प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों को 92 हजार करोड़ के दावों का भुगतान

 केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा फसल बीमा सप्ताह का शुभारंभ


विभिन्न योजनाओं से किसानों के जीवन में समृद्धि लाने का प्रयास- श्री तोमर

नई दिल्ली/ग्वालियर, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री  नरेंद्र सिंह तोमर ने भारत की आजादी के 75 साल के उपलक्ष्य में, भारत सरकार द्वारा आयोजित 'आजादी का अमृत महोत्सव' के तहत फसल बीमा सप्ताह का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) में प्रचार-प्रसार व किसानों को बीमित करने के उद्देश्य से 1 से 7 जुलाई तक “फसल बीमा सप्ताह” मनाया जाएगा। इस अवसर पर श्री तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों के 92 हजार करोड़ रुपए के दावों का भुगतान किया जा चुका है जो कि एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

श्री तोमर ने कहा कि कृषि क्षेत्र व गांवों की अर्थव्यवस्था हमारे0 देश में मैरूदंड के समान है। देश में बड़ी संख्या में छोटे व मझौले किसान है, जिन्हें आगे बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार राज्यों के साथ मिलकर पूरी कोशिश कर रही है। हमारा उद्देश्य है कि विभिन्न योजनाओं के माध्यम से इन किसानों को लाभ मिलें व किसानों के जीवन में समृद्धि आएं। श्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद लगातार गांव-गरीब-किसानों पर फोकस किया है। किसानों को आय सहायता के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) स्कीम के तहत छह-छह हजार रुपए उनके बैंक खातों में पहुंचाना सुनिश्चित किया है। इस स्कीम में लगभग 11 करोड़ किसानों को 1.35 लाख करोड़ रुपए से अधिक राशि दी जा चुकी है।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि किसानों के अथक परिश्रम के बावजूद कभी-कभी मौसम की प्रतिकूलताओं के कारण उन्हें जोखिम का सामना करना पड़ता है। इस जोखिम को कवर करने के लिए PMFBY सृजित की गई। राज्यों व किसान संगठनों से चर्चा के बाद जो कुछ आपत्तियां व सुझाव थे, उनका निराकरण करते हुए इस योजना को परिमार्जित किया गया है। यह योजना तेज गति से किसानों को सुरक्षा कवच देने का काम कर रही है। इसे स्वैच्छिक किए जाने के बावजूद हर साल लगभग साढ़े पांच करोड़ से अधिक किसान इस स्कीम से जुड़ते है, जिसका उन्हें लाभ होता है। 

उन्होंने कहा कि PMFBY के क्रियान्वयन में राज्य सरकारों व बीमा कंपनियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। उनके परिश्रम का परिणाम है कि गत 4 साल में 17 हजार करोड़ रुपए की प्रीमियम किसानों द्वारा जमा की गई, जिसके मुकाबले उन्हें 92 हजार करोड़ रुपए से अधिक राशि क्लेम के रूप में प्रदान की गई है। और भी लगभग 3 हजार करोड़ रुपए की क्लेम राशि खानापूर्ति के बाद प्रभावित किसानों को मिलेगी। श्री तोमर ने कहा कि इस स्कीम पर और भी काम करना आवश्यक है, ताकि इसका कवरेज ज्यादा बढ़े व किसानों को लाभ मिलें, यह देश की जरूरत व हम सब की बड़ी जिम्मेदारी भी है। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्यों व जिलों के बीच प्रतिस्पर्धात्मक माहौल बनाया जा सकता है। 

वर्चुअल कार्यक्रम में पुडुचेरी के मुख्यमंत्री  एन. रंगास्वामी, राज्यों के कृषि मंत्री एवं अन्य मंत्रीगण भी उपस्थित थे, जिनसे केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर का संवाद हुआ। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री  परषोत्तम रूपाला व  कैलाश चौधरी, केंद्रीय कृषि सचिव  संजय अग्रवाल तथा अपर सचिव आशीष भूटानी, डिप्टी कमिश्नर (क्रेडिट) श्रीमती कामना शर्मा ने भी विचार रखे। 

कार्यक्रम में किसान भाई-बहनों के साथ ही केंद्र सरकार व राज्यों के वरिष्ठ अधिकारी, कलेक्टर और बीमा कंपनियों के प्रतिनिधि आनलाइन जुड़े हुए थे। PMFBY की ई-बुकलेट व प्रशिक्षण पुस्तिकाओं का विमोचन किया गया, साथ ही प्रचार-प्रसार के लिए वैन का शुभारंभ भी किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन