कैट ने सरकार को चीनी कंपनियों के भारत में प्लांट और कंपनियों में चीनी निवेश की जांच करने का दोबारा किया आग्रह

सरकार द्वारा गठित उच्चस्तरीय समिति द्वारा प्रतिबंधित चीनी ऐप को अपना पक्ष रखने का मौका देने पर कैट ने भी समिति के समक्ष अपना पक्ष रखने का मौका देने की मांग की
 
नयी दिल्ली 
 
केंद्र सरकार द्वारा 59  एप्लीकेशन्स को प्रतिबंधित किये जाने के मामले पर गठित उच्चस्तरीय समिति ने सरकार के इस निर्णय को फिलहाल सही ठहराते हुए उक्त 59 ऐप की कंपनियों को इस मामले में आपका पक्ष प्रस्तुत करने के लिए अवसर देना स्वीकार किया है ! इस बात को ध्यान में रखते हुए कनफेडेरशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री  रवि शंकर प्रसाद को एक पत्र भेज कर आग्रह किया है की जिस प्रकार से इन कंपनियों को अपना पक्ष रखने का मौका दिया गया है उसी प्रकार से कैट को भी समिति के समक्ष इन चीनी ऐप को क्यों प्रतिबंधित करना चाहिए पर अपना पक्ष प्रस्तुत करने का अवसर दिया जाना चाहिए  क्योंकि सर्वप्रथम कैट ने ही 21 जून को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक पत्र भेज कर इन चीनी ऐप को प्रतिबंधित करने की मांग की थी 
 
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री  प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की श्री प्रसाद को भेजे पत्र में कैट ने कहा है की सरकार द्वारा इन ऐप को प्रतिबंधित किया जाना देश की सुरक्ष के लिए बहुत जरूरी था ! भारतीय न्यायिक व्यवस्था की पारदर्शिता को बरक़रार रखते हुए उच्च समिति द्वारा इन ऐप कंपनियों को मौका दिया जाना न्यायोचित है किन्तु न्याय के प्राकृतिक सिद्धांत को देखते हुए कैट को भी अपना पक्ष रखने का मौका दिया जाना बहुत आवश्यक है !
 
कैट दिल्ली एन सी आर के संयोजक सुशील कुमार जैन ने कहा जैसा कि ज्ञातव्य है की कैट ने 10 जून 2020 से देश भर में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का एक राष्ट्रीय अभियान " भारतीय सामान -हमारा अभिमान " शुरू किया है जिसका प्रथम चरण दिसंबर 2021 तक चलेगा और इस दौरान कैट ने चीन से माल आयात करने में लगभग 1 लाख करोड़ रुपये के आयात की कमी करने का लक्ष्य रखा है । कैट के इस अभियान को देश भर में चारों तरफ से व्यापक समर्थन मिल रहा है और देश के विभिन्न राज्यों में लोग इस अभियान से जुड़ते जा रहे हैं जो इस बात का स्पष्ट प्रमाण है की इस बार इस अभियान के जरियर चीन को भारत के साथ व्यापार में एक बड़ा झटका मिलना तय है । हालाकिं चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने इस बात को कहा है की वर्तमान अभियान के चलते इस वर्ष चीन और भारत के बीच व्यापार में लगभग 30 प्रतिशत की कमी आने का अनुमान है ।
 
श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने यह भी बताया की कैट ने श्री प्रसाद को भेजे पत्र में यह भी स्मरण कराया है की 30 जून, 2020  को कैट ने केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीथारमन को एक पत्र भेजा था और वैसा ही पत्र श्री प्रसाद को भी उस दिन भेजा गया था जिसमें यह मांग की गई थी की भारत की जिन कंपनियों में चीनी कंपनियों का निवेश है तथा जिन चीनी कंपनियों ने भारत में अपनी निर्माण इकाइयां लगाई हैं, उन दोनों वर्गों की कंपनियों की भी जांच होनी चाहिए जिससे यह पता लग सके की इन कंपनियों ने भारत का जो डाटा एकत्र किया है वो कहीं भारत से बाहर तो नहीं भेजा गया अथवा उसका कोई दुरूपयोग तो नहीं हो रहा है । इस तरह का पत्र कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को भी उस दिन भेजा था । कैट ने श्री प्रसाद से आग्रह किया है की उनकी मांग को स्वीकार कर सरकार इस जांच करने की भी घोषणा करे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन