लॉकडाउन में बोरियत और डिप्रेशन दूर करने में सफल रहा ऑनलाइन डांस क्लासेस प्रतियोगिता के सफल बच्चों और महिलाओं को समाजसेवी रश्मि पांडेय ने पुरस्कृत किया

ग्रेटर नोएडा। ग्रीनआर्च में चलाई जा रही निशुल्क ऑनलाइन डांस, जुम्बा और पिलातेस की क्लास में शामिल होने वालों की प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। डांस कांटेस्ट में 11 बच्चों और 13 महिलाओं को अलग-अलग श्रेणियों में विजेता घोषित किया गया। विजेताओं को संस्था की ओर से प्रमाण पत्र दिए गए। सफल प्रतियोगियों को नेफोमा की महासचिव रश्मि पांडेय ने पुरस्कार वितरित किए। ईएमसीटी ट्रस्ट की वाइस प्रेसिडेंट अनामिका सारस्वत ने बताया कि लॉकडाउन के कारण लोग घरों में रहते-रहते ऊबने लगे थे। कुछ लोग तो डिप्रेशन के शिकार होने लगे थे। संस्था ने ऐसे लोगों को ऑनलाइन मनोरंजन (डांस, जुम्बा और पिलातेस) के साथ ही व्यायाम ट्रेनिंग की सुविधा देने का फैसला किया। इस काम में एडीसी इंस्टीट्यूट ने सहयोग किया। उसने घरों में कैद बच्चों और बड़ों ऑनलाइन डांस, जुम्बा और पिलातेस क्लासेस देने की शुरुआत की। इस कार्यक्रम के नतीजे बहुत उत्साहजनक रहे। अनामिका सारस्वत ने बताया कि ऑनलाइन डांस, जुम्बा और पिलातेस क्लासेस अटेंड करने वालों की एक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। उसमें विभिन्न श्रेणियों में 11 बच्चे और 13 महिलाएं सफल घोषित की गईं। प्रतियोगिता के ग्रुप-1 में पांच वर्षीय दृष्टि वार्ष्णेय प्रथम, 13 साल की सिमर गगनेजा द्वितीय और 10 वर्षीय पावनी श्रीवास्तव तृतीय रहीं। ग्रुप-2 में ज्योति जगवानी को पहला और दीप्ति मेंखुरी को दूसरा स्थान मिला। मुख्य अतिथि समाजसेवी रश्मि पाण्डेय ने सफल प्रतियोगियों को पुरस्कार और प्रमाण पत्र वितरित किए। अपने संबोधन में रश्मि पांडेय ने प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया और भविष्य की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने लॉकडाउन में लोगों के मनोरंजन के साथ ही स्वास्थ्य के लिए चलाए गए इस कार्यक्रम की सराहना की। इसके लिए उन्होंने संस्था की वाइस प्रेसिडेंट अनामिका सारस्वत को बधाई दी।