एमएलसी चुनाव : शिक्षक में 50.11 और स्नातक में 35.27 फीसदी मतदान

 मेरठ खंड के एमएलसी स्नातक के 30 और शिक्षक के 15 प्रत्याशी मैदान में

नोएडा। कोरोना के सभी नियमों का पालन करते हुए मंगलवार को विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) स्नातक और शिक्षक चुनाव में गौतमबुद्ध नगर में शाम पांच बजे तक शिक्षक में 50.11 और स्नातक में 35.27 फीसदी मतदान हुआ। मेरठ खंड के एमएलसी स्नातक पद पर 30 और शिक्षक पद पर 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। 

गौतमबुद्ध नगर जिले में मतदान के लिए 07 जगहों पर मतदान केंद्र बनाए गए थे। शिक्षक एमएलसी के मतदान को लेकर लोगों में काफी उत्साह देखा गया। जबकि स्नातक एमएलसी के मतदान की गति काफी धीमी रही। पहले राउंड में सुबह 8 से 10 बजे तक स्नातक एमएलसी के लिए गौतमबुद्ध नगर जनपद में 5.54 प्रतिशत वोट पड़ा, जबकि शिक्षक एमएलसी प्रत्याशी के लिए 9.7 फीसदी वोट डाले गए। सुबह से ही मतदान केंद्रों पर भारी भीड़ नजर आई। महिला-पुरुष, बुजुर्ग व नौजवान सभी मतदान केंद्र पर नजर आए। इस चुनाव में सभी प्रमुख राजनीतिक पार्टियों ने अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं। दोपहर तक शिक्षक प्रत्याशी के लिए 30 प्रतिशत तथा स्नातक के लिए 21 प्रतिशत मतदान हुआ था।


अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व एमएन उपाध्याय ने बताया कि विधान परिषद सदस्य स्नातक और शिक्षक चुनाव के लिए जनपद में सुबह 8 बजे से मतदान शुरू हो गया था। उन्होंने बताया कि कुल 21,776 वोटर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। उन्होंने बताया कि मतदान बैलट पेपर द्वारा किया जा रहा है। मतदान के लिए 07 केंद्र बनाए गए हैं। इनमें एएच इंटर कॉलेज दादरी, एनटीपीसी विद्युत नगर दादरी, नोएडा स्टेडियम सेक्टर-21ए, बिसरख ब्लॉक, जेवर ब्लॉक, इंटर कॉलेज रबूपुरा तथा अमीचंद इंटर कॉलेज कासना शामिल है। 

उन्होंने बताया कि मतदान में कुल 128 कर्मचारी लगे हुए थे। इनमें 32 पीठासीन और 96 मतदान अधिकारी शामिल रहे। 05 मतदान केंद्र संवेदनशील रहे, वहां पर अतिरिक्त सावधानी बरती गई। कुल 4 जोनल मजिस्ट्रेट, 7 सेक्टर मजिस्ट्रेट और 32 माइक्रो आब्जर्वर तैनात किये गये थे। उन पर शांतिपूर्ण और निष्पक्ष मतदान कराने की जिम्मेदारी थी। उन्होंने बताया कि कलेक्ट्रेट में कंट्रोल रूम बनाया गया था। वहां से मतदान पर नजर रखी जा रही थी। मतदान के लिए बैगनी रंग का स्केच पेन तय किया गया था। वह केंद्र पर ही उपलब्ध कराया गया। 


एडीएम वित्त एवं राजस्व ने बताया कि मतदाताओं के लिए ग्लब्ज और मास्क पहनकर जाना अनिवार्य था। मतदाताओं की थर्मल स्कैनर से तापमान की जांच की गई। उन्होंने बताया कि कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति को भी मतदान का मौका देने का इंतजाम किया गया था। हालांकि ऐसा कोई मतदाता नहीं मिला। 


मतदेय स्थलों पर कोरोना हेल्पडेस्क की स्थापना :


जिला निर्वाचन अधिकारी एवं डीएम सुहास एलवाई ने बताया कि जिले में बनाए गए सभी 29 मतदेय स्थलों पर कोरोना हेल्पडेस्क की स्थापना की गई थी। वहां पर आने वाली सभी मतदाताओं की थर्मल स्कैनिंग की गई। मतदाताओं के लिए मतदेय स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित करते हुए 2 गज की दूरी बनाकर मतदान कराया गया। मतदाताओं के हाथों को सेनिटाइज कराने के बाद ही मतदान के लिए भेजा गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन