मेघा इंजीनियरिंग कंपनी बनाएगी कश्मीर लद्दाख हाईवे पर 14.2 किमी की जोजिला पास सुरंग

New Delhi


हिमालय पर्वत क्षेत्र में जम्मू कश्मीर से कारगिल होते हुए लेह तक का अति महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट विपरीत मौसम में करीब 4509.50 करोड़ की लागत से बनेगी जोजिला पास सुरंग भारतीय सेना और अमरनाथ यात्रियों के अलावा श्रीनगर से लद्दाख की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए सुविधा बढ़ जाएगी भारत के हिमालय पर्वत क्षेत्र में अति महत्वपूर्ण जम्मू कश्मीर से लद्दाख तक की जोजिला पास सुरंग मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रस्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी बनाएगी।


राष्ट्रीय राजमार्ग एवं औद्योगिक विकास कॉर्पोरेशन द्वारा शुक्रवार को जोजिला पास सुरंग बनाने का टेंडर हैदराबाद की कंपनी मेघा इंजीनियरिंग को दिया गया जिसने एल-1 में सबसे कम दर कोट की थी। जम्मू कश्मीर से कारगिल होते हुए लेह तक की करीब 33 किलोमीटर की यह परियोजना को 2 भाग में बाटा गया है जिसमें पहले 18.50 किलोमीटर की रोड का निर्माण होगा। परियोजना के दूसरे चरण में करीब 14.15 किलोमीटर का जोजिला पास में सुरंग बनेगी जिसमे 9.5 मीटर चौड़ी और 7.57 मीटर ऊंची 2 लेन की रोड मेघा इंजीनियरिंग द्वारा बनाई जाएगी।


सर्दी के मौसम में बर्फबारी के कारण श्रीनगर से लद्दाख तक का हाईवे 4-6 महीने तक के लिए अधिकतर बंद हो जाता है जिससे आवागमन में बहुत परेशानी होती है, भारत की सेना की भी गाड़ी के आवागमन में परेशानी होती है जिसको देखते हुए भारत सरकार ने जोजिला पास में सुरंग बनाने का प्रस्ताव पारित किया। प्रस्तावित रोड सोनमर्ग से कारगिल होते हुए लेह को जोड़ेगी। इस परियोजना में विपरीत मौसम, पहाड़, नदी और ऊंची चोटियों के कारण बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। यह सुरंग ज़मीन से करीब 700 मीटर अंदर बनाई जाएगी।


मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रस्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर सी एच सुबैया ने बताया कि जोजिला पास सुरंग में 2 लेन की रोड बनाई जाएगी जिसमें 2 तरफ से ट्रैफिक चलेगा जिसे सिंगल ट्यूब टनल कहते हैं। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में करीब 72 महीने लगेंगे। जोजिला सुरंग बनने के बाद अमरनाथ यात्रियों के लिए भी सुविधा बढ़ेगी। 30 जुलाई 2020 को 3 कंपनियों द्वारा इस सुरंग को बनाने के लिए टेंडर भरा था जिसमे सबसे कम दर में मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रस्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी ने टेंडर भरा था जिसमें राष्ट्रीय राजमार्ग एवं औद्योगिक विकास कॉर्पोरेशन द्वारा 21 अगस्त को इस प्रोजेक्ट का कार्य हमारी कंपनी को सौंपा गया।