संपूर्ण गीत गोविंद का पहला डिजिटल संकलन

                                




नई दिल्ली : पांच साल के गहन शोध ने एक नए युग की कलात्मक रचना का सृजन किया है — प्रामाणिक कथक में संपूर्ण गीत गोविंद का पहला चित्रण। किसी भी नृत्य के लिए किया गया इस तरह का यह पहला प्रयास है।

जयदेव की प्रसिद्ध 12वीं शताब्दी की संस्कृत कविता के सभी 24  गीतों को उत्तर भारतीय शैली में प्रस्तुत किया गया है। और इसका श्रेय जाता है कथक के प्रसिद्ध गुरु डॉ. पाली चंद्रा और उनकी टीम को, जिन्हें केरल स्थित नाट्यसूत्र-इनविस टीम का समर्थन प्राप्त हुआ। एक हजार दिनों में दो सौ लोगों की टीम ने इस कार्य को पूरा किया। 

Natyasutraonline.com द्वारा किए गए इस महत्वपूर्ण कार्य में 24 प्रबंधों की उत्कृष्ट कृति के पूर्ण पाठ की कोरियोग्राफी है, जिसमें यमुना के किनारे सखियों के साथ भगवान कृष्ण को दिखाते हुए कृष्ण और राधा के प्रेम को भी चित्रित किया गया है। 

चूंकि इस डिजिटल सामग्री को दुनिया भर में वितरण के लिए तैयार किया गया है, नाटयसूत्र के अनुसार, कार्यक्रम एक से पांच साल तक की विभिन्न अवधियों  के लिए ग्राहकों के लिए उपलब्ध रहेगा।

प्रसिद्ध गुरु विक्रम सिंघे और गुरु कपिला राज की प्रमुख शिष्या स्विट्जरलैंड में बसी गुरु डॉ. पाली चंद्रा कहती हैं कि लाभार्थी पेशेवर नर्तक, छात्र और संस्कृति को बचाने के इच्छुक लोग होंगे। "ये वीडियो संस्कृति शोधकर्ताओं, प्रदर्शन करने वाले कलाकारों और विभिन्न शैलियों के कोरियोग्राफरों के लिए भी उपयोगी होंगे," कथक की वैश्विक राजदूत, लखनऊ में जन्मे उस्ताद डॉ. पाली चंद्रा ने बताया। 

कार्यक्रम को नाट्यशास्त्र और अभिनय दर्पण के आधार पर तैयार किया गया है ताकि सभी नृत्य रूपों के छात्र इस सामग्री का प्रयोग अपने-अपने नृत्यों में कर सकें। गुरु डॉ. पाली चंद्रा की 21 वीं सदी की व्याख्या की मदद से, शिक्षार्थी मूल रचना के हर पहलू को समझ पाता है। 

जयदेव ने गीत बनाने के लिए अष्टपदी या आठ दोहों के समूह का इस्तेमाल किया। कक्षा शिक्षण में उसी खाके का अनुसरण करती है। प्रत्येक कक्षा में  व्याख्या और कोरियोग्राफी टिप्स, शिक्षण और प्रदर्शन, व कविता है।

यहां, गुरु डॉ. पाली चंद्रा छात्रों को मंच पर और नए मीडिया के लिए प्रदर्शन करने के लिए मार्गदर्शन करती हैं। इतना ही नहीं, शिक्षक नृत्यकला के अर्थ और बारीकियों की व्याख्या करने के साथ-साथ संगीत रचनाओं और नृत्य शब्दावली के बारे में भी बताती हैं।

चूंकि रचना मूल रूप से संस्कृत में लिखी गई थी, पाठ की समग्र समझ के लिए नृत्य प्रस्तुति में उपशीर्षक (सब-टाइटल) प्रदान किए गए हैं। संस्कृत पद्य का शाब्दिक अर्थ भी एक अलग 'कार्य में कविता' खंड के रूप में प्रदान किया गया है ताकि छात्र को मूल पाठ को और बेहतर ढंग से समझने में मदद मिल सके। इस खंड में, गुरु डॉ. पाली चंद्र इस रचना के अंग्रेजी अनुवाद के एक ऑडियो संस्करण की सहायता से अभिनय के माध्यम से गीत गोविंद का सार भी प्रस्तुत करते हैं। जबकि सभी प्रस्तुतियों में अंग्रेजी में भी उपशीर्षक हैं, इस वैश्विक भाषा का उपयोग स्पष्टीकरण, शिक्षण और प्रस्तुतियों के लिए भी किया जाता है। संस्कृत छंदों के अर्थ भी अंग्रेजी में दिए जाते हैं।

नाट्यसूत्र भी जल्दी ही गीत गोविंद से संबंधित समानान्तर का एक सेट लाने की योजना बना रहा है। इनमें कॉफी-टेबल प्रारूप में एक ई-बुक, भित्ति चित्र, दीवार की सजावट और स्वदेशी शिल्प की कलाकृतियां शामिल हैं।


जयदेव जिस दुनिया में रहते थे, वह उनके समय से आठ शताब्दियों में काफी बदल गई है, फिर भी उनकी तड़प, दर्द और अंततः पूर्णता की कहानी आज भी सच है, कहना है गुरु डॉ. पाली चंद्रा का। वह आगे कहती हैं, "भगवान कृष्ण और राधा की कहानी प्राचीन भारत के प्रेम, विश्वास और जीवन के प्रति गहन आत्म-जागरूक दृष्टिकोण के लोकाचार का प्रतीक है। उपमहाद्वीप के नृत्य और संगीत से परे कलाओं पर गीत गोविंद का प्रभाव प्रलेखन को भावी पीढ़ियों के लिए एक अमूल्य संदर्भ सामग्री बनाता है।"

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*"आज़ादी के दीवानों के तराने* ’ समूह नृत्य प्रतियोगिता में थिरकन डांस अकादमी ने जीता सर्वोत्तम पुरस्कार

सेक्टर 122 हुआ राममय. दो दिनों से उत्सव का माहौल

हर्षोल्लास व उत्साह के साथ मनाया गया 75वां गणतंत्र दिवस सेक्टर 122 में