दिल्ली में दो दिवसीय अ. भा. वेद विज्ञान सम्मेलनका शुभारंभ

 


वेद तार्किक, व्यवहारिक और यथार्थ भी हैं-श्री ओम बिरला

अमृत काल भारत के सांस्कृतिक पुनरोत्थान का कालखंड-श्री तोमर

स्वामी चिदानंदजी, कृषि राज्य मंत्री श्री चौधरी, पूर्व केंद्रीय मंत्रीश्री सत्यपाल सहित गणमान्यजन शामिल

नई दिल्ली ;,विश्व वेद परिषद् एवं परमार्थ निकेतन के तत्वावधान में आयोजित दो दिनीवेद विज्ञान महोत्सव का शुभारंभ आज लोक सभा अध्यक्ष  ओम बिरलाके मुख्य आतिथ्य तथा केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री  नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में व स्वामी चिदानंद सरस्वती, कृषि राज्य मंत्री  कैलाश चौधरी, पूर्व केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह सहित अन्य गणमान्यजन की उपस्थितिमें हुआ। इस अवसर पर श्री बिरला ने कहा किवेद सिर्फ ग्रंथ नहीं हैं, बल्कि हमारी संस्कृति हैवेद तार्किक है, व्यवहारिक है और वेद यथार्थ भी है, जो आज दुनियाभर के लिए अनुसंधान का केंद्र बन चुके हैं।

      मुख्य अतिथि  बिरला ने कहा कि वेद की जितनी व्याख्या की जाएं, कम है। वैज्ञानिकों ने भी माना है कि जो कुछ भी विज्ञान में है, वह वेद के कारण है। उस समय ऋषि-मुनियों ने अपने विचार, ज्ञान व अनुभव, जो वेद के माध्यम से समाज को दिए, वह सत्यार्थ है, सत्य है, यह आज प्रमाणित हुआ है। चाहे सामाजिक जीवन हो, मानवीय जीवन हो या राष्ट्र जीवन, जीवन की हर जिज्ञासा व आवश्यकताओं को समेटने का काम वेद में है। इसीलिए, आज हम कह सकते हैं कि वेदऔर विज्ञान पर अनुसंधान अनवरत चलता रहेगा, जिनमें वेदों की अलग-अलग व्याख्या होती रहेगी। वेदों ने हमें आध्यात्मिक ज्ञान व चिंतन दिया है। वेदों के चार भाग- ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद की अलग-अलग विद्वानों ने व्याख्या की है जो सीमित दायरे में या कम शब्दों में नहीं हो सकती है। श्री बिरला ने कहा कि जीवन जीने की राह और सत्य के मार्ग पर चलने का रास्ता हम वेद-उपनिषद् से प्राप्त कर सकते हैं। भारत लोकतंत्र की जननी है, यह भी वेद-उपनिषद् से निकली है।बरसों पुराने प्रमाण है कि भारत की संस्कृति, जीवनशैली, कार्यशैली व विचारधार में हमेशालोकतंत्र रहा है, इसीलिए मदर आफ डेमोक्रेसी के रूप में भारत की पहचान है।

अध्यक्षीय उद्बोधन में केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि हम सब इस बात को भली-भांति जानते हैं कि दुनिया एक है, समस्याएं भी एक जैसी है लेकिन अलग-अलग देशों के पृथक-पृथक चिंतन है। इन सबका विश्लेषण करें तो ध्यान में आएगा कि भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जिसके चिंतन में देश के साथ-साथ विश्व के कल्याण की भी भावना निहित है। हम वसुधैव कुटुम्बकम की भावना के आधार पर विचार करते हैं, इसी के अनुसार चलने का प्रयास करते हैं और यह भाव सिर्फ नारे, पुस्तक या भाषण के लिए नहीं, बल्कि हमारे कृतित्व व व्यक्तित्व से भी झलकता हुआ दिखाई देता है, इसका प्रत्यक्ष उदाहरण आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का नेतृत्व दुनिया में इस कल्पना को साकार करने के लिए प्रयत्नशील है। श्री तोमर ने कहा कि वेद की कोई तुलना नहीं है। वेद इतना विषद् है कि हजारों साल लग जाएंगे वेदों पर अऩुसंधान करते-करते, समय कम पड़ जाएगा लेकिन अनुसंधान पूरा नहीं होगा। ऐसा कुछ दुनिया में नहीं है, जो हजारों वर्षों पूर्ववेदों में हमारे पूर्वजों ने उल्लेखित नहीं किया हो। वैदिक रीति-नीति, संस्कृति, कृषि,वैदिकता का भाव निश्चित रूप से भारत को ही नहीं, जो इस पर चलने का प्रयास करेगा, उस मानवमात्र का यह जीवन और उसका परलोक भी सार्थक होगा, इस बात की गारंटी हमारा वेद-विज्ञान देता है।

श्री तोमर ने कहा कि आजादी के 75 वर्ष हुए हैं, इस दौरान देश ने काफी तरक्की करने की कोशिश की है, अभी अमृत महोत्सव हमने मनाया, अब 2047 में आजादी के 100 वर्ष पूरे होने तक के कालखंड को प्रधानमंत्रीजी ने अमृत काल कहा है। ये 25 वर्ष का जो कालखंड हमारे सामने है, भारत के सांस्कृतिक पुनरोत्थान का कालखंड है। आज पूरी दुनिया में जिस प्रकार से वैश्विक स्तर पर विचार हो रहा है तो यह कालखंड भारत के सांस्कृतिक पुनरोत्थान के माध्यम से समूची दुनिया, जो भौतिकता की अग्नि में दग्ध है, उसे शाश्वत शांति का संदेश देने में पूरी तरह सफलता प्राप्त करेगी। ऐसे समय में वेद विज्ञान की दृष्टि से विचार हो, शिक्षा में उसका समावेश हो, जीवन के हर पहलु पर हम उसे स्वीकार कर आगे बढ़ने का प्रयास करें तो इससे अच्छा कालखंड हमें नहीं मिलेगा, जिस पर बहुत गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है। हम विचार यात्रा के पड़ाव पर पहुंचे है तो एक दिन मंजिल पर पहुंचने में भी सफल होंगे।

उन्होंने कहा कि कृषि मानव जीवन का आधार है, पुरातन काल से कृषि विज्ञान के बारे में प्रकृति के साथ तालमेल करते हुए कल्पना हमारी संस्कृति में विद्यामान है। ऋग्वेद बताता है कि गलत रास्ते से धन मत कमाओ, खेती का कौशल सीखो, परिश्रम करो और सम्मानजनक धन प्राप्त करो, उससे जीवनयापन करो। अथर्ववेद में खेती, गौमाता, बैलों, कृषि उपकरण की दृष्टि से सारा उल्लेख मिलता है। साथ ही यह भी कहा गया है कि धरती माता हमें अन्न देती है, खेती करने से पहले उसकी पूजा करो, आशीर्वाद लो।यजुर्वेद में हमारी फसलों का विवरण मिलता है, वैदिक पद्धति खेती पर विचार करें तो आज की भारतीय कृषि पद्धति खेती, जिसे हम प्राकृतिक खेती या गाय आधारित खेती कहते हैं, हमें गौरव है कि वेदों में जिस प्रकार की खेती की कल्पना की गई है, वह प्राकृतिक खेती आज भारत सरकार में मोदीजी के नेतृत्व में प्राथमिकता पर है,उस पर सरकार पूरा बल प्रदान कर रही है, यह और बढ़े व रासायनिक खेती के कारण जो मृदा क्षरण व पर्यावरण को नुकसान हो रहा है, जैविक पदार्थों को आघात हो रहा है, उससे बचाव के लिए भी वैदिक ज्ञान जरूरी है। उन्होंने कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् द्वारा स्कूली शिक्षा में कृषि शिक्षा के समावेश तथा नई शिक्षा नीति का समावेश कृषि शिक्षा में करने का प्रयास किया गया है।

सम्मेलन वैदिक यज्ञ, मंत्रोच्चारण के साथ प्रारंभ हुआ। स्वामी चिदानंद सरस्वती ने आयोजन की भूमिका पेश की व स्वागत भाषण दिया। इस अवसर परस्वामी प्रणवानंद सरस्वती,श्री सुमेधानंद सरस्वती, सम्मेलन के मुख्य संयोजक प्रो. धर्मेंद्र शास्त्री, संयोजक डॉ. देवेश प्रकाश, व्यवस्थापक आचार्य दीपक शर्मा सहित अन्य पदाधिकारी, अनेक विद्वान,महाविद्यालयों-विश्वविद्यालयों के शोधार्थी व छात्र उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

योगदा आश्रम नोएडा में स्वामी चिदानंद गिरी के दिव्य सत्संग से आनंदित हुए साधकगण

आत्मसाक्षात्कार को आतुर साधकों को राह दिखाने के लिए ईश्वर द्वारा भेजे गए संत थे योगानंद- स्वामी स्मरणानंद