एमिटी में आत्मरक्षा के लिए ऑनलाइन सेल्फ डिफेंस प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू

 एमिटी विश्वविद्यालय में नारी शक्ति सम्मान कार्यक्रम का भी आयोजन


नोएडा। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा के लिए संचालित किये जा रहे मिशन शक्ति अभियान में सहयोग करते हुए छात्र छात्राओं को सुरक्षा एवं अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए एमिटी स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन एडं स्पोर्ट्स साइंसेस की ओर से नारी शक्ति सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अक्टूबर 25 तक चलने वाले इस कार्यक्रम में चर्चा सत्र, पोस्टर प्रदर्शन एवं 23 अक्टूबर तक चलने वाले ऑनलाइन सेल्फ डिफेंस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।


नारी शक्ति सम्मान कार्यक्रम में एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डॉ. बलविंदर शुक्ला ने 'नारी शक्तिÓ पर व्याख्यान देते हुए कहा कि भारतीय परंपरा में नारी शक्ति को अति महत्वपूर्ण माना गया है। हम देवी सरस्वती, देवी लक्ष्मी और देवी दुर्गा की उपासना करते हैं, जो दर्शाता है कि भारतीय उपासना में स्त्री की प्रधानता को पुरुषों से अधिक महत्व देते हुए नारी शक्ति को चेतना का प्रतीक माना गया है। एमिटी विश्वविद्यालय द्वारा इस कार्यक्रम में सहयोग करते हुए विभिन्न परिचर्चा सत्र के साथ ही ऑनलाइन सेल्फ डिफेंस कार्यक्रम का भी आयोजन किया जा रहा है। 


डॉ. शुक्ला ने कहा कि वर्तमान समय में महिलाओं एवं बालिकाओं को अपने अधिकारों को समझकर अपने आत्म गौरव के लिए आत्मविश्वास के साथ मिलकर कदम बढ़ाना होगा और महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों एवं असमानता के खिलाफ आवाज उठानी होगी। इसके साथ हमें उन सभी लोगों को जागरूक करना होगा, जिन्हें अधिकारों के संर्दभ में जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि एमिटी में हम छात्राओं के साथ छात्रों एवं पुरुषों को भी महिलाओं के सम्मान के लिए और अपराध का विरोध करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इस अवसर पर छात्र छात्राओं, शिक्षकों और कर्मचारियों ने बालिका सुरक्षा की शपथ ली।


एमिटी स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स साइंसेस की निदेशक डॉ. कल्पना शर्मा ने कहा कि नारी सम्मान कार्यक्रम में 20 से 23 अक्टूबर तक चार दिवसीय ऑनलाइन सेल्फ डिफेंस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत छात्रों एवं शिक्षकों को आत्मरक्षा के लिए सेल्फ डिफेंस प्रशिक्षक मोइरंगथेम इबहियन सिंह और गरिमा यादव ऑनलाइन प्रशिक्षण दे रही हैं। 


एमिटी विश्वविद्यालय में आयोजित नारी सम्मान कार्यक्रम के तहत तनाव एवं जीवन शैली प्रबंधन पर कार्यशाला का भी आयोजन किया गया। उसमें डायरेक्टोरेट ऑफ आयुष की सीएमओ (एनएफएसजी) डॉ. मंजुलता एस. सुखिजा ने जानकारी साझा की।