प्रदूषण फैला रहे रतन पर्ल्स बिल्डर्स पर लगाया पांच लाख का जुर्माना

 


- एनजीटी के नियमों के उल्लंघन पर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी सख्त ग्


रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने वायु प्रदूषण को रोकने के लिए ग्रेप के प्रावधानों के तहत क्षेत्र में प्रदूषण फैला रहे रतन पर्ल्स बिल्डर्स पर 5 लाख का जुर्माना लगाया है। मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेन्द्र भूषण के सख्त निर्देशों का पालन करते हुए विशेष कार्याधिकारी शिव प्रताप शुक्ला ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट में निरीक्षण के दौरान एनजीटी के नियमों का पालन न करने पर रतन पर्ल्स बिल्डर्स पर पांच लाख का जुर्माना लगाया है। बिल्डर्स पर वायु प्रदूषण फैलाने, ग्रीन कवर न लगाने और साइट पर धूल उड़ाने का आरोप है। ओएसडी शिव प्रताप शुक्ला ने बताया कि क्षेत्र के सभी बिल्डर्स को निर्देश दिए गए हैं कि वे ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में अपने निर्माण योजनाओं में एन्टी स्मॉग गन लगाएं, एनजीटी के नियमों का पालन करें और वायु प्रदूषण रोकने के लिए जरूरी उपाय करें। ओएसडी ने बताया कि जोन प्रभारियों को अथॉरिटी के सीईओ ने निर्देश दिए हैं कि वे वायु प्रदूषण रोकने के लिए विस्तृत कार्ययोजना बनाकर एनजीटी के आदेश का सख्ती से पालन कराएं।


उन्होंने बताया कि सीईओ ने ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में जहां-जहां निर्माण कार्य चल रहा है, वहां वायु प्रदूषण न होने पाये, इसके लिए प्रतिदिन निरीक्षण करने और नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। सीईओ ने पक्री सड़कों पर झाडू लगाते समय धूल न उड़े, इसकी व्यवस्था भी करने के निर्देश दिए गए हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन