राष्टीय पुस्तक न्यास द्वारा लोगों में मानसिक स्वास्थ्य एवं कल्याण संबंधी मुद्दों के संबंध में जागरूकता बढ़ाने के लिए हेल्पलाइन की शुरुआत


नई दिल्ली 

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत (शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार) ने एक कोरोना हेल्पलाइन का शुरुआत की है ताकि महामारी से उपजे मानसिक - सामजिक चुनोतियों का सामना करने के लिए मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण संबंधित मुद्दों के संबंध में आम लोगों को समुचित जानकारी प्रदान की जा सके। 

इस परियोजना से जुड़े प्रख्यात मनोवैज्ञानिक/परामर्शदाता सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 10 से रात्रि 10 बजे तक कॉल करने वालों को मुफ्त सेवा प्रदान कर रहें हैं। मनोवैज्ञानिकों की टीम को चिकित्सा-सलाह संबंधित प्रश्नों पर सही जानकारी देने हेतु डॉक्टरों की भी एक टीम द्वारा सहायता प्रदान की जा रही है।

हेल्पलाइन की पहल को निम्लिखित आयामों के साथ जोड़ा जा रहा है:

सकारात्मक और प्रेरक मैसेजिंग तथा वीडियो संदेश और पोस्टर की श्रृंखला के साथ जोड़ा जा रहा है ताकि सोशल मीडिया अभियान के तहत जागरूकता पैदा करने व सही तरह की जानकारी लोगों तक पहुंचा कर उन्हें सशक्त बनाया जा सकें।

युवाओं, माता-पिता, शिक्षकों, पेशेवरों, वरिष्ठ नागरिकों तथा दिव्यांगों के साथ जुड़ने के लिए विभिन्न आयुवर्ग एवं पेशवरों के साथ संबंधित विषयों पर वेबिनार की एक श्रृंखला भी आयोजित की जा रही है

सूचनात्मक पैंफ्लेट एवं पॉकेट बुक्स की एक श्रृंखला का प्रकाशन।

हेल्पलाइन के माध्यम से एकत्र किए गए डेटा और इनपुट पर आधारित पुस्तकों का प्रकाशन।

इस परियोजना से निम्नलिखित मनोवैज्ञानिक/ मनोचिकित्सक परामर्शदाता/चिकित्सक (जिनमें से कुछ राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के लेखक भी हैं) जुड़े हैं :

डॉ. जितेंद्र नागपाल, डॉ. विदुर कौशिक, डॉ. नीतू कृष्णन, सुश्री हेमलता सूरी, डॉ. स्वाति मुखर्जी, डॉ. हर्षिता, कर्नल तरुण उप्पल, सुश्री रेखा चौहान, सुश्री अपराजिता दीक्षित, सुश्री सोनी सिद्धू, सुश्री पायल चौधरी, सुश्री रूचि छिब्बर।

एन बी टी हेल्पलाइन के माध्यम से प्राप्त और संबंधित किए जाने वाले प्रश्न :

कोविड-19 से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर केंद्रित कॉल प्राप्त की जा रही हैं जिनमें महामारी से जुड़े चिकित्सा संबंधी प्रश्न तथा विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में उत्पन्न होने वाले मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दे शामिल हैं।

साथ ही कोविड-19 से स्वस्थ होने के उपरांत; टीकाकरण की चिंता, परीक्षा का तनाव, उदासी, चिन्ता और इससे संबंधित अन्य मुद्दे पर भी हेल्पलाइन पर सहायता ली जा रही है।

कोरोना स्टडीज़ सीरीज (कोरोना अध्ययन पुस्तकमाला)

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत ने 2020 में कोविड-19 से निपटने के लिए कोरोना स्टडीज़ सीरीज की शुरुआत की। लॉकडाउन के उपरांत "कोरोना स्टडीज़ सीरीज" के नाम से सात पुस्तकों के सेट का प्रकाशन किया गया था। इन पुस्तकों में कोविड-19 के मनो - सामाजिक प्रभाव तथा कोविड-19 द्वारा लाई गई समस्याओं के समाधान के तरीकों के बारे में भी बताया गया है।

हेल्पलाइन नं.

8800409846 ( सुबह 10 बजे से सायं4 बजे तक)

8800409359 (शाम 4 बजे से रात्रि 10 बजे तक)


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन