*मराठा समाज की तरह पूरे देश में गरीब क्षत्रिय समाज को भी मिले 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ: रामदास आठवले*

-सर्वदलीय बैठक में पीएम नरेन्द्र मोदी के सामने उठाई कई बड़ी माँग- ग़रीबों  को  मुफ्त में मिले कोरोना वैक्सीन

अनूसूचित जाति के लोगो के लिए अलग यूनिवर्सिटी बनाने की मांग

नईदिल्ली /मुंबई  ।रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आठवले) के राष्ट्रीय अध्यक्ष   एवं भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी  से  मराठा समाज की तर्ज पर पूरे देश में गरीब क्षत्रिय समाज के लोगों को भी 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ देने की माँग उठाई।  जातिगत गणना, प्रमोशन में आरक्षण मुद्दा संसद में पास करने की भी मांग केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  से की है ।

 आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के द्वारा सर्वदलीय बैठक हुई,जिसमे केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने हिस्सा लिया।26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली में लालकिले पर हुए उग्र व हिंसक आंदोलन पर विरोध प्रकट करते हुए दोषियों पर उचित कार्यवाही करने की मांग रामदास अठावले ने  कहा कि नए कृषि कानून के सन्दर्भ में संसद अधिवेशन के दौरान पुनः चर्चा करने व आवश्यक सुधार करने का उन्होंने सुझाव दिया। 

कोरोना काल के दौरान देश में लाखों लोगों की जान  बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की भी रामदास आठवले ने प्रंशसा की तथा उनका अभिनंदन किया। 

इस दौरान केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने महत्वपूर्ण मांग करते हुए कहा कि देश मे सभी गरीबों को मुफ्त में  कोरोना वेक्सीन लगनी चाहिए। जिसका खर्च राज्य शासन,जिला परिषद, महापालिका आदि सरकारी संस्थानों को वहन करना चाहिए।

 इस महत्वपूर्ण बैठक के दौरान रामदास आठवले ने कहा कि आदिवासी  (एसटी) लोगो के लिए देश मे अलग विद्यापीठ है। उसी तरह देश मे एससी अनुसूचित जाति के लोगो के लिए अलग विद्यापीठ यूनिवर्सिटी की स्थापना होनी चाहिये।

  स्कॉलरशिप में भी बढ़ोतरी करने की मांग इस दौरान की गई।  प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए आठवले ने कहा कि देश मे गरीबी के अंतर को कम करने के लिए सभी भूमिहीन लोगों को सरकार की तरफ से 5 एकड़ जमीन मुफ्त मिलनी चाहिए। ऐसी अनेक मांग आज सर्वदलीय बैठक के दौरान केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने की।