मास्को में द्वितीय विश्व युद्ध के 75वें विजय दिवस परेड में भाग लेंगे रक्षा मंत्री

 कार्यक्रम में भाग लेने पहले ही पहुंच चुकी हैं सेना की तीनों अंगों की टुकड़ियां 


नई दिल्ली। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वितीय विश्व युद्ध में विजय की 75वीं वर्षगांठ मनाने के लिए विजय दिवस परेड में भाग लेने के लिए 24 जून को मास्को का दौरा करेंगे। इस परेड का आयोजन रूसी एवं अन्य मित्रवत लोगों की बहादुरी तथा किए गए बलिदान को सम्मानित करने के लिए किया जाता है। रूसी फेडेरेशन के रक्षा मंत्री सर्गई शोइगु ने रक्षा मंत्री को विजय दिवस परेड में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया है, जिसे मूल रूप से 9 मई, 2020 को आयोजित किया जाना था, लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था।


इससे पृथक, तीनों सेनाओं की एक 75 सदस्यीय भारतीय सैन्य टुकड़ी पहले ही रूसी टुकड़ी एवं अन्य आमंत्रित टुकड़ियों के साथ विजय दिवस परेड में भाग लेने के लिए मास्को पहुंच चुकी है। विजय दिवस परेड में भाग लेने के लिए मार्चिंग टुकड़ी का नेतृत्व वीर सिख लाइट इंफैंट्री रेजीमेंट के एक मेजर रैंक के अधिकारी कर रहे हैं। इस रेजीमेंट ने द्वितीय विश्व युद्ध में बहादुरी से लड़ाई की थी तथा इसे अन्य वीरता पुरस्कारों के अतिरिक्त चार बटालियन सम्मान तथा दो मिलिट्री क्रास अर्जित करने का गौरव हासिल हो चुका है।


विजय दिवस परेड में भारतीय सहभागिता द्वितीय विश्व युद्ध में रूस एवं अन्य राष्ट्रों द्वारा किए गए महान बलिदानों को श्रद्धांजलि अर्पित किए जाने के एक प्रतीक के रूप में होगी जिसमें भारतीय सैनिकों ने भी भाग लिया था और सर्वोच्च बलिदान दिया था। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विजय दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर रूसी फेडेरेशन के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन को बधाई दी थी और रक्षा मंत्री ने रूस के रक्षा मंत्री को विशेष संदेशों के जरिये बधाई दी थी। रक्षा मंत्री का दौरा भारत और रूस के बीच लंबे समय से चली आ रही विशेष एवं विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझीदारी को सुदृढ़ बनायेगा।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन