औषधीय पौधों और पेड़ों से हरा भरा है योगदा आश्रम का दिव्य वातावरण


 

सच्चिदानंद वर्मा 

नोएडा :  परमहंस योगानंद के नोएडा स्थित योगदा शाखा आश्रम में अनेक किस्म के चिकित्सीय पौधों, फूलों और पेड़ों को लगाया गया है जिसे कहीं और उगाना कठिन है क्योंकि उनके फलने फूलने के अनुकूल जलवायु सर्वत्र उपलब्ध नहीं है. यह गुरु की कृपा ही है कि यहां का वातावरण विभिन्न किस्म के औषधीय पौधे जैसे अजवाइन, पेड़ हर्र या हरीतकी, कैथा, सीता अशोक आदि से हरा भरा हुआ है. आज पाठकों को यहाँ लगे कुछ पौधों और पेड़ों से परिचय कराया जा रहा है.







.

 अजवाइन सूखे और बंजर क्षेत्रों में उगती है। यह मसाला मिस्र में पाया जाता है, लेकिन ईरान, भारत, पाकिस्तान और अन्य देशों सहित दक्षिण और पश्चिम एशिया के कई अन्य हिस्सों में भी उगाया जाता है। भारत के भीतर गुजरात और राजस्थान ऐसे क्षेत्र हैं जो अजवाइन की खेती के लिए जाने जाते हैं।

 कैथा (Kaitha). को कुछ लोग  वुड एप्पल नाम से भी जानते हैं. इस फल के सेवन से डायबिटीज और कोलेस्ट्रॉल (Diabetes-Cholesterol) कंट्रोल में रहता है. इससे पाचन बेहतर रहती है और पाइल्स जैसी समस्या से भी राहत मिल सकती है.

कैथा जिसे अंग्रेजी में वुड एप्पल कहते हैं इसका वैज्ञानिक नाम लिमोनिया एसिडिस्सिमा है। इसे आम भाषा में हाथी सेव या हाथी फल भी कहा जाता है। यह दक्षिण और दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों में बहुतायत में पाया जाता है। इसका नाम वुड एप्पल पड़ने के पीछे कारण है कि इसका जो बाहरी खोल होता है वो बहुत कड़ा और लकड़ी जैसा होता है।

 हरीतकी एक ऊँचा वृक्ष होता है एवं भारत में विशेषतः निचले हिमालय क्षेत्र में रावी तट से लेकर पूर्व बंगाल-आसाम तक पाँच हजार फीट की ऊँचाई पर पाया जाता है। हिन्दी में इसे 'हरड़' और 'हर्रे' भी कहते हैं। आयुर्वेद ने इसे अमृता, प्राणदा, कायस्था, विजया, मेध्या आदि नामों से जाना जाता है।

 एंटी बैक्टीरियल और एंटी इंफ्लामेंटरी गुणों से भरपूर हरड़ रोग प्रतिरोधक क्षमता से भरपूर होती है। हरड़ में प्रोटीन, पोटैशियम, मैग्नीज़, विटामिन्स, आयरन और कॉपर पाया जाता है।

अर्जुन वृक्ष भारत में होने वाला एक औषधीय वृक्ष है। इसे घवल, ककुभ तथा नदीसर्ज भी कहते हैं। कहुआ तथा सादड़ी नाम से बोलचाल की भाषा में प्रख्यात यह वृक्ष एक बड़ा सदाहरित पेड़ है। लगभग 60 से 80 फीट ऊँचा होता है तथा हिमालय की तराई, शुष्क पहाड़ी क्षेत्रों में नालों के किनारे तथा बिहार, मध्य प्रदेश में काफी पाया जाता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

ईश्वर के अनंत आनंद को तलाश रही है हमारी आत्मा

सेक्टर 122 हुआ राममय. दो दिनों से उत्सव का माहौल