भारतीय रेल ने किया रेलटेल के साथ आईपी आधारित वीडियो निगरानी प्रणाली के इंस्‍टालेशन के लिए समझौता

New Delhi


भारतीय रेलों ने भारतीय रेलों के ए1, ए, बी, सी, डी  और ई श्रेणी के 6049 स्टेशनों पर वीडियो निगरानी प्रणाली (VSS) कार्य उपलब्‍ध कराने के लिए रेल मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले रेलटेल, एक मिनी रत्न पीएसयूके साथ समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं। कार्य के क्षेत्र में केंद्रीकृत निगरानी और प्रबंधन के लिए वीएसएस प्रणाली में रेलवे के मौजूदा स्टैंड अलोन सीसीटीवी नेटवर्क का इंटीग्रेशन भी शामिल है।


 उमेश बलोंदा, कार्यपालक निदेशक / दूरसंचार / रेलवे बोर्ड और   संजय कुमार, निदेशक / एनपीएम, रेलटेल ने वीडियो कोंफेरेंस के जरीए उपस्थित प्रदीप कुमार, सदस्य, एस एंड टीरेलवे बोर्ड,  पुनीत चावला, सीएमडी रेलटेल व अन्य रेलवे और रेलटेल के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।


ये आईपी आधारित सीसीटीवी कैमरे ऑप्टिकल फाइबर केबल पर नेटवर्क से जुड़ेंगे और सीसीटीवी कैमरों की वीडियो फीड को सबसे निकटतम के आर पी एफ थाना/चौकीके  कंट्रोल रूम में लाया जाएगा, जहां से आरपीएफ कर्मियों द्वारा कई एलसीडी मॉनिटर पर वीडियो फीड देखी जाएंगी, जिससे बेहतरीन ढंग सेयात्रियों की सुरक्षा और संरक्षा बढ़ेगी। रेलटेल पहले ही देशभर के 215 स्टेशनों पर वीएसएस इंस्‍टॉल कर चुकी है। और अन्य 85 स्टेशनों पर सितंबर,20 तक  चालू किया जाएगा। रेलटेल ने 54 रेलवे स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वारों पर सीसीटीवी कैमरे भी उपलब्ध कराए हैं, ताकि श्रमिक स्पेशलों के परिचालन को सुगम बनाया जा सके।


सीसीटीवी कैमरों की वीडियो फीड की रिकॉर्डिंग,  प्लेबैक, पोस्ट इवेंट विश्लेषण और जांच के उद्देश्यों से30 दिनों तकके लिए संग्रहीत की जाएगी। महत्वपूर्ण वीडियो को लंबी अवधि तकके लिए संग्रहीत किया जा सकता है। कैमरों के 30 दिनों के वीडियो फीड की रिकॉर्डिंग के अलावा, डेटा एनालिटिक्स और फेशियल रिकग्निशन सिस्टम भी इसकार्य का हिस्सा  हैं। वीडियो फीड को  केंद्रीयकृत रुप से देखने और अलर्ट के प्रबंधन के लिए कमांड और नियंत्रण केंद्र भी चालू किया जाएगा।


स्टेशन परिसर पर ये कैमरे 24X7 सभी गतिविधियों पर नज़र रखने में मदद करेंगे और स्टेशनोंपर यात्रियों और रेलवे संपत्ति की बेहतर सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे।


 


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन