पुलिस ने नोएडा से अगवा डीआरडीओ के साइंटिस्ट सकुशल मुक्त कराया

 महिला समेत तीन गिरफ्तार, हनीट्रैप में फंसाकर किया था अपहरण, मांगी थी 10 लाख की फिरौती


नोएडा। सेक्टर-77 में रहने वाले रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) में तैनात साइंटिस्ट को वेबसाइट के माध्यम से स्पा में मसाज के लिए बुलाकर का अपहरण कर हनीटैप में फंसाने की साजिश की गई। आरोपियों ने उन्हें छोड़ने की एवज में मोटी फिरौती की डिमांड की। परिजनों की सूचना पर सक्रिय हुई जिले की पुलिस ने उन्हें सेक्टर-35 स्थित एक होटल से सकुशल मुक्त करा लिया। पुलिस ने एक महिला समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। बदमाशों के कब्जे से होन्डा सिटी कार तथा घटना में इस्तेमाल मोबाइल फोन बरामद बरामद किया गया है। इस घटना के अनावरण पर अपर मुख्य सचिव गृह ने गौतमबुद्धनगर कमिश्नरेट की पुलिस टीम को 5 लाख रुपये का नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है। 


सेक्टर-6 स्थित आफिस में सोमवार को हुई प्रेस कान्फ्रेंस में एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि दिनांक 27 सितंबर को सेक्टर-77 निवासी प्रतीक विस्टीरिया सोसायटी निवासी सुषमा वर्मा ने पुलिस को सूचना दी कि उनके पति अजय प्रताप 26 सितंबर की शाम करीब 05.30 से 06.00 बजे के बीच घर का सामान लेने के लिए अपनी होन्डा सिटी कार से सेक्टर-32 स्थित सिटी सेन्टर गए थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। 26 सितंबर की रात करीब 11 बजे अजय प्रताप ने पत्नी सुषमा वर्मा को फोन कर बताया कि बदमाशों ने उन्हें पकड़कर एक कमरे में बंद कर रखा है और पैसे मांग रहे हैं। सुषमा वर्मा को एक अन्य से फोन कॉल आई, जिसमें पुरुष व महिला दोनों की आवाज आ रही थी और वे अजय प्रताप को छोड़ने के एवज में 10 लाख रुपये की फिरौती की मांग कर रहे थे। बदमाशों ने पुलिस को सूचना देने पर सुषमा वर्मा और उनके पति अजय प्रताप को जान से मारने की धमकी दे रहे थे। सुषमा वर्मा ने पति को छुड़ाने के लिए 10 लाख रुपये का इंतजाम करने का प्रयास किया। इन्तजाम न होने पर उन्होंने थाना सेक्टर 49 को घटना की लिखित जानकारी दी। 


एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही पुलिस आयुक्त के निर्देश पर अपर पुलिस आयुक्त लव कुमार ने घटना के अनावरण व अपहृत की बरामदगी के लिए 03 टीमों का गठन किया। इसमें नोएडा जोन सर्विलांस टीम, स्टार 02 टीम तथा थाना सेक्टर 49 की टीम शामिल थी। सर्विलांस टीम की सहायता से लोकेशन ट्रेस कर लोकेशन पर पहुंचने पर होंडा सिटी कार में तीन लोग मिले। वे कहीं भागने की फिराक में थे। पुलिस ने कार में सवार चालक सीट पर बैठे व्यक्ति दीपक पुत्र राजेश निवासी जिला भिवाडी हरियाणा वर्तमान पता आई 64 ओयो होटल सेक्टर-41 नोएडा को पकड़ लिया। कार की पिछली सीट पर बैठे दो व्यक्ति भाग निकले। पुलिस ने पीछा किया, लेकिन दोनो अंधेरा का फायदा उठाकर भागने में सफल हो गए। 


रणविजय सिंह ने बताया कि पकड़े गये दीपक ने पूछताछ में अपहरण की घटना में खुद को शामिल होना स्वीकार किया। उसकी निशानदेही पर ओयो होटल के कमरा नंबर-203 में दबिश देकर सुनीता गुर्जर पत्नी देवेन्द्र गुर्जर निवासी गांव आगाहपुर सेक्टर-41 नोएडा और राकेश उर्फ रिंकू फौजी पुत्र दिनेश कुमार निवासी गांव चेहड़का थाना बहल जिला भिवाडी हरियाणा को गिरफ्तार कर लिया और उनके कब्जे से अपहृत डीआरडीओ के साइंटिस्ट अजय प्रताप को सकुशल मुक्त करा लिया। 


पूछताछ में तीनों अभियुक्तो ने बताया कि वे और उनके साथियों अनिल कुमार शर्मा व आदित्य कुमार ने ही अजय प्रताप को हनी ट्रैप में फंसाकर, अगवा कर इस होटल के कमरा नंबर-203 में बंधक बनाकर रखे थे। अपहृत की पत्नी से काल करके 10 लाख रुपये की फिरौती की मांग की औनर रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने बताया कि फरार अभियुक्त अनिल कुमार शर्मा पुत्र रामजी लाल और आदित्य कुमार पुत्र मुलेश सिंह को भी शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।