क्या खोया, क्या पाया

(क्या खोया क्या पाया)


पहले वो ख़ुद आते थे 
फिर तार..
फिर चिट्ठि
फिर कार्ड
फिर फ़ोन 
फिर मैसेज
फिर ईमोजी
फिर...


रेसपोंस टाईम तो कम हुआ.
क्या क्या दूर हुआ 
अब जाना मैंने !!!


shashank@LockDown.


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सुपरटेक टावर के ध्वस्त होने के बाद बढ़ेंगी स्वास्थ्य चुनौतियां, रखें ये सावधानियॉ

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

आत्मसाक्षात्कार को आतुर साधकों को राह दिखाने के लिए ईश्वर द्वारा भेजे गए संत थे योगानंद- स्वामी स्मरणानंद