कैट ने ई कॉमर्स बाजार में भारतईमार्किट.इन के साथ बढ़ाया कदम

नोएडा


कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट  ने आज देश के सभी खुदरा व्यापारियों के लिए एक राष्ट्रीय ईकामर्स मार्केटप्लेस "भारतईमार्किट.इन " के जल्द ही लॉन्च करने की आज घोषणा की। सुशील कुमार जैन संयोजक कैट दिल्ली एन सी आर ने बताया कि इस ईकॉमर्स मार्केटप्लेस में कैट विभिन्न प्रौद्योगिकी कंपनियों की क्षमताओं को एकीकृत करेगा ताकि वे उपभोक्ताओं को उनके घर पर ही सामान की डिलीवरी सहित लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन को पूरे देश में इस पोर्टल के माध्यम से एकीकृत कर सके इस  ई-कॉमर्स पोर्टल में देश के खुदरा विक्रेताओं जिन्होंने वर्षों से भारतीय उपभोक्ताओं की सेवा की है और कई मामलों में पीढ़ियों तक भी उपभोक्ताओं के साथ सम्बंद बनाये हुए हैं की राष्ट्रीय स्तर पर भागीदारी होगी  । 


कैट  के राष्ट्रीय महामंत्री  प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि पूरे देश में दूरदराज के क्षेत्रों में भी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में व्यापारियों की शानदार भूमिका को स्वीकार करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में किए गए तीन लगातार ट्वीट्स में व्यापारियों के योगदान को रेखांकित किया है ! कैट ने प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया और डिजिटल भुगतान के दृष्टिकोण को अमली जामा पहनाने के लिए कैट ने वाणिज्य मंत्रालय के डीपीआइआइटी के शुरूआती सहयोग से इस राष्ट्रीय ई मार्केटप्लेस में भारत के 95% खुदरा व्यापार को व्यापारियों को जोड़ने का बीड़ा उठाया है ! इसमें जुड़ने वाले व्यापारी इस पोर्टल के शेयरधारक भी होंगे  और यह पोर्टल व्यापारियों द्वारा, व्यापारियों का और व्यापारियों एवं उपभोक्ताओं का ही होगा जिसमें किसी बी प्रकार का विदेशी हस्तक्षेप नहीं होगा !व्यापारियों को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए। प्लेटफॉर्म पर प्रत्येक व्यापारी को बोर्ड पर, शेयरधारक होगा !


श्री खंडेलवाल ने आज एक वीडियो प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि पोर्टल डीपीआइआइटी के विभिन्न अनुभवों का एक उप-उत्पाद है जिसके अंतर्गत कैट ने डीपीआईआईटी के साथ काम करते हुए लॉकडाउन की अवधि के दौरान देश भर में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सफलतापूर्वक सुनिश्चित की है । डीपीएआईआईटी  के तहत स्टार्टअप इंडिया डिवीजन ने उपभोक्ताओं द्वारा ऑनलाइन ऑर्डर करने के लिए स्थानीय किराना स्टोरों की मदद करने के लिए सप्लाई चेन में काम करने वाली विभिन्न कंपनियों और स्टार्टअप्स के प्रयासों को समन्वित लिया  है। 


श्री खंडेलवाल ने बताया की “कैट ने  पहले इस कार्यक्रम को पायलट के रूप में शुरू किया जिसमें शुरू में 6 शहरों में आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया जिसमें  प्रयागराज, गोरखपुर, वाराणसी, लखनऊ,नोएडा, कानपुर और बेंगलुरु शहर शामिल थे ! इन सभी शहरों  में रिटेलर्स  और उपभोक्ताओं का जबरदस्तबसहयोग मिला जिससे उत्साहित होकर अब फिलहाल पिछले दो हफ्तों  में यह  90 सर अधिक शहरों तक पहुंच गया है।कैट डीपीआइआइटी  के सक्रिय समर्थन और मार्गदर्शन के लिए बहुत आभारी हैं, क्योंकि लॉकडाउन अवधि के दौरान  देस के विभिन्न शेरोन में उपभोक्ताओं को आवश्यक वस्तुओं के वितरण में उनका बहुत सहयोग प्राप्त हुआ है !


श्री खंडेलवाल ने कहा कि डीपीआईआईटी के शुरुआती समर्थन के साथ देश भर के व्यापारी एक बार फिर से भारतीय उपभोक्ताओं की सेवा करेंगे और युवा भारत की बदलती प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए - ऑनलाइन और अभी तक पड़ोस की दुकानों को ऑनलाइन व्यापार से जोड़ेंगे । भारतीय उपभोक्ता जल्द ही एक बटन के क्लिक पर अपने फोन और उपकरणों पर अपनी आवश्यकता के अनुसार कुछ भी ऑर्डर कर सकते हैं और इसे थोड़े समय के भीतर निकटतम पड़ोस की दुकान से प्राप्त कर सकते हैं। पोर्टल की संपूर्ण लॉजिस्टिक प्रणाली सभी सुरक्षा और स्वच्छता आवश्यकताओं का कड़ाई से पालन करेगी। व्यापारी, उनके कर्मचारी और सभी वितरण वाले व्यक्ति अपनी सुरक्षा के लिए हमेशा अरोग्य सेतु ऐप का उपयोग करेंगे।


कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया ने कहा, “व्यापारियों और उपभोक्ताओं के लिए कैट के नेतृत्व वाला राष्ट्रीय ई -मार्केट व्यापारियों पोर्टल देश के रिटेल व्यापार में एक बड़ी क्रांति लाएगा ! इस पोर्टल से जुड़ने वाले व्यापारी इस मार्केटप्लेस के एक हिस्से के मालिक होंगे और पोर्टल में  दुनिया में सबसे बड़ा ई कॉमर्स पोर्टल  बनने की क्षमता है। पोर्टल का मिशन भारत की पारंपरिक स्व-संगठित व्यापारिक को डिजिटल तकनीक से जोड़ कर निर्माता से लेकर अंतिम उपभोक्ता तक सामान पहुंचाने की जिम्मेदारी होगी ! देश के  उपभोक्ताओं को पूर्ण विकल्प और अधिकतम सुविधा प्रदान करना इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य है। पोर्टल की विशिष्ट विशेषता यह है कि पोर्टल का सारा डाटा भारत में ही रहेगा ! 


 सुशील कुमार जैन ने बताया की इस पोर्टल की विशेषता यह है की एक ही पोर्टल पर ग्राहक हर प्रकार का सामान खरीद सकते हैं और पोर्टल पर बिकने वाले सामान पर कोई भी शुल्क नहीं लगेगा तथा व्यापारियों की ई दुकाने बिना किसी शुल्क के बनाई जाएंगी ! कोई भी उपभोक्ता अपने निकटतम  रिटेलर से सामान खरीद सकेगा  जिसकी डिलीवरी तुरंत की जायेगी । अन्य पोर्टलों की अपेक्षा इस पोर्टल में सामान की गुणवत्ता, कीमत तथा डिलीवरी बहुत  ही कम समय में होगी ।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन