आरक्षण को लेकर विपक्ष लोगों के मन में पुनः भ्रम पैदा करने की कोशिश
नई दिल्ली

केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री  रामविलास पासवान ने RSS के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी के आरक्षण संबंधी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि आरक्षण को लेकर विपक्ष लोगों के मन में पुनः भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहा है, जो बिल्कुल निराधार है। आरक्षण संवैधानिक अधिकार है और यह अधिकार महात्मा गांधी और बाबा साहेब अंबेडकर के बीच हुए पूना पैक्ट का नतीजा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने बार बार कहा है कि दुनिया की कोई भी ताकत आरक्षण को खत्म नहीं कर सकती है। आरक्षण पर किसी तरह का कोई विचार करने की कोई आवश्यकता नहीं है। विपक्ष ने लोकसभा के चुनाव में भी आरक्षण को मुद्दा बनाने की कोशिश की थी लेकिन उसका परिणाम उल्टा निकला। आरक्षण पहले अनुसूचित जाति, जन जाति और पिछड़ी जातियों के लिए ही था। अब नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने ऊँची जाति के गरीबों को भी आरक्षण देने का काम किया है। इसलिए आरक्षण पर अब कोई विवाद नहीं है और न ही इस पर विचार करने की कोई आवश्यकता है।