क्या खोया, क्या पाया

(क्या खोया क्या पाया)


पहले वो ख़ुद आते थे 
फिर तार..
फिर चिट्ठि
फिर कार्ड
फिर फ़ोन 
फिर मैसेज
फिर ईमोजी
फिर...


रेसपोंस टाईम तो कम हुआ.
क्या क्या दूर हुआ 
अब जाना मैंने !!!


shashank@LockDown.


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

सेक्टर 122 हुआ राममय. दो दिनों से उत्सव का माहौल

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा