ऑनलाइन सामान बेचने वाली कंपनी का सर्वर हैक, 100 करोड़ की ठगी

ब्रांडेड मोबाइल व इलेक्ट्रानिक सामान बेचने का ऑफर देकर ठगी करने वाले चार गिरफ्तार 


नोएडा। थाना फेज-तीन की पुलिस और साइबर सेल ने वेबसाइट के जरिये सस्ते दाम पर ब्रांडेड मोबाइल व इलेक्ट्रानिक सामान बेचने का ऑफर देकर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गिरोह के मास्टर माइंड सहित चार आरोपियों को सेक्टर-100 से गिरफ्तार किया है। यह गिरोह अब तक लाखों लोगों से 100 करोड़ से ज्यादा की ठगी कर चुका है। पकड़े गए आरोपियों के पास से 10 मोबाइल फोन, 05 लैपटाप, 12 डेबिट कार्ड, 4 आधार कार्ड, 3 पैन कार्ड, 2 इंटरनेट डोंगल, 2 चेकबुक, 2 एप्पल वाच और 17 लाख रुपये से अधिक की नकदी बरामद हुई है।  


डीसीपी नोएडा सेंट्रल हरीश चंदर ने बताया कि फेस तीन में पिछले दिनों निम्बस कंपनी की तरफ से एफआइआर दर्ज कराई गई थी। उसमें कहा गया था कि कंपनी का डाटा चोरी कर कोई उनके ग्राहकों को ऑनलाइन ब्रांडेड मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स सामान को आधी कीमत पर बेचने का ऑफर देकर ठगी कर रहा है। साइबर सेल ने मामले कि जांच शुरू की तो उसे आरोपियों के मोबाइल नंबर और उनके लैपटॉप का आईपी एड्रेस पता चल गया। उसके आधार पर जांच करते हुए साइबर सेल ने थाना फेस तीन की पुलिस की मदद से गिरोह के चार आरोपियों को सेक्टर-100 से गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए आरोपियों में अंकित रमोला, हर्षित रमोला, आकाश बंसल और आकाश कंसल शामिल हैं। 


डीसीपी ने बताया कि प्राथमिक जांच में पता चला कि ये गिरोह अब तक लाखों लोगों से 100 करोड़ रुपये से भी अधिक की ठगी कर चुका है। ठगी का शिकार होने वालों में 10 राज्यों के लोग शामिल हैं। अभियुक्त लग्जरी कार में घूमते थे और इंटरनेट के माध्यम से अपने ठगी के कारोबार को अंजाम देते थे। उन्होंने बताया कि अंकित रमोला बीकॉम पास है और गिरोह का मास्टरमाइंड है। उसका भाई हर्षित रमोला भी इस धंधे में शामिल है। 


हरीश चंदर ने बताया कि यह गिरोह लगभग एक साल से ऑनलाइन ठगी का धंधा कर रहा था। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि पुलिस से बचने के लिए उन्होंने कोई ऑफिस नहीं खोला था। वे अपनी कार में बैठकर और कभी अपने फ्लैट से ऑनलाइन ठगी किया करते थे। आरोपियों ने पिछले दिनों निम्बस कंपनी का सर्वर हैक कर 90 लाख लोगों को सस्ते में आईफोन खरीदने का मैसेज भेजा था और उसमें से काफी लोगों से ठगी की गई थी। आरोपी लोगों को अपने जाल में फंसाने के लिए 60 हजार का मोबाइल फोन 20 हजार में बेचने का वादा कर लोगों को अपना शिकार बनाते थे। पुलिस अब इनके बैंक खातों को खंगाल रही है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन