जेवर एयरपोर्ट क्षेत्र में 6 नए थाने बनाने का प्रस्ताव

अफसरों ने दौरा कर चिह्नित स्थानों का निरीक्षण किया


ग्रेटर नोएडा। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) क्षेत्र में कई बड़ी परियोजनाओं को मंजूरी मिलने के बाद इस क्षेत्र में कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने की कवायद शुरू कर दी गई है। इसके लिए क्षेत्र में 06 नए थाने बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह, यीडा के सीईओ अरुणवीर सिंह और जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने प्रस्तावित थानों के लिए चिह्नित स्थानों का निरीक्षण किया। इन थानों के लिए प्राधिकरण अपने खर्च पर जमीन लेकर उस पर इमारत का निर्माण करेगा। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने अपने आवासीय औद्योगिक क्षेत्रों को ध्यान में रखकर इन थानों का प्रस्ताव शासन को भेजा है। जेवर में बनने वाले नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट का थाना दयानतपुर में बनेगा। जबकि अन्य पांच थाने सेक्टर-18, 20, 22डी, 25ए और 29 में बनाए जाएंगे। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट का निर्माण शुरू होने से पहले इस स्थान पर एक प्लाटून पीएसी तैनात की जाएगी। फिलहाल यहां पूर्व सैनिक सुरक्षा का जिम्मा संभाले हुए हैं। उ


न्होंने बताया कि सेक्टर 25ए में 7 प्रतिशत और नौ गांवों की आबादी के भूखंड हैं। इसलिए यहां थाना जरूरी है। वीवो मोबाइल कंपनी के सामने और सुपरटेक के पास सेक्टर-120 में सेक्टर 22डी का थाना बनेगा। जबकि सेक्टर 18 और 20 आवासीय सेक्टरों का थाना सेक्टर 20 में बनेगा। औद्योगिक क्षेत्र सेक्टर 29 में भी थाना बनाने का प्रस्ताव है। यीडा के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि सेक्टरों का दौरा कर नए थानों के लिए जमीन चिह्नित की गई है। थानों का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। थानों के लिए पांच हजार वर्गमीटर जमीन नि:शुल्क दी जाएगी। प्राधिकरण थानों के लिए अपने खर्च पर जमीन लेकर इमारत का निर्माण करेगा। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए अलग से दयानतपुर में थाना बनेगा। थाना बनाने का फायदा सेक्टरों में बसने वाले लोगों के साथ साथ ग्रामीणों को भी मिलेगा, उनकी सुरक्षा व्यवस्था मजबूत होगी। अभी दनकौर, रबूपुरा और जेवर थानों पर इन इलाकों की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। एयरपोर्ट बनने और प्रस्तावित फिल्म सिटी प्रोजेक्ट चालू होने के बाद यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में मल्टी नेशनल कंपनियों औद्योगिक इकाइयों की संख्या तेजी से बढ़ेगी। इसके मद्देनजर निवेशकों को प्रदेश में सुरक्षित माहौल और बेहतर व्यवस्था देने के लिए थानों की स्थापना की जा रही है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन