बढ़ती मंदी, जाता रोजगार

आर्थिक मंदी की अफवाह फैलाना अर्थव्यवस्था को चौपट करने कि साजिश है


- वित्त मंत्री, निर्मला सीतारमण (20 अगस्त, 2019)


जून 2019 के बाद आर्थिक गतिविधियों से ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि


भारतीय अर्थव्यवस्था में मंदी और बढ़ रही है।


- भारतीय रिजर्व बैंक गर्वनर  (7 अगस्त, 2019)


कुछ लोग मंदी की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वह मंदी देखने को बेताब हैं।


- अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप


अगस्त, 2019 में दो लोगों का बयान आया एक तो विश्व के 'सुपर पॉवर' अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप के द्वारा कहा गया कि अमेरिकी व्यवस्था मंदी में नही है। कुछ लोग मंदी की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वह मंदी देखने को बेताब हैं। दूसरा वक्तव्य विश्व के सबसे बड़े 'लोकतंत्र' के वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण का, उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देश में आर्थिक मंदी की अफवाह फैलाना अर्थव्यवस्था को चौपट करने कि साजिश है बल्कि राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न करने की एक कुटिल चाल भी है।


एक तरफ तो ट्रंप 18 अगस्त को कहते हैं कि अमेरीकी इकॉनामी की सेहत अच्छी है लेकिन दूसरे दिन ही 19 अगस्त को कहते हैं कि अमेरीका फेडरल रिजर्व (अमेरीका का सेंट्रल बैंक) को संकट के दौरान चलाए जाने वाले 'मनी-प्रीटिंग' कार्यक्रम की तरफ लौटनी चाहिए। ब्याज कम नहीं करने पर ट्रंप ने फेडरल रिजर्व बैंक के प्रमुख जेरोम पॉवेल की आलोचना की है और एक ट्वीट में 'क्लूसेस' की संज्ञा दे डाला। 2.1 प्रतिशत की वार्षिक गति से बढ़ रही अमरीकी अर्थव्यवस्था बीती तिमाही में कम हुई थी। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की बात पर हंसा ही जा सकता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का वक्तव्य कि ''अर्थव्यवस्था को चौपट करने कि साजिश है'' ट्रम्प के बयान से भी ज्यादा हास्यस्पद लगता है।


नेशनल सेंपल सर्वे (एनएसएसओ) की रिपोर्ट बताती है कि भारत में बेरोजगारी दर 45 साल में सबसे अधिक 6.1 प्रतिशत हो गई है जबकि कुछ शोध, बेरोजगारी की दर 8 प्रतिशत से भी अधिक बता रहे हैं। खुद रिजर्व बैंक के गवर्नर 3-6 जून, 2019 की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक में कह चुके हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था स्पष्ट तौर पर अपनी रफ्तार खो रही है। इसी बैठक में रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कहा कि ''आर्थिक वृद्धि की तस्वीर मिलीजुली है। विकास दर को छह प्रतिशत से घटाकर 5.75 प्रतिशत करने के पक्ष में हूं'' जिसका समर्थन समिति के अन्य तीन सदस्य रविंद्र एच. ढोलकिया, पामी दुआ और चेतन घाटे ने भी किया। 7 अगस्त, 2019 की मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा है कि ''जून 2019 के बाद आर्थिक गतिविधियों से ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था में मंदी और बढ़ रही है।'' वित्त मंत्री जी क्या आरबी आई के गवर्नर भी अफवाह फैला कर अर्थव्यवस्था चौपट करना चाहते हैं, आपकी नज़र में वह भी साजिशकर्ता हैं?


मंदी की मार


कृषि क्षेत्र के बाद सबसे ज्यादा रोजगार मुहैय्या (प्रत्यक्ष और अप्रत्क्ष रूप से 10 करोड़ लोगें को) कराने वाला टेक्सटाइल (कपड़ा) सेक्टर की हालत खराब है। नॉर्दन इंडिया टेक्सटाइल मिल्स एसोसिएशन के मुताबिक भारतीय कपड़ा उद्योग सबसे बड़े संकट से गुजर रहा है। केंद्रीय व राज्य जीएसटी और दूसरी टैक्सों की वजह से भारतीय धागा (यार्न) इंटरनेशनल मार्केट में प्रतिस्पर्धा के लायक नहीं रह गया है। अप्रैल से जून की तिमाही में कॉटन धागा के निर्यात में साल दर साल 34.6 प्रतिशत की कमी हुई है। जून महीने में तो इसमें 50 प्रतिशत तक गिरावट आ चुकी है जिसके कारण कपड़ों के लिए धागा तैयार करने वाली एक तिहाई मिलें बंद हो गई है। इस मंदी से किसानों पर भी खतरा मंडरा रहा है, क्योंकि धागा तैयार करने वाली मिलों के पास कपास खरीदने के लिए पैसे नहीं है। 'नॉर्दन इंडिया टेक्सटाइल मिल्स एसोसिएशन' 20 अगस्त, 2019 को अखबार में विज्ञापन देकर बताया है कि उनके व्यापार में 34.6 प्रतिशत की गिरावट आई है। टेक्सटाइल एसोसिएशन ने कहा है कि इसके कारण 25-50 लाख नौकरियां जायेंगी।


मोदी जी ने 7 फरवरी, 2019 को संसद में अपने सरकार का बचाव करते हुए कहा था कि ''अकेले परिवहन सेक्टर में एक करोड़ 25 लाख लोगों को रोजगार के नये अवसर मिले हैं। उन्होंने बताया कि चार साल में 36 लाख ट्रक या व्यापारिक वाहन बिके हैं। डेढ़ करोड़ यात्री वाहन और 27 लाख से ज्यादा ऑटो की बिक्री हुई है।'' उन्होंने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि ''ये सारी गाड़ियाँ खरीदने वालों ने शोभा के लिए तो इन्हें नहीं खरीदा होगा। किसी चालक को तो रोजगार मिला होगा, किसी मैकेनिक को तो रोजगार मिला होगा।''


फेडरेशन ऑफ आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) के अध्यक्ष आशीश हर्षराज काले कहते हैं कि 'बिक्री में गिरावट की वजह से डीलरों के पास मजदूरों की छंटनी का ही विकल्प बचा है। अप्रैल तक 18 माह की अवधि के दौरान 271 शहरों में 286 शोरूम बंद हुए हैं, जिसमें 32,000 लोगों की नौकरी गई है। अप्रैल के बाद तीन माह में डीलरशिप ने दो लाख मजदूरों कि छंटनी किया है।


वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में सभी श्रेणियों में वाहनों की बिक्री 12.35 प्रतिशत की कमी आई है। बिक्री नहीं होने के कारण टीवीएस ने दो दिन, हीरो मोटोकॉर्प चार दिन और वॉश लिमिटेड, टाटा मोटर्स और महिन्द्रा एंड महिन्द्रा कम्पनी भी मांग और उत्पादन में सामंजस्य बिठाने के लिए विनिर्माण कुछ दिनों के लिए बंद करने की घोषणा कर चुके हैं। जुलाई 2018 से जुलाई 2019 में वाहन के बिक्री में आई कमी इस प्रकार है- मारूति 36.29, हुंडई 10.28, टाटा 38.61, महेन्द्रा 14.91, हुंडा 48.67, टोयटा 23.79, टीवीएस 15.72, सुजुकी 16.96, बजाज 15.12, अशोक लिलेंड 28.89 प्रतिशत कमी आई है जिसके कारण करीब 10 लाख लोगों का रोजगार जा चुका है। यही कारण है कि ऑटो सेक्टर के टॉप कम्पनी 'बजाज' के चेयरमैन राहुल बजाज शेयरधारकों की सालाना आम बैठक में कहते हैं कि ''मुष्किल हालातों से गुजर रहे ऑटो सेक्टर के लिए क्या विकास आसमान से गिरेगा? सरकार कहे या न कहे लेकिन आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक के आंकड़े बताते हैं कि पिछले तीन-चार सालों में विकास में कमी आई है।''


केन्द्र व राज्य सरकार को करोड़ों का राजस्व देने वाला गिरिडीह का लौह उद्योग आर्थिक मंदी को लेकर भयभीत हैं। लौह उद्योग का उत्पादन पिछले एक दशक की तुलना में सबसे अधिक निचले स्तर पर पहुंच चुका है। गिरिडीह की हर टीएमटी फैक्ट्री में जहां हर रोज 300 से 350 सौ टन का उत्पादन हुआ करता था। वह अब घटकर महज 100 से 160 टन तक ही रह गया है। इसी तरह के हालात रियल एस्टेट सेक्टर में है जहां 14 लाख मकान बनकर तैयार हैं लेकिन कोई खरीदार नहीं है।


पारले कंपनी के कैटेगरी हेड मयंक शाह ने कहा है कि ''2017 में जीएसटी लागू होने के बाद से पारले के 'पारले जी' बिस्किट जैसे ब्रांड की बिक्री में कमी आई है। कर बढ़ने के कारण पारले को हर पैकेट में बिस्किटों की संख्या कम करनी पड़ रही है, जिसकी वजह से ग्रामीण भारत के निम्न आय वाले ग्राहकों की मांग पर असर पड़ रहा है। इसके कारण कंपनी के सबसे ज्यादा बिकने वाले 5 रुपये के बिस्किट पर असर पड़ा है। 'पारले बिस्किट की बिक्री में कटौती का सीधा मतलब है कि कंपनी को अपने उत्पादन में कटौती करनी पड़ेगी, जिसके कारण आठ से दस हजार लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।''


कार्वी स्टाक ब्रोकिंग के सीईओ राजीव सिंह ने कहा है कि देश की आर्थिक क्षेत्र में फिलहाल हर चीज गलत राह पर जाती दिख रही है चाहे वह शेयर बाजार हो अथवा अर्थव्यवस्था, बजट के बाद से निफ्टी आठ फीसदी लुढ़क चुका है। इस दौरान निवेशकों की करीब 12 लाख करोड़ रू. की संपत्ति डूब चुकी है। (स्रोत : राष्ट्रीय सहारा 18 अगस्त)


लार्सन एवं टुब्रो (एल एण्ड टी) के चेयरमैन और नेशनल स्किल डेवलपमेंट के हेड एएम नईक ने कहा है कि ''सरकार की मेक इन इंडिया योजना के तहत ज्यादा नौकरियां नहीं पैदा हो पायी हैं। हम सामान निर्यात करने की बजाय नौकरियां निर्यात कर रहे हैं। कम्पनियां देश में बने माल की बजाय विदेशों से माल आयात कर रही हैं।''


इस तरह के वक्तव्य देने वाले लोग सरकार के दुश्मन नहीं हैं बल्कि ये मोदी सरकार के हितैषी रहे हैं। मंत्री महोदया आप सोच रही हैं कि कारपोरेट कर को 30 प्रतिशत से घटाकर कर 25 प्रतिशत कर दिया जाये। रिजर्व बैंक के गवर्नर भी कहते हैं कि कम्पनियों की परिसंपत्ति गुणवत्ता की जांच नहीं कि जायेगी। 2016 के अंत और 2017 के शुरूआत में किया कम्पनियों की परिसंपत्ति गुणवत्ता की जांच की गई थी जिसके कारण 40 बड़े कर्जदताओं के खातों को एनपीए के रूप में पहचान की गई थी और बैंको को इन्हें दिवाला समाधान प्रक्रिया के लिए भेजने को कहा गया।


मंदी के कारण आत्महत्याएं


अर्थव्यवस्था की हालत यहां तक पहुंच गई है कि 2500 करोड़ के सलाना कारोबार करने वाले 'कैफे कॉफी डे' के मालिक वीजी सिद्धार्थ को अत्महत्या करनी पड़ी जिसका व्यापार विदेशों में भी फैला हुआ था। मंदी के कारण सम्पन्न वर्ग में भी आत्महत्याएं हो रही हैं।


मंदी की मार तो आपके घर तक पहुंच चुकी है। आपके ही पार्टी के जमशेदपुर के आईटी सेल के प्रभारी कुमार विश्वजीत के 25 वर्षीय बेटे आशीष कुमार नौकरी जाने के डर से आत्महत्या कर लिया। आशीष खड़ंगझार की एक कम्पनी में काम करते थे जो कि टाटा मोटर्स के लिए पार्ट्स बनाने का काम करती थी। आशीष के पिता ने कहा है कि टाटा मोटर्स में प्रोडेक्शन काफी समय से रूका हुआ था जिसका असर आशीष की कम्पनी पर पड़ रहा था इसके कारण वह काफी समय से डरा सहमा रहता था।


देहरादून के प्रेमनगर क्षेत्र के धूलकोट में 2 अगस्त् को पिज्जा चलाने वाले कारोबारी ने आत्महत्या कर लिया जिसका कारण व्यापार में घाटा होना बताया जा रहा है। कर्ज से परेशान क्रिकेटर वी बी चन्द्रषेखर ने आत्महत्या कर ली। कर्नाटक के 36 साल के व्यापारी ओम प्रकाश ने परिवार के पांच लोगों के साथ आत्महत्या कर लिया जिसका कारण व्यापार में घाटा था। 3 अगस्त को ट्रक कि किस्तें नहीं चुका पाने के कारण हरियाणा निवासी 34 वर्षीय दलजीत सिंह ने अपने घर में आत्महत्या कर लिया।


आत्महत्या करने वालों में केवल साधारण आदमी या लघु रोजगार के बंद हुए लोगों की ही नही है बल्कि औद्योगिक क्षेत्र के जाने माने दिग्गजों की भी है। लगातार बढ़ती जा रही यह लिस्ट यहीं नही थमने वाली है। मंत्री महोदया आप सरकार को आईना दिखाने वाले लोगों पर ही तोहमत लगा रही हैं कि आर्थिक मंदी की बात करने वाले अर्थव्यवस्था को चौपट करने की साजिश कर रहे हैं जबकि सरकार ने 1 जुलाई, 2019 को लोकसभा मे जानकारी दी है कि देश में 6.8 लाख से अधिक कम्पनियां बंद हो गई हैं। कम्पनियां बंद होना मंदी की निशानी नहीं है, क्या यह अर्थव्यवस्था चौपट करना और सरकार को राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न करने की एक कुटिल चाल है? जहां पहले नौकरियां जाना समाचार का हिस्सा होता था वहीं आपके सरकार में यह विज्ञापन बन गया है। निर्मला सीतारमण जी अंत में आप से यही कहूंगा कि “हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फ़ारसी क्या”। आप तो वास्तविकता को जानती है लेकिन आप मुंह फेर लेना चाहती है कि ताकि वह समय निकल जाये। यह मंदी मुंह फेरने से नहीं निकलेगा इस सच्चाई को कबूला करना होगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

साई अपार्टमेंट सेक्टर 71 में लगाया गया टीकाकरण शिविर