अनुप्रिया ने कहा, “आधी आबादी को सुरक्षा देने में पूरा सिस्टम फेल हुआ”

अनुप्रिया पटेल ने राजनैतिक दलों को पार्टी स्तर से ऊपर उठकर राष्ट्रीय स्तर पर ठोस कदम उठाने का आग्रह किया


निर्भया के हत्यारों को फांसी की सजा का आदेश होने के बावजूद अब तक उसपर अमल न लाए जाने पर श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने दु:ख व्यक्त किया


नई दिल्ली


पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने शुक्रवार को लोकसभा में उन्नाव मामले की घोर निंदा करते हुए कहा कि उन्नाव का मामला बहुत ही घृणित, अतिसंवेदनशील और अमानवीय है। श्रीमती पटेल ने कहा कि इस तरह के मामलों को रोकने के लिए सभी राजनैतिक दल राजनीति से ऊपर उठकर एकसाथ एक प्लेटफॉर्म पर आए और इस गंभीर समस्या के निदान के लिए एक ठोस कदम उठायें, ताकि लोगों को समय से और त्वरित न्याय मिले और अपराधियों में सिस्टम के प्रति खौफ पैदा हो।


श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने लोकसभा में अपनी बात रखते हुए कहा कि अभी हैदराबाद की महिला चिकित्सक का मामला शांत भी नहीं हुआ और उत्तर प्रदेश के उन्नाव में बर्बर तरीके से एक बेटी को घसीट कर गांव के बाहर जलाने का मामला प्रकाश में आ गया। श्रीमती पटेल ने इस तरह के मामले में चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि पीड़ित बेटी जल्द से जल्द स्वस्थ हो जाए।


श्रीमती पटेल ने आग्रह किया कि इस गंभीर मामले पर एक राष्ट्रीय स्तर पर डॉयलॉग हो। इसमें केंद्रीय और राज्य सरकारें राजनैतिक स्तर से ऊपर उठकर देश की आधी आबादी (महिलाएं) की सुरक्षा के लिए ठोस कदम उठाएं और यह सुनिश्चित हो कि समयबद्ध तरीके से पीड़ित लोगों को त्वरित न्याय मिला और इसका पूरे देश में कठोर संदेश जाय।


सिस्टम का खौफ नहीं:


श्रीमती पटेल ने कहा कि देश के कोने-कोने में बलात्कारी बैठे हुए हैं, उन्हें सिस्टम का खौफ नहीं है। इसके लिए पूरा सिस्टम जिम्मेदार है। यह केवल उत्तर प्रदेश और तेलंगाना का मामला नहीं है। बल्कि पूरे देश का मामला है। निर्भया मामले में दोषियों को फांसी की सजा का आदेश हो चुका है, लेकिन अभी तक उस पर अमल नहीं किया गया।