जिफ ने पाट दिया सिनेप्रमियों और फिल्मों के बीच की दूरियों को

 

जिफ ने सिनेप्रमियों और फिल्मों के बीच की दूरियों को पाट दिया है. देश दुनियां की 266 फिल्मों में से शुक्रवार को 17 देशों की 41 फिल्मों की ऑनलाइन स्क्रीनिंग हुई. आज शनिवार को दर्शकों और फिल्म लवर्स के लिए 25 देशों की 56 फिल्मों की ऑनलाइन स्क्रीनिंग होगी. इनमें 10 फीचर फिक्शन और 4 डाक्यूमेंट्री फीचर फिल्मों के साथ साथ वेब सीरीज और मोबाइल फ़िल्में भी शामिल हैं.

 

कोरोना के बाद नई साल का में फिल्मों का ये पहला बड़ा डिजिटल जलसा है जिसमें 44 देशों की 266 फ़िल्में दिखाई जा रही है. (UFO) के प्लेक्सिगो (Plexigo) टीम के रिपोर्ट के अनुसार पहले दिन लगभग 38000 दर्शकों ने फ़िल्में ऑनलाइन देखी.

 

जिफ के फाउंडर डायरेक्टर हनु रोज ने बताया की शनिवार को दिखाए जाने वाली सभी फ़िल्में प्लेक्सिगो (Plexigo) एप पर रात 12 बजे बाद से ऑनलाइन है.

 

दर्शकों की अपील पर जिफ ने निर्णय लिया है की शुक्रवार वाली फ़िल्में अब 19 जनवरी तक कभी भी देखी जा सकती हैं. लेकिन आने वाली तारीख की फ़िल्में उसी तारीख से ही ऑनलाइन उपलब्ध होगी. लेकिन उसके बाद 19 जनवरी तक लाइव रहेगी.

 

 

 

ये फ़िल्में दर्शकों को खूब पसंद आई

 

भारत से राजिव बोरठाकुर की 104 मिनट की आसामी फिल्म पोरीचोयपी आर अरुण की रामपन्थानवीथी दर्शकों ने खूब पसंद की. अमेरिका से कायला और ट्रांस्फेरेंसकनाडा से पेंडुलमचायना से विंडइटली से आई मैरिड माय मदर। डाक्यूमेंट्री फीचर में मेक्सिको से सेंडलाईन्सइंगलैंड से माय ब्लड इस रेड और जर्मनी से माय सेल्फी को दर्शकों ने सराहा.

 

 

 

आज की ख़ास फ़िल्में

 

 

शनिवार को ऑनलाइन स्क्रीन होने वाली फिल्मों में ख़ास फ़िल्में हैं भारत से 107 मिनट की पृत्वी कोनउर के निर्देशन में बनी वेहर इज पिंकीबिशिख तालुकदार की तितली (129), विष्णु  देव की स्माइल (77) और अविक रॉय की बंगाली फिल्म मास्टरमोसाई (121) हैं। चेक रिपब्लिक से दारियाफ्रांस से द सांग ऑफ़ द सीरशिया से हैप्पी बर्थडेकोरिया से स्माइली जैसी फ़िल्में हैं. डॉक्युमेंट्री  फीचर फिल्मों में भारत से इन्वेस्टिंग लाइफ और पाने चेक तथा ऑस्ट्रेलिया से ओसियन टू स्काई  और अकेरिका से डायग्नोस्टिक हेल्थकेयर है.

 

 

Short Synopsis

Where is Pinki?

बैंगलोर शहर में बच्चे की खोज शुरू होती इस फिल्म की कहानी।

 

Daria

युवा मनोचिकित्सक मारेक (मीरा नोजक) ने सोशल नेटवर्क पर फार्मासिस्ट डारिया (क्लारा मिकालसोवा) से मुलाकात कीलेकिन उनकी पहली तारीख के बादआकर्षक फेमले दरिया डारिया गायब हो गई…..सब कुछ शक्तिशाली द्वारा खेला जाने वाला खेल है और अपने दवा अनुसंधान में सफल रहने वाली डारिया ने कुछ लोगों को नाराज कर दिया है ... अंत में क्या होता है? ...

 

The Song of the Sea

केल्टिक तट के एक छोटे से शहर मेंएक पुरानी कथा निवासियों को सता रही है। समुद्र में युवा गायब हो जाते हैं। क्या यह शैतान का काम है? या एक दुष्ट प्राणी की प्राचीन दुनिया से? लियोन और उसके दोस्त जांच करने का फैसला करते हैंभले ही इसका मतलब रसातल में जा रहा हो।

 

Happy Birthday

उसने अपने जन्मदिन की पार्टी में मेहमानों को आमंत्रित कियालेकिन कोई भी नहीं आया ?

 

Mastermoshai

कहानी एक कमजोर छात्र और उसके शिक्षक के बीच के रिश्ते के इर्द-गिर्द घूमती है.

 

Diagnosing Healthcare

हेल्थकेयर का निदान COVID-19 के संकट का समाधान प्रस्तुत करता है। फिल्म के केंद्र में मानव अधिकारों के साथ स्वास्थ्य देखभाल की खोज है जो सभी मानवता के लिए अभिनव समाधान प्रदान करती है।

 

 

दुनिया के प्रमुख पुरस्कार जीत चुकी फिल्मों के साथ फ़िल्में फ़िल्में जो कोविड के कारण थियेटर्स में रिलीज नहीं हो सकी, हर देश, हर भाषा की फ़िल्मेंसभी विषयों पर आधारित फ़िल्मेंकोरोना काल की रोचक कहानियों पर बनी फ़िल्में, सभी कुछ देखने का आनंद 19 जनवरी तक ऑनलाइन लिया जा सकता है।   

 

महान फिल्मकारों और कलाकारों को ट्रिब्यूट

 

जिफ परिवार ने सबसे पहले ट्रिब्यूट दिया उन सभी महान फिल्मकारों और कलाकारों को जो 2020 में हमारा साथ छोड़ कर चले गए - इब्राहिम अल्काज़ीबासु चटर्जीपंडित जसराजनिम्मीकुमकुमसौमित्र चैटर्जीरवि पटवर्धनजगदीपआशालता, वबगाओंकरएसपी बालासुब्रमण्यमसरोज ख़ानराहत इन्दौरीऋषि कपूरइरफ़ान खानआसिफ़ बसरानिशिकांत कामतवाजिद ख़ानफ़राज़ खान और सुशांत सिंह राजपूत।

 

कैसे देखे फ़िल्में ?

फिल्मों को देखने के लिए दर्शकों के लिए यूएफओ (UFO) के प्लेक्सिगो (Plexigo) एप को डाउनलोड करना होगा. प्लेक्सिगो एप गूगल प्ले स्टोर या एप्पल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। फ़िल्में देखने के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन