सेल शुरू से ही लड़ रहा है कोरोना के खिलाफ बड़ी लड़ाई

पारदर्शिता को अपनी कार्यप्रणाली में सबसे ऊपर रखता है सेल


नई दिल्ली स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) कोरोना महामारी की शुरुआत से ही इसके प्रकोप से निपटने और बचाव के लिए कदम उठाने की पहल करने में आगे बढ़कर अपनी भूमिका निभाई है और नियमित रूप से कोरोना के खिलाफ न केवल त्वरित और तत्काल कार्रवाई के लिए सुविधाओं का विकास किया बल्कि इसके लिए हर तरह की सतर्कता बरतने का काम किया। कंपनी ने अपने देश भर में स्थित सभी संयंत्रों, इकाइयों और कॉर्पोरेट ऑफिस में कोरोना महामारी के प्रकोप को रोकने के लिए अनेक उपाय लागू किए हैं। कंपनी अपनी इसी रणनीति पर और आगे बढ़ते हुए, अपोलो  के डॉक्टरों के एक दल को 15 जून, 2020 को कॉरपोरेट ऑफ़िस की साफ-सफाई, बैठने की व्यवस्था, सोशल डिस्टेन्सिंग, शौचालय, एयर कंडीशनिंग की स्थिति इत्यादि का मेडिकल रि-असेसमेंट  करने के लिए बुलाया। हाल ही में, कंपनी ने पूरे सेल में कोरोना मामलों से निपटने के लिए इस अस्पताल के साथ एक नॉलेज शेयरिंग प्लेटफार्म स्थापित करने के लिए समझौता किया है। सेल ने यह कदम कार्मिकों  के लिए कार्य के दौरान और अधिक सुरक्षित वातावरण बनाने के लिए उठाया है।


उल्लेखनीय है कि इस्पात उद्योग इसेंसियल सर्विसेज मेंटेनेंस एक्ट (ESMA) के तहत  आता है। कोरोना महामारी की इस वैश्विक चुनौती के दौरान, सेल के लिए अपने कार्मिकों की सुरक्षा सबसे पहली प्राथमिकता है। इसके साथ ही कंपनी ने सरकार द्वारा समय - समय पर जारी गाइडलाइंस को कड़ाई से लागू किया है। सेल   व्यवसाय में उच्चतम नैतिकता बनाए रखने के कंपनी के विज़न और अपने मानव संसाधन की सबसे बेहतर देखरेख को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। सेल को अपने प्रतिभाशाली, कर्मठ और समर्पित कार्मिकों पर गर्व है। सेल न केवल अपने कार्मिकों के योगदान को मान्यता देता है बल्कि हर मंच पर कंपनी के लिए उनकी समर्पित सेवा की सराहना करता है।  


कोरोना महामारी के इस कठिन दौर में, जब दुनिया भर की कंपनियां अपने व्यवसाय को जारी रखने के लिए अनूठे और नए तरीकों को अपना रही हैं, ऐसे में सेल अपने कार्मिकों के लिए सुरक्षित कार्य का माहौल देने में अग्रणी रही है, जिससे वे अपना बेस्ट परर्फार्मेंस दे सकें। सेल देश के उन कोर्पोरेट्स में अग्रणी है, जिसने दिल्ली के दो नामी हेल्थ केयर सर्विस प्रोवाइडर्स - मैक्स हेल्थकेयर और अपोलो हॉस्पिटल्स के साथ समझौता किया है। यह समझौता सेल कार्मिकों और उनके आश्रितों को बेहतर इलाज और स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए किया गया है। ये कदम कार्मिकों की सुरक्षा और स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए स्थिति पर लगातार निगरानी रखने के लिए शुरू किए पहल का हिस्सा है। सेल के कार्मिक देश भर में उत्पादन, खनन, विपणन और इससे जुड़ी अन्य बहुत सी गतिविधियों लगातार काम कर रहे हैं, सेल इन कार्मिकों की कार्य के दौरान और सेल टाउनशिप, जहां वे अपने परिवार के साथ रहते हैं, की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम कर रहा है।  ये टाउनशिप वहाँ की आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों का केंद्र हैं।


सेल के कार्यस्थलों और टाउनशिप में सुरक्षा बनाए रखने के लगातार प्रयासों में शामिल हैं:



  1. सेल के कार्यालयों और संयंत्रों में व्यापक सैनिटाइजेशन और कीटाणुशोधन अभियान चलाया गया है, जिसमें सार्वजनिक स्थानों और  टाउनशिप में बाजारों का नियमित रूप से गहन सैनिटाइजेशन शामिल है। नई दिल्ली स्थित इस्पात भवन में सरकारी एजेंसी सेंट्रल वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन  (सीडब्ल्यूसी) के सहयोग से बड़े पैमाने पर सैनिटाइजेशन किया गया

  2. कर्मचारियोंके शरीर के तापमान की निगरानी के लिए इंट्री गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है जबकि दूसरे विभिन्न स्थानों पर बिना किसी भीड़-भाड़ के सुचारू जाँच करने के लिए कई स्कैनर खरीदे गए हैं

  3. सेल के कॉरपोरेटऑफिस में एक कोविड रिस्पांस टीम (CRT) समेत सेल की सभी इकाइयों में अलग - अलग टास्क फोर्स का गठन किया गया है, जिसमें कंपनी के डॉक्टरों का पर्याप्त प्रतिनिधित्व है। यह कदम कोविड पॉजिटिव केसेज के साथ ही  सभी कार्मिकों के स्वास्थ्य देखभाल सुनिश्चित करने के लिए किया गया है ताकि उनकी मेडिकल और अन्य स्वास्थ्य  जरूरतों को पूरा किया जा सके। सेल कोविड रिस्पांस टीम रात-दिन (24x7) कार्मिकों और उनके परिवारजनों की चिकित्सा संबंधी जरूरतों को पूरा करने और स्वास्थ्य संबंधी देखभाल करने के लिए कार्यरत है।

  4. सेल के ऑफिस केअंदर सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करना और मास्क पहनना अनिवार्य है। कंपनी के संयंत्रों और इकाइयों में कार्मिकों और अनुबंध कर्मचारियों के बीच बड़े पैमाने पर फेस मास्क, साबुन और सैनिटाइज़र का वितरण किया गया है। प्लांट और माइंस में कर्मचारियों और अनुबंध कर्मचारियों के बीच फेस मास्क, साबुन और सैनिटाइज़र का बड़े पैमाने पर वितरण। कुछ संयंत्रों ने कार्मिकों के मास्क न पहनने और पिछली सीट पर बैठने के नियमों का पालन न करने पर जुर्माने का भी प्रावधान किया है।

  5. कागजात/ फाइलों का  आदान - प्रदान प्रतिबंधित कर दिया गया है। कार्मिक मुख्य रूप से ई-मोड के जरिये काम कर रहे है। कार्मिकों की उपस्थिति के बायोमीट्रिक उपस्थिति अटेंडेंस प्रणाली को निलंबित कर दिया गया है और अधिक से अधिक बैठकें  वीसी / ऑनलाइन प्लेटफार्मों के माध्यम से की जा रही हैं। 


6.कॉर्पोरेट ऑफिस और संयंत्रों और इकाइयों सभी जगहों पर, यथासंभव, घर से काम (वर्क फ्राम होम) करने की सुविधा दी गई है। कॉर्पोरेट ऑफिस में कार्मिकों को ऑफिस अडेंट करने के लिए रोस्टर आधारित फ्लेक्सिबल वर्क शेड्यूल लागू किया है। उल्लेखनीय है कि संबन्धित कार्यकारी निदेशक / विभागाध्यक्ष को ज़रूरत के अनुसार रोस्टर को परिवर्तित करने के लिए पूरा अधिकार प्रदान किया गया है। इसके साथ ही अतिसंवेदनशील कार्मिकों जैसे गर्भवती महिलाएं, गंभीर स्वास्थ्य की स्थिति वाले कार्मिकों, सहरुग्णता, दिव्यांगजन इत्यादि को घर से काम करने की अनुमति दी गई है। भिलाई इस्पात संयंत्र में विभिन्न कार्यों को संचालित करने के लिए SAP के जरिये वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) सुविधाएं 200 से अधिक अधिकारियों को प्रदान की गई हैं। इसके साथ ही SAP, ज़ूम, WEBEX, अन्य ऑनलाइन मीटिंग प्लेटफ़ॉर्म के जरिये वर्क फार्म होम की सुविधा के लिए सॉफ्टवेयर ट्रेनिंग भी चालू की गई है।  



  1. कार्मिकोंको और अधिक सुरक्षित दूरी के साथ कार्य की सुविधा प्रदान करने के लिए कुछ कार्मिकों का सीटिंग लोकेशन इस्पात भवन, लोदी रोड से स्कोप मीनार, लक्ष्मी नगर में स्थानांतरित कर दिया गया है।

  2. सेल के संयंत्रअधिक से अधिक ई-प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित कर रहे हैं और उसे अपनी गतिविधियों में इस्तेमाल कर रहे हैं। झारखण्ड के रांची में स्थित सेल के अग्रणी प्रबंधन प्रशिक्षण संस्थान (एमटीआई) ने कंपनी के कार्मिकों प्रशिक्षण को जारी रखने  के लिए विभिन्न ई-प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित किए हैं।

  3. सेल के संयंत्रों में,मरीजों की देखभाल के लिए चिकित्सा विभाग ने समुचित तैयारी और इंतजाम किए हैं। इसके साथ किसी भी ज़रूरत के लिए के साथ दवाओं की व्यवस्था सुनिश्चित की है। क्वारंटाइन सुविधाओं को संभालने के लिए विभिन्न संयंत्र स्थानों पर क्वारंटाइन  केंद्र भी स्थापित किए गए हैं।


सेल इस वैश्विक चुनौती के दौरान अपने कार्मिकों के साथ मिलकर और एकजुटकर होकर सभी चुनौतियों और मुद्दों से निपटने के लिए तैयार है। सेल एक जिम्मेदार सार्वजनिक उपक्रम है, जो अपने कार्मिकों के हितों और सुविधाओं को प्राथिमिकता में सबसे ऊपर रखता। सेल अपने कार्मिकों के आश्रितों को भी कार्मिकों के समान स्वास्थ्य स्वास्थ्य सेवाओं की सुविधा प्रदान की जाती है। ऐसे समय में, जब स्वास्थ्य सुरक्षा सबसे अधिक ज़रूरी है, सेल न केवल ऑफिस में बल्कि अपने ऑफिस से जुड़े अवसीय क्षेत्रों और टाउनशिप में सर्वोत्तम संभव सुविधाएं प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव