एटक का 17वाँ दिल्ली राज्य सम्मेलन सम्पन्न

नई दिल्ली : ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) का 17वाँ दिल्ली राज्य सम्मेलन रविवार दिनांक 28 जुलाई 2019 को दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित एटक भवन में सम्पन्न हुआ। सम्मेलन में एटक से सम्बंधित दिल्ली के विभिन्न ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधियों से भाग लिया। सम्मेलन की शुरुआत में एटक के राष्ट्रीय सचिव विद्या सागार गिरी ने उद्घाटन भाषण में उपस्थित प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए मौजूदा परिस्थितियों में मजदूरों के लिए बढ़ने वाली चुनौतियों पर विस्तार से बात किया। एटक दिल्ली के महासचिव धीरेन्द्र शर्मा ने सांगठनिक रपट प्रस्तुत किया, जिसपर उपस्थित प्रतिनिधियों ने अपने विचार रखे। सम्मेलन के अंत में एटक के राष्ट्रीय सचिव एस. वी. दामले ने समापन भाषण में उपस्थित ट्रेड यूनियन प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज श्रमिकों के लिए एक होकर चलने का समय है, तभी मजदूर विरोधी सरकार की श्रम कानूनों में बदलाव करके मजदूरों के अधिकारों के हनन करने की मंशा का मुकाबला किया जा सकेगा।


एटक के 17 वें दिल्ली राज्य सम्मेलन में उपस्थित विभिन्न ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधियों ने भविष्य में श्रमिक अधिकारों की रक्षा के लिए संघर्ष और कार्यक्रम की नई दिशा को तय करने के लिए नई कार्यकारिणी का सर्वसम्मत्ति से गठन किया। सम्मेलन में सुशील कुमार ने केंद्र सरकार द्वारा श्रम कानूनों में किए जा रहे मजदूर विरोधी संशोधनों और 44 केन्द्रीय श्रम कानूनों को 4 लेबर कोड में तब्दील करने के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया। विवेक श्रीवास्तव ने मानव द्वारा सीवर सफाई की व्यवस्था बनाए रखने के विरुद्ध प्रस्ताव पेश किया। मजदूर नेता महेंद्र पाल ने समान काम के लिए समान वेतन, ठेकेदारी प्रथा और निजीकरण से सम्बन्धित प्रस्ताव पेश किया। उक्त सभी प्रस्तावों को सम्मेलन ने सर्वसम्मत्ति से स्वीकृत कर लिया।


सम्मेलन में दिल्ली राज्य की नई कार्यकारिणी का गठन किया गया जिसमें रामराज को अध्यक्ष, धीरेन्द्र शर्मा को उपाध्यक्ष, मुकेश कश्यप को महासचिव, सुशील कुमार और शारदा देवी को सचिव बनाया गया।