सोनम वांगचुक के चीनी उतपाद बहिष्कार अभियान को व्यापारियों का समर्थन

New Delhi


कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज कहा कि भारत के सात करोड़ व्यापारी लद्दाख के शैक्षिक सुधारक और दूरदर्शी व्यक्ति सोनम वांगचुक के चीनी सामान के बहिष्कार अभियान को अपना पूर्ण समर्थन देते हुए कहा की देश का सम्पूर्ण व्यापारी वर्ग एकजुटता से उनके इस अभियान के साथ खडा हैं जिन्होंने देशवासियों से चीनी सामानों का बहिष्कार करने और चीन निर्मित वस्तुओं को नागरिकों की "वॉलेट पावर" देश को मुक्त कराने का आव्हान किया है ! कैट ने इस मुद्दे पर एक राष्ट्रीय अभियान चलाने की घोषणा करते हुए कहा है कि उसने लगभग 3000 उत्पादों की पहचान की है जो अब तक चीन से आयात किए जा रहे थे और कैट अब चीन से इन उत्पादों के आयात का बहिष्कार करने के लिए देश भर के नागरिकों और व्यापारियों के बीच एक व्यापक जन जागरण करेगा ! कैट ने कहा कि इस साल आने वाली दिवाली वास्तव में सही अर्थों में हिन्दुस्तानी दिवाली होगी ! चीनी सामानों के बहिष्कार के लिए कैट का अभियान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के "लोकल पर वोकल "आव्हान को मजबूत करेगा ! 


कैट के अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री  प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि कैट पिछले पांच वर्षों से भारतीय व्यापारियों के बीच चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का एक राष्ट्रव्यापी अभियान चला रहा है ! पिछले साल पुलवामा हमले के बाद भी जब चीन पाकिस्तान का समर्थन कर रहा था तब कैट ने भारत के 200 शहरों में होली के त्योहार पर चीनी सामान जलाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी सफल आंदोलन चलाया।  श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने कहा की अब जब श्री सोनम वांगचुक ने लद्दाख की सीमाओं पर चीनियों द्वारा लगातार आक्रामकता के कारण एक नई अपील की है, "पूरा देश आर्थिक रूप से चीन को चोट पहुंचाने के महत्व को समझता है और इसलिए हम इस बड़ी पहल का तहे दिल से स्वागत करते हैं और कंधे से कंधा मिलाकर सोनम वांगचुक के इस अभियान को सफल बनायेंगे !


श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल ने कहा कि भारत में मुख्य रूप से चीन से तीन प्रकार के आयात होते हैं यानी  पूर्ण र्रोप से तैयार उत्पाद , भारत में तैयार माल की असेंबली के लिए स्पेयर पार्ट्स तथा कच्चा माल ! कैट ने पहले चरण में भारी मात्रा में आयातित चीनी उत्पादों की लगभग 3000 श्रेणियों की पहचान की है जिन्हें तुरंत भारतीय उत्पादों द्वारा प्रतिस्थापित किया जाना चाहिए क्योंकि ऐसे उत्पादों के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले भारतीय उत्पाद उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि कैट इन उत्पादों के आयात और बिक्री को रोकने के लिए देश भर के सभी व्यापारियों और लोगों को शिक्षित करेगा।


 कैट ने कहा की इस अभियान को सफलतापूर्वक चलाने के लिए भारतीय निर्माताओं की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि किसी भी समय बाजार में भारतीय उत्पादों की कमी नहीं होनी चाहिए और भारत के उपभोक्ताओं को इस तरह की कमी के कारण पीड़ित नहीं होना चाहिए। कैट ने भारतीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए भारतीय निर्माताओं के साथ मिलकर काम करने के लिए पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया है।


 


दोनों नेताओं ने सरकार से "मेक इन इंडिया" को और बढ़ावा देने और "आत्मनिर्भर मिशन" के माध्यम से व्यापार करने में आसानी सुनिश्चित करने का भी आग्रह किया है। कैट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मजबूती से खड़ा है .


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव