कांग्रेस के नजरअंदाज की वजह से 40 साल बाद सरदार पटेल को भारत रत्न मिला

नई दिल्ली / लखनऊ


कांग्रेस ने आज संसद में लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की आत्मा को दु:ख पहुंचाया है। आज कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने जूनागढ़ और हैदराबाद रियासत के भारत में विलय के लिए सरदार पटेल जी के अतुलनीय योगदान का श्रेय छीनने की कोशिश की। कांग्रेस के लोग इस तरह का कोई मौका गवांना नहीं चाहते हैं।“ पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल (एस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने मंगलवार को केंद्र  सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले पर लोकसभा में अपनी बात रखते हुए कहा।


श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा कि कांग्रेस के नजरअंदाज की वजह से लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल जी को उनके निधन के 40 साल बाद भारत रत्न मिला। उन्होंने कहा कि जिस महान व्यक्ति की वजह से अखंड भारत का सपना साकार हुआ, आज उस महान व्यक्ति की समाधि के लिए भी दिल्ली में जमीन नहीं मिली। यह बहुत ही दु:खद है।


उन्होंने कहा कि यदि सरदार पटेल जम्मू-कश्मीर को भी अपने हाथों में लिए होते तो आज जम्मू-कश्मीर की स्थिति कुछ और होती। 70 सालों से कश्मीर की अवाम को तबाही का मंजर नहीं देखना पड़ता। हमारे कश्मीरी भाई भी विकास की मुख्य धारा से जुड़ते।


70 साल बाद भी कश्मीरी भाई भारत से जुड़ नहीं पाये:


 


उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, ये बात कहते-कहते 70 साल हो गए, बावजूद इसके कश्मीर की अवाम भारत से जुड़ नहीं पायी।


बेटी को भी नहीं मिलता अधिकार:


अनुप्रिया पटेल ने कहा कि अनुच्छेद 370 व अनुच्छेद 35 ए की वजह से अब तक जम्मू-कश्मीर में हालात ऐसे थे कि वहां की बेटी अन्य राज्यों में शादी-ब्याह नहीं कर सकती थी, यदि वह शादी करती थी तो उसे कोई अधिकार नहीं मिलता। बड़े दु:ख की बात है कि जिस मिट्‌टी में वह बेटी पली-बढ़ी, उसे ही उस मिट्‌टी से दूर कर दिया जाता था।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

साई अपार्टमेंट सेक्टर 71 में लगाया गया टीकाकरण शिविर