अमित शाह ने ग्रेटर नोएडा में 4 करोड़वें वृक्ष का किया रोपण



एस एन वर्मा

ग्रेटर नोएडा। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री  अमित शाह ने आज सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर, ग्रेटर नोएडा में गृह मंत्रालय के अखिल भारतीय वृक्षारोपण अभियान के अंतर्गत 4 करोड़वें वृक्ष का रोपण किया।
 अमित शाह ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल  के 8 विभिन्न परिसरों में 165 करोड़ रूपए की लागत से कुल 15 नवनिर्मित भवनों और इमारतों का ई-उद्घाटन भी किया। इनमें, 57 करोड़ रूपए की लागत से 102 रैपिड टास्क फोर्स में 220 पारिवारिक आवास का निर्माण, 17 करोड़ रूपए की लागत से ग्रुप सेंटर, रायपुर में 50 बिस्तरों वाले अस्पताल का निर्माण, 16 करोड़ रूपए की लागत से रिक्रूट ट्रेनिंग सेंटर जोधपुर में प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्ड और परेड ग्राउंड, 11 करोड़ रूपए की लागत से ग्रुप सेंटर, रायपुर में 240 मैन बैरक का निर्माण, और देश के विभिन्न हिस्सों में अस्पताल, जिम, मेस, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, कैंटीन आदि का निर्माण शामिल है।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि सभी केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के लिए आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि 3 साल पहले यह तय किया गया था कि दिसंबर, 2023 से पहले हम 5 करोड़ वृक्ष लगाएंगे और गैप फिलिंग के बाद इन्हें बड़ा कर दुनिया को समर्पित करेंगे। श्री शाह ने विश्वास व्यक्त किया कि दिसंबर, 2023 तक 5 करोड़ वृक्ष लगाने का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारे  सभी जवानों और उनके परिजनों ने इस असंभव दिखने वाले काम को संभव करने के लिए इसे एक चुनौती की तरह लिया, लगाए गए वृक्ष को अपना दोस्त माना और उनकी देखभाल के लिए समय निकाला। उन्होंने कहा कि आज 4 करोड़वां पौधा, वो भी पीपल का, लगाया गया है। श्री शाह ने कहा कि 4 करोड़ हरे-भरे वृक्षोंके माध्यम से पृथ्वी को हरा-भरा करने में सभी का योगदान हमेशा याद किया जाएगा। यह अभियान सीआरपीएफ की शौर्यगाथा के साथ-साथ पृथ्वी के संरक्षण और जलवायु परिवर्तन के प्रति उनकी संवेदना की एक नई गाथा लिखेगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 1 करोड़ 50 लाख पौधों का रोपण करने का लक्ष्य है, अब तक कुल 4 करोड़ पौधे लगाये जा चुके हैं और हम बहुत जल्द ही 5 करोड़ वृक्ष रोपित करने का लक्ष्य प्राप्त कर लेंगे।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आज परमवीर चक्र विजेता लेफ्टिनेंट कर्नल एबी तारापोर की जयंती है, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए ना केवल सर्वाेच्च बलिदान दिया बल्कि अपनी वीरता से मोर्चे की प्रथम पंक्ति में रहते हुए सभी की हौंसला अफज़ाई करने का एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत किया। श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने अंडमान - निकोबार में एक द्वीप को लेफ्टिनेंट कर्नल एबी तारापोर का नाम देकर हमेशा के लिए उन्हें लोगों की स्मृति में जीवित रखने का काम किया है।

श्री अमित शाह ने कहा कि 5 करोड़ वृक्ष लगाने का अखिल भारतीय वृक्षारोपण अभियान पर्यावरण संरक्षण के एक महाकुंभ की तरह है। उन्होंने कहा कि देश के सभी ब्।च्थ्े के जवानों ने अपनी वीरता, बलिदान, त्याग और परिश्रम से देश की आंतरिक सुरक्षा और सीमाओं की सुरक्षा को हमेशा चाकचौबंद रखा है। उन्होंने कहा कि देश की आंतरिक सुरक्षा, आपदा प्रबंधन, सीमा सुरक्षा और सीमाओं पर स्थित प्रथम गाँवों में जन सुविधाएं पहुँचाने के साथ-साथ अब ब्।च्थ्े वृक्षारोपण अभियान से पर्यावरण संरक्षण की दिशा में अभूतपूर्व काम कर रही हैं। प्राकृतिक आपदाएं हों या फिर कोरोना जैसी महामारी, हमारे सीआरपीएफ ने अपनी जान की परवाह किए बिना जनता पर आए हर संकट में साथ खड़े रहने का जज़्बा दिखाया है। श्री शाह ने कहा कि आज हमारी सीआरपीएफ वायब्रंट विलेज कार्यक्रम के माध्यम से देश की सीमाओं पर स्थित हमारे प्रथम गांवों में जनसेवा और जनसुविधा को ज़मीन पर उतारने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब एक और आयाम इसके साथ जुड़ा है जिसके तहत हमारे सीआरपीएफ पर्यावरण की सुरक्षा के लिए भी संवेदनशील तरीके से सतत प्रयास कर 4 करोड़ वृक्षों को बड़ा कर चुके हैं और इस वर्ष दिसंबर तक 5 करोड़ वृक्ष रोपण के लक्ष्य को हासिल कर लेंगे।

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि वृक्षारोपण से ही पर्यावरण संरक्षण संभव है, आज लगाया गया एक वृक्ष आने वाली कई पीढ़ियों को ऑक्सीजन देने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि आज जिस तरह से प्रदूषण बढ़ रहा है, इससे ओज़ोन की परत को नुकसान हो रहा है और इसके कारण भविष्य में सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ेंगी, जिससे पृथ्वी मानव जीवन के लिए सुरक्षित नहीं रह सकेगी। उन्होंने कहा कि इससे बचाव का एकमात्र रास्ता हैकि ज्यादा से ज्यादा वृक्ष रोपित किए जाएं और कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन कम से कम हो। श्री शाह ने कहा कि वृक्ष लगाते समय दो चीजों का ख्याल रखा गया है। एक वृक्ष लंबी आयु वाले हों और दूसरी, पीपल, बरगद, नीम, जामुन आदि जैस  ज्यादा ऑक्सीजन देने वाले वृक्ष लगाये जायें। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के सभी वृक्ष 100ः से लेकर 60ः तक ऑक्सीजन उत्सर्जन करने वालेहैं। उन्होंने कहा कि लगाए गए सभी वृक्ष कई सालों तक पृथ्वी का संरक्षण करने का काम करेंगे।
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा

सेक्टर 122 हुआ राममय. दो दिनों से उत्सव का माहौल