व्यापार में घाटा और बेरोजगारी अब लोगों के जीवन पर पड़ने लगा भारी ,जज के बेटे और महिला ने की आत्महत्या

लॉकडाउन के कारण व्यापार में घाटे से सदमे में था जज का बेटा


नोएडा। व्यापार में घाटा और बेरोजगारी अब लोगों के जीवन पर भारी पड़ने लगा है। रविवार को शहर में दो लोगों के आत्महत्या करने का मामला उजागर हुआ है। इनमें एक जज का बेटा भी शामिल है। बताया जाता है कि लॉकडाउन के कारण व्यापार में घाटे के कारण वह अवसाद में था। 


जानकारी के मुताबिक थाना सेक्टर-39 क्षेत्र स्थित सेक्टर-46के ए-136 में एडीजे सुबा सिंह रहते हैं। फिलहाल वह आगरा में तैनात हैं। वह गौतमबुद्ध नगर में भी रह चुके हैं। उनका बेटा शैलेंद्र सिंह उर्फ सन्नी यहीं रहता है। उसकी सेक्टर-40 में मोबाइल की दुकान है। बताया जाता है कि लॉकडाउन के कारण दुकान बंद होने से उसे भारी नुकसान हुआ है, जिससे वह अवसाद में रहने लगा था। शनिवार की रात किसी वक्त शैलेंद्र सिंह पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी है। 


इस बीच, थाना फेज-दो क्षेत्र के सेक्टर-82 में एक 32 वर्षीय महिला ने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस के मुताबिक रविवार की सुबह सूचना मिली कि सेक्टर-82 के 122डी एलआईजी, उद्योग बिहार में रहने वाले आदिल रशीद की 32 वर्षीय पत्नी रोजी बेगम ने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली है। पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले परिजन एक निजी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन