बोर्डिंग स्कूल में नाबालिग छात्रा ने की आत्महत्या 

मां का आरोप, दुष्कर्म के बाद की गई उसकी बेटी की हत्या 


 स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को नहीं दी तीन जुलाई हुई घटना की जानकारी 


नोएडा। शहर के एक बोर्डिंग स्कूल में नबालिग छात्रा ने पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। तीन जुलाई को हुई यह घटना अब सामने आई, जब छात्रा के मां का एक वीडियो वायरल हुआ। वीडियो में मां ने अपनी बेटी के साथ स्कूल प्रबंधन पर दुष्कर्म के बाद हत्या का आरोप लगाया है। यह भी आरोप लगाया कि प्रबंधन ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही गुपचुप तरीके से छात्रा का दाह संस्कार कर दिया। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मामले कि जांच शुरू कर दी है। एडिशनल डीसीपी का कहना है कि लड़की के पास से सुसाइड नोट मिला है, उससे ये मामला सुसाइड का ही लगता है। अगर परिजनों के पास कोई जानकारी है तो बताएं, वे जांच करने को तैयार हैं। 


जानकारी के मुताबिक सेक्टर-49 स्थित बोर्डिंग स्कूल में 14 साल की छात्रा 10वीं में पढ़ती थी। उसकी आत्महत्या के बाद स्कूल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही गुपचुप तरीके से शव का दाह संस्कार कर दिया। छात्रा का परिवार हरियाणा में रहता है। उन्होंने अपनी बेटी का एडमिशन यहां पर एक साल पहले ही कराया था। कहा जा रहा है कि छात्रा का शव तीन जुलाई को छात्राओं के एक ग्रुप ने कक्षा में पंखे से लटकते देखा था। छात्रा के अभिभावक ने बताया कि वे लोग जब अपनी बेटी का बैग खाली कर रहे थे, उसी दौरान उसके अंदर से एक कागज मिला, जिसमें कुछ लिखा था। छात्रा ने सुसाइड नोट में लिखा कि उसे गलत समझा जाता है। उसका कोई दोस्त नहीं है। उसे अपनी जिंदगी से नफरत है। पेपर में सबसे ऊपर उसने लिखा है, मेरी जिंदगी का सबसे खराब दिन है यह। मेरे साथ सब गंदा व्यवहार करते हैं। मैं किसी से मिलना चाहती हूं। 


छात्रा की मां का कहना है कि तीन जुलाई को उन्हें सुबह साढ़े पांच बजे फोन कर स्कूल आने को कहा गया। पूछने पर उन्हें कुछ नहीं बताया गया। उन्होंने स्कूल प्रशासन से कहा कि उनके पास नोएडा आने के लिए रुपये नहीं हैं। स्कूल प्रशासन ने कहा कि वे आ जाएं, उनका खर्चा वे दे देंगे। छात्रा के अभिभावक का आरोप है कि स्कूल पहुंचते ही उन लोगों के फोन जमा करा लिए गए और तब उन्हें उनकी बेटी के आत्महत्या करने की सूचना दी गई। यह भी आरोप है कि स्कूल प्रबंधन तीन जुलाई को हुई इस घटना कि सूचना पुलिस को नहीं और गुपचुप दाह संस्कार कर दिया गया। 


एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह का कहना है कि लड़की के पास से सुसाइड नोट मिला है। उसमें स्पष्ट लिखा है कि मेरी मौत का कोई जिम्मेदार नहीं है। सुसाइड नोट में छात्रा अपने परिवार की कुछ बातें लिखी है और परिवार की समस्या का जिक्र किया है। ये मामला सुसाइड का लगता है। फिर भी अगर छात्रा के माता-पिता के पास कोई जानकारी है तो बताएं, वे जांच करेंगे।