शक्ति का नाम होता है। लेकिन, हाथरस की घटना ने यह साबित कर दिया कि मातृ शक्ति का माला जपने वालों को इसका अर्थ ही नहीं पता है। हाथरस के हादसे से यह साबित हो गया है कि मौजूदा सरकार में आर्थिक और सामाजिक ताना-बाना बिखरने की ओर अग्रसर है। 


समाजवादी पार्टी के पूर्व जिला प्रवक्ता राघवेंद्र दुबे ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बहन बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। पूरे प्रदेश में अपराधियों का बोलबाला है। कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। दिवंगत बेटी का आनन फानन में जबरन रात में दाह संस्कार कराना पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करती है। मानवता को शर्मसार करने वाले नरपिशाचों को फांसी की सजा दी जाए और परिवार को डराने धमकाने वाले पुलिसकर्मियों पर भी सख्त कार्रवाई की जाए।


बाद में पार्टी के सभी सदस्यों ने मोमबत्ती जलाकर दिवंगत बेटी को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी और मौन रखकर परमात्मा से बिटिया की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। 


इस अवसर पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष देवेंद्र गुर्जर, महेंद्र यादव, नरेंद्र शर्मा, हीरालाल यादव, फूल सिंह नम्बरदार, मुकेश प्रधान, सनी गुर्जर, विकी तंवर, शालिनी खारी, नेहा पांडेय, कौशल्या भट्ट, कर्मवीर चौधरी, बीर बहादुर, अनिल भाटी, रज्जे गुर्जर, विजय तंवर , रविन्द्र वाल्मीकि आदि मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव