भारत के इंजीनियर स्वदेशी एप बनाकर भारत को आत्मनिर्भर बनाने में सहयोग करें:मोदी

चीनी एप पर प्रतिबंध के बाद पीएम मोदी ने किया आह्वान



नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अब समय आ गया है कि भारत के इंजीनियर स्वदेशी एप बनाकर भारत को आत्मनिर्भर बनाने में सहयोग करें। उन्होंने आईटी सेक्टर में काम करने वालों से कहा कि वे कोड ऑफ एन आत्मनिर्भर भारत के इनोवेशन चैलेंज में भागीदारी निभाएं। कुछ दिन पहले देश की सुरक्षा के लिए खतरा बताते भारत सरकार ने 59 चीनी मोबाइल एप को प्रतिबंधित करने के बाद पीएम ने अब युवाओं और स्ट्राट अप कंपनियों का आह्वान किया कि वे स्वदेशी मोबाइल एप बनाएं। 


पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय बाजार में इसकी काफी संभावना है। हम सभी अपने बाजार की विशाल क्षमता को जानते हैं। आजकल, हम स्वदेशी एप्स को नया रूप देने, विकसित करने और बढ़ावा देने के लिए स्टार्ट-अप और टेक इकोसिस्टम के बीच भारी रुचि और उत्साह देख रहे हैं। देश की सुरक्षा, संप्रभुता और रक्षा के लिए खतरा बताते हुए कुछ दिन पहले टिक टॉक समेत 59 चीनी मोबाइल एप पर पाबंदी के बाद पीएम मोदी ने शनिवार को युवाओं और स्ट्राट अप कंपनियों का स्वदेशी मोबाइल एप बनाने का आह्वान किया है। उन्होंने  आईटी में काम करने वाले लोगों को कहा कि वे 'कोड ऑफ एन आत्मनिर्भर भारतÓ के इनोवेशन चैलेंज में हिस्सा लें।


प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा कि आज टेक और स्टार्ट अप समुदाय में विश्व स्तरीय मेड इन इंडिया एप बनाने के लिए भारी उत्साह है। उनके विचारों और उत्पादों की सुविधा के लिए मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रोनिक्स एंड आईटी और अटल इनोवेशन मिशन आत्मनिर्भर भारत इनोवेशन एप लांच कर रहा है।


उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, यह चैलेंज आपके लिए है, अगर आप ऐसे प्रोडक्ट पर काम कर रहे हैं या फिर आप ये मानते हैं कि आपके पास विजन और अनुभव है ऐसे प्रोडक्ट्स को बनाने का। मैं टेक समुदाय के सभी दोस्तों से अनुरोध करता हूं कि वे इसमें शामिल हों। मेरे लिंक्ड इन पोस्ट पर अपने विचारों को साझा करें। उल्लेखनीय है कि सीमा पर चीन के साथ चल रही तनातनी के बीच भारत ने चीन की 59 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह चुनौती इन ऐप के विकल्प पेश करने के लिए शुरू की गई है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन