मुठभेड़ में पुलिस की गोली से दो कुख्यात बदमाश जख्मी, गिरफ्तार

यूपी से आंध्र प्रदेश और तेलंगाना तक करते थे लूटपाट, लूट का माल खरीदने वाले सुनार भी पकड़े


नोएडा। थाना सेक्टर-24 की पुलिस ने सोमवार की सुबह मुठभेड़ के बाद दो कुख्यात लूटेरों को गिरफ्तार किया है। पुलिस की गोली से जख्मी दोनों बदमाशों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाद में पुलिस ने पकड़े गए बदमाशों के बयान के आधार पर लूट का माल खरीदने वाले बुलंदशहर के दो सुनारों को भी गिरफ्तार किया। इन बदमाशों पर लूटपाट के दर्जनों मामले दर्ज हैं। सेक्टर-6 में हुई प्रेस कान्फ्रेंस में नोएडा के पुलिस उपायुक्त राजेश एस ने बताया कि थाना सेक्टर-24 पुलिस सोमवार को तड़के एनटीपीसी अंडरपास के पास चेकिंग कर रही थी। तभी बाइक पर सवार दो संदिग्ध लोग आते दिखाई दिए। शक होने पर पुलिस ने जब उन्हें रुकने का इशारा किया तो वे रुकने की बजाय पुलिस टीम पर गोली चलाकर भागने लगे। पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की। जिसमें गोली लगने से मोनू चाल्मीकि उर्फ राहुल उर्फ रोहित (32 वर्ष) पुत्र सुंदर निवासी ग्राम सोरखा और अनिल चाल्मीकि उर्फ अन्नू (40 वर्ष) पुत्र सुखपाल निवासी गांव सिरसा थाना कासना घायल हो गए। दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


उन्होंने बताया कि बदमाशों के पास से चोरी की मोटर साइकिल, दो देसी तमंचा, कारतूस और सोने की दो चेन के टुकड़े आदि बरामद हुए हैं। डीसीपी राजेश एस ने बताया कि मोनू उर्फ राहुल उर्फ रोहित शातिर अंतरराज्यीय चेन लूटेरा है। उसने एनसीआर के अलावा आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में भी चेन लूट की कई घटनाएं की हैं। उसके खिलाफ हैदराबाद के विभिन्न थानों में चेन लूट के 11 मुकदमे दर्ज हैं। मोनू अपने साथी विपिन वाल्मीकि के साथ मिलकर बीती 09 नवंबर को थाना सेक्ट-58 क्षेत्र से पल्सर मोटर साइकिल से 20 नवंबर को थाना बीटा-2 क्षेत्र के ऐच्छर से दोपहर को एक व्यक्ति की चेन लूटी थी। उसी दिन थाना फेस-2 क्षेत्र के सेक्टर-93 से सब्जी खरीद रही एक महिला से शाम के समय चेन लूटी थी। अभियुक्त विपिन वाल्मीकि को दिनांक 23 नवंबर को थाना सेक्टर-58 क्षेत्र से लूटी हुयी पल्सर मोटर साइकिल के साथ थाना सेक्टर-24 की पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर जेल भेजा था। उन्होंने बताया कि अभियुक्त अनिल उर्फ अन्नू के कब्जे से दो चेन के टुकडे पीली धातु के बरामद हुये हैं। उसे अनिल ने आने साथी आनन्द के साथ मिलकर 25 सितंबर को सेक्टर-11 की मदर डेयरी से एक महिला से छीनी थी। इन बदमाशों ने 30 सितंबर भी सेक्टर-22 से एक महिला से छीनी थी।


राजेश एस ने बताया कि अभियुक्त मोनू उर्फ रोहित उर्फ राहुल ने लूटी हुयी सोने की चेन को बुलंदशहर के सुनार कैलाश पुत्र वेदप्रकाश तथा बुलंदशहर के औरंगाबाद निवासी वेदप्रकाश पुत्र स्व. बाबूराम को बेचता था। अभियुक्त मोनू ने हैदराबाद और नोएडा आदि जगहों से लूटी हुयी चेनों को इन्ही सुनारों को बेचा था। ये सुनार लूटी हुई चेनों को खरीदकर उन्हें गलाकर बेचने का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि सुनार कैलाश अभियुक्त मोनू के साथ हैदराबाद भी गया था। मोनू को थाना भवानीनगर हैदराबाद पुलिस ने जेल भेजा था, लेकिन सुनार कैलाश वहां से बचकर भाग आया था। डीसीपी ने बताया कि उन्होंने बताया कि पकड़े गए बदमाशों में मोनू पर हैदराबाद, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 29 मामले दर्ज हैं। जबकि अनिल के खिलाफ कुल 11 मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस अभी इनके आपराधिक इतिहास को खंगाल रही है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन