भावी चुनाव के लिए बसपा सुप्रीमो ने बिछाई बिसात, संगठन में बड़ा फेरबदल 

पार्टी में बढ़ा बाबू मुनकाद का कद, बनाए गए उत्तराखंड के प्रभारी


मेरठ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती के करीबी माने जाने वाले बाबू मुनकाद एक लंबे समय से पार्टी के वफादार चेहरा बने हुए हैं। मायावती भी मुनकाद अली पर भरपूर भरोसा करती दिखाई देती हैं। पहले उन्हें उत्तर प्रदेश का प्रदेश अध्यक्ष बनाया और अब उसी के साथ साथ उन्हें उत्तराखंड का प्रभारी बनाया गया है। वहीं, कई मंडलों की भी जिम्मेदारी देकर मायावती ने साफ कर दिया है कि मुनकाद अली मायावती के बेहद करीबी होने के साथ-साथ उनकी पार्टी को मजबूत बनाने के लिए जमीनी पकड़ रखते हैं। 


मायावती ने मुनकाद अली पर भरोसा जताकर एक बार फिर उनका कद बढ़ा दिया है। उनके विरोधियों को भी यह बता दिया है कि मायावती मुनकाद पर कितना भरोसा करती हैं। उनको लेकर वह कुछ भी मनगढ़ंत बातें बर्दाश्त नहीं करेंगी। इससे पूर्व भी मुनकाद अली को पहाड़ों की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, जिसमें वह उत्तराखंड में बसपा के हाथी को मजबूत बनाने में कामयाब हुए थे। इस बार भी मुनकाद को बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। अब यह कयास लगने शुरू हो गए हैं कि बसपा मुस्लिमों में कम होते अपने वजूद को फिर से खड़ा करने में बाबू मुनकाद का सहारा लेगी और उन्हीं के माध्यम से पहले की तरह खासतौर से पश्चिम में अपना वर्चस्व बनाने की मुहिम में जुटेगी।


मायावती आने वाले चुनाव को लेकर तैयारियों में जुट गई हैं। सबसे पहले उन्होंने अपने संगठन में ऐसे लोगों को जगह देने की शुरुआत की है, जो संगठन के लिए जमीनी स्तर पर काम कर सकते हैं। वही मंडल से लेकर सेक्टर प्रभारियों को भी नई जिम्मेदारी दी गई है। मायावती ने मुनकाद अली को उत्तराखंड प्रदेश के साथ-साथ दो मंडलों की जिम्मेदारी सौंपी है। लखनऊ मंडल मुख्य सेक्टर प्रभारी की जिम्मेदारी लालजी वर्मा, भीमराव अंबेडकर, शमशुद्दीन राइन और राजकुमार गौतम को दी है। कानपुर मुख्य सेक्टर प्रभारी की जिम्मेदारी आरएस कुशवाहा, हेमंत प्रताप सिंह, बौद्ध प्रिय गौतम को मिली है।


इसके अलावा प्रयागराज की जिम्मेदारी राम अचल राजभर, डॉ. रामकुमार कुरील, डॉ. अशोक गौतम को मिली है। वाराणसी की जिम्मेदारी नौशाद अली और मदन राम रामचंद्र गौतम को दी गई है। गोरखपुर मंडल की जिम्मेदारी पूर्व सांसद घनश्याम चंद्र खरवार और सुधीर कुमार को सौंपी गई है। बस्ती मंडल की जिम्मेदारी पूर्व सांसद घनश्याम चंद्र खरवार को मिली। जबकि फैजाबाद मंडल की जिम्मेदारी घनश्याम चंद्र खरवार और दिनेश चंद्रा को दी गई है। इसी के साथ साथ हर मंडल में दो से चार मुख्य सेक्टर प्रभारी और हर जिले में 4-4 सेक्टर प्रभारी बनाए गए हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन