श्रीराम बारात शोभायात्रा का भव्य आयोजन, नगरवासियों ने जगह-जगह किये स्वागत

 




 

नोएडा।श्रीराम मित्र मण्डल नोएडा रामलीला समिति द्वारा सेक्टर-62 के रामलीला मैदान में आयोजित रामलीला मंचन के पंचम दिन भगवान श्रीराम की बारात एवं शोभायात्रा सेक्टर 20  के हनुमान मंदिर से एस एम गुप्तासुधीर पोरवालशांतनु मित्तल,राकेश कुमारमनोज गोयलमुकेश गर्गएडवोकेट मनोज गुप्ताबजरंगलाल गुप्तासंदीप पोरवाल एवं प्रवीण गोयल के संयोजन में बड़े धूम धाम से निकाली गयी। समिति के चेयरमैन उमाशंकर गर्गअध्यक्ष धर्मपाल गोयल एवं महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने नारियल फोड़कर शोभायात्रा का शुभारंभ किया। सेक्टर 20 से निकली भगवान श्रीराम की बारात सैकङों की संख्या में मौजूद लोगों ने जय श्रीराम के नारे लगा कर वाता वरण को राममय कर दिया। ढोलबेंड बाजेघोड़ों रथों के साथ निकली राम बारात का जगह जगह फूल मालाओं के साथ भव्य स्वागत किया गया । भगवान गणेश ब्रहमाशंकररामलक्ष्मण ,भरत ,शत्रुघ्न ,ऋषि वशिष्ठ एवं अन्य राजा अपने अपने रथों एव घोड़ों पर सवार होकर निकले। हुनमान मंदिर समिति द्वारा बारा का भव्य स्वागत किया गया ततपश्चा सेक्टर 22-26 के गेट, 19, हरौला सेक्टर 5, 9,11,12,22,55,56  होते हुए रामलीला स्थल पहुंची  दौरान सेक्टर 20- 26 गेट पर बीना गोयलसेक्टर 19 शर्मा हॉस्पिटल पर पोरवाल समाजसेक्टर 9 में  - 1 पर राजीव जैनएच - 1 राजेश गिरधरआई - 9 पर जनता साईकिलआई - 65 पर सुशील सिंघलआई - 67 पर आत्माराम,आई - 70 पर मुकेश गर्गबांस मंडीशिवानी फर्नीचर पर राकेश गुप्ताएच - 100 सेक्टर 12 पर राधाकृष्ण गर्ग एवं प्रदीप ग्रवालमेट्रो हॉस्पिटल पर सतपाल बंसलस्टैंडर्ड स्वीटसुमित्रा हॉस्पिटल पर डॉ वी  के गुप्तापेट्रोल पंप सेक्टर 12 पर अनिल चौहानसेक्टर 55- 56 तिराहे पर उतर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल , सेक्टर 55 में श्यामलाल,श्रीकांत बंसलबजरंग लालबारात घरखोड़ा लेबर चौक पर मनोज गुप्ता द्वारा विभिन्न स्थानों पर बारा का स्वागत किया गया। सायंकाल श्रीराम बारात सेक्टर-62 स्थित रामलीला स्थल पर पहुंची,जहां राजा जनक ने बारातियों का स्वागत किया।

तत्पश्चात मुख्य अतिथि मुख्य अतिथि नवाब सिंह नागरपूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश एवं वरिष्ठ भाजपा नेता द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ लीला का शुभारंभ हुआ। इसके उपरांत चारमंडपों में श्रीराम जानकी सहित चारों भाइयों का विधि विधान से विवाह संपन्न होता है। विवाह के पश्चात राजा जनक से अयोध्या नगरी वापस जाने की आज्ञा माँगने पर राजा जनक की आखों से अश्रु छलक पड़ते हैं। जानकी विदाई का मार्मिक मंचन किया गया जिसमे जानकी विदाई के समय राजा जनक की हृद यवय्था का मार्मिक मंचन किया गया। राजा दशरथ गुरू वशिष्ठ जी से कहते हैं कि मेरी एक अभिलाषा हैं कि राम को युवराज पद दे दिया जाये यह सुनकर मुनि वशिष्ठ अति प्रसन्न हुए। राजा ने अपने मंत्री और सेवकों को बुलाकर पूछा अगर आप लोगों को अच्छा लगे तो राम का राजतिलक कर दिया जाये।  राम के राज तिलक की बात सुनकर सभी अयोध्या वासी खुशी से झूम उठते हैं और गाते हैं । उधर देवता सोचते हैं कि अगर राम को वनवास नहीं होता हैं तो निशाचरों का नाश कैसे होगा  इसके लिए उन्होंने सरस्वती जी से प्रार्थना की और सरस्वती कैकेयी की दासी मंथरा की बुद्धि  फेर देती हैं। मंथरा कैकेयी को समझाती हैं कि इस राजतिलक में सिर्फ राम का भला है । भरत को कुछ नहीं मिलेगा। कैकेयी कोप भवन में चली जाती हैं और जब राजा दशरथ कैकेयी से कोप भवन में जाने का कारण पूछते हैं तो वह राजा को पहले दिये गये उनके वचन को याद दिलाती है कि समय आने पर दो वरदान मांग लेनामैं पहला वरदान भरत को राज व दूसरा रामको 14 वर्ष का वनवास मांगती हूँ। राजा के समझाने के बावजूद कैकेयी नहीं मानती तो यह सुनकर दशरथ हेराम हेराम कहते हुए मूर्छित होकर जमीन पर गिर पड़ते हैं। मीडिया प्रभारी मुकेश गुप्ता ने बताया कि कल 20 अक्टूबर को निषादराज गुहा से भेंटराम केवट संवादभरत कैकई संवादभरत मिलापसुपर्णखा का प्रणय निवेदन लेकर राम लक्ष्मण के पास जानानासिक छेदनखर दूषण वधरावण दरबार में सुपर्णखासीता हरणसीता की खोज में जानाशबरी आश्रम में पहुंचना आदि प्रसंगों का मंचन किया जायेगा। इस अवसर पर समिति के कोषाध्यक्ष राजेन्द्र गर्गसलाहकार मनोज शर्मासह-कोषाध्यक्ष अनिल गोयलवरिष्ठ उपाध्यक्ष सतनारायण गोयलराजकुमार गर्गचौधरी रविन्द्र सिंहतरुणराजपवन गोयलबजरंग लाल गुप्ताएस एम गुप्ताअजीत चाहरगौरव मेहरोत्राआत्माराम अग्रवालमुकेश गोयलमुकेश अग्रवालमनोज शर्मामीडिया प्रभारी मुकेश गुप्तागिरिराज बहेडियाशांतनु मित्तलसुधीर पोरवालमोतीराम गुप्ताअर्जुन अरोड़ाआर के उप्रेती सहित श्रीराम मित्र मंडल नोएडा रामलीला समिति के सदस्यगण  शहर के गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा

इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल न लाया जाय और निजीकरण का विफल प्रयोग वापस लिया जाय : ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन