सेल बना सबसे बड़ा घरेलू कच्चा इस्पात उत्पादक

वित्तवर्ष 2019-20 में 2.8% की वृद्धि के साथ अब तक का


सर्वाधिक वार्षिक विक्रय हासिल किया


 


नई दिल्ली : देश की सार्वजनिक क्षेत्र की इस्पात उत्पादक कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान भारत में कच्चा इस्पात उत्पादन की अग्रणी कंपनी बनकर उभरी है। सेल वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान 161.5 लाख टन कच्चे इस्पात का उत्पादन किया हैं, जो देश के किसी भी अन्य इस्पात उत्पादकों के कच्चे इस्पात उत्पादन से अधिक है।


सेल अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी ने कहा, “सेल अपनी पुरानी इकाइयों से अनुकूलतम उत्पादन जारी रखते हुए, आधुनिकीकरण के तहत चालू नई इकाइयों से इस्पात उत्पादन में तेजी लाने के लिए लगातार ज़ोर दे रहा था। कंपनी द्वारा उत्पादन बढ़ाने की दिशा में किए गए ठोस प्रयासों का नतीजा है कि सेल ने वित्तवर्ष 2019 – 20 के दौरान देश के  सबसे बड़े घरेलू स्टील उत्पादक का दर्जा हासिल किया है। कंपनी ने आधुनिकीकरण के दौरान जो सुविधाएं शुरू की थी, उनके लाभ मिलने शुरू हो चुके हैं और इस दिशा में कंपनी की अच्छी तरह से समन्वित उत्पादन रणनीतियाँ उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लाभ के रूप में सामने आ आई हैं। जब आने वाले समय में देश कोरोना वायरस के प्रकोप से विजयी बनकर उभरेगा तो निश्चित रूप बाज़ार में इस्पात खपत में बढ़ोत्तरी होगी और सेल पूरी तरह से देश की इस्पात मांग को पूरा करने के लिए तैयार है।”


सेल ने वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान, अब तक का सर्वाधिक 145 लाख टन का विक्रय दर्ज किया है, जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2018-19 के मुक़ाबले 2.8% अधिक है। इसी के साथ कंपनी ने वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान इसके पिछले वित्त वर्ष के मुक़ाबले 54% की बेहतरीन का छलांग लगाते हुए, अब तक का सर्वाधिक 11.8 लाख टन निर्यात किया है, जो कंपनी की बाजार पोर्टफोलियो को व्यापक बनाने के लिए अपनाई गई ठोस रणनीतियों की वजह से संभव हुआ है।  


सेल के अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी ने कहा, “कंपनी अपने रणनीतिक मार्केटिंग प्रयासों और पहलों के जरिये विक्रय लगातार बढ़ाने में लगी हुई है। सेल ने मूल्य-वर्धित और बाजार-उन्मुख उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला को विकसित करने और उसे बाज़ार में उपलब्ध कराने पर ध्यान केन्द्रित की है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान TMT बार का अपना एक नया ब्रांड सेल SeQR टीएमटी बार लांच किया है, जो गुणवत्ता और सुरक्षा के विभिन्न पैमाने पर TMT बार के अन्य उत्पादों से बेहतर है। हम धीरे-धीरे निर्यात हिस्सेदारी को बढ़ा रहे हैं और साथ ही रेलवे समेत विश्वस्तरीय उत्पादों का उत्पादन बढ़ाने में लगे हुए हैं।”


सेल ने विक्रय में लगातार वृद्धि हासिल की है, खासकर तीसरी तिमाही के बाद से। उल्लेखनीय है कि कंपनी ने वित्त वर्ष 2019-20 तीसरी तिमाही में विक्रय में 26% की वृद्धि दर्ज की है। कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के मुक़ाबले वित्त वर्ष 2019-20 के नवंबर’2019, दिसंबर’2019 और जनवरी’2020 के दौरान क्रमश: विक्रय में 36%, 47% और 35% बढ़ोत्तरी दर्ज की। सेल की ब्रांडेड SAIL SeQR  का 2 लाख टन का विक्रय लॉन्च होने के पहले ही साल में हो गया है, इसके साथ ही बाज़ार में इसकी बेहतरीन मांग बनी हुई है।


अनेक महत्वपूर्ण उपलब्धियों के अलावा, सेल ने इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव के लिए अब तक का सबसे अधिक 12,994 WAG9 रेल पहिये (व्हील) डिस्पैच किए हैं, सेल द्वारा WAG9 व्हील्स के उत्पादन से इसके आयात में कमी आएगी। कंपनी ने देश की महत्वपूर्ण रक्षा परियोजनाओं के लिए, पिछले पांच सालों में सबसे अधिक 7295 टन DMR प्लेटों की आपूर्ति भी की है। सेल ने वित्त वर्ष 2019-20 में, वित्त वर्ष 2018-19 के मुक़ाबले 30% की बढ़ोत्तरी के साथ, रेलवे के लिए UTS 90 प्राइम रेल का, अब तक का सर्वाधिक 12.85 लाख टन रिकॉर्ड उत्पादन किया है। कंपनी लगातार 260 मीटर रेल के उत्पादन को बढ़ा रही रही है और पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 में 260 मीटर रेल के उत्पादन में 52% की उछाल दर्ज की है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन