आईआईएलएम युनिवर्सिटी का आईबीएम से महत्वपूर्ण करार, विद्यार्थियों को मिलेगी अत्याधुनिक तकनीकों की जानकारी और खास आईबीएम डिजिटल बैज



ग्रेटर नोएडा :
आईआईएलएम युनिवर्सिटी, ग्रेटर नोएडा ने अगस्त 2022 में आईबीएम इनोवेशन सेंटर फॉर एजुकेशन के साथ एक सहमति करार (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। करार पर हस्ताक्षर डॉ. तरुना गौतम, वाइस चांस्लर, ईआईएलएम युनिवर्सिटी और श्री विट्ठल मद्यालकर, निदेशक, आईबीएम इनोवेशन सेंटर फॉर एजुकेशन ने किए। हस्ताक्षर समारोह में श्री आर. हरि, आईबीएम लीडर फॉर बिजनेस डेवलपमेंट एंड एकेडेमिया रिलेशनशिप, डॉ. रवींद्रनाथ नायक, निदेशक-आईआईएलएम ग्रेजुएट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट और डॉ. शिल्पी अग्रवाल, प्रमुख, कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग, आईआईएलएम यूनिवर्सिटी, ग्रेटर नोएडा की मौजूदगी रही।
 
दो प्रतिष्ठित ज्ञानवर्धन केंद्रों के करार पर डॉ तरुना गौतम, वाइस चांसलर, आईआईएलएम युनिवर्सिटी, ग्रेटर नोएडा ने कहा, “हम इस प्रगति से बेहद उत्साहित हैं क्योंकि यह सक्षम प्रोफेशनल बनाने और उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने के हमारे लक्ष्य के अनुरूप है। नए करार के तहत आईबीएम युनिवर्सिटी के छात्रों को अत्यावश्यक व्यावहारिक आईटी ज्ञान प्रदान किया जाएगा। इस तरह सीखने का संरचनाबद्ध मार्ग प्रशस्त होगा। आईबीएम का इनोवेशन सेंटर फॉर एजुकेशन प्रोग्राम छात्रों को नई उभरती प्रौद्योगिकियों और क्लाउड कंप्यूटिंग और वर्चुअलाइजेशन, डेटा विज्ञान और बिजनेस एनालिटिक्स, ग्राफिक्स और गेमिंग टेक्नोलॉजी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, ब्लॉकचैन, साइबर सुरक्षा और फोरेंसिक, आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रबंधन, और इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसे इंडस्ट्री डोमेन का ज्ञान प्रदान करेगा।’’

छात्रों को टेलीकम इन्फॉर्मेटक्स, बैंकिंग, वित्तीय सेवाओं और बीमा सूचना विज्ञान, ई-कॉमर्स और रिटेल सूचना विज्ञान और हेल्थकेयर सूचना विज्ञान जैसे विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रों में काम करने के लिए आवश्यक सूचना प्रौद्योगिकी कौशल बढ़ाने का भी मौका मिलेगा।

आईबीएम इनोवेशन सेंटर फॉर एजुकेशन के कई यूनिक इनीशिएटिव और स्किल्स हैं जो यूनिक और समय की कसौटी पर खरे उतरते हैं। इनका विकास आईबीएम में प्रशिक्षित और प्रमाणित शिक्षक और प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ करते रहे हैं। आईबीएम के कोर्सवेयर गहन और व्यावहारिक हैं जो खास कर आईआईएलएम युनिवर्सिटी के  छात्रों के लिए उपलब्ध होंगे। यह पहल एनईपी 2020 के मानकों के अनुरूप है, जो प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में कक्षा के अंदर प्रशिक्षण के साथ प्रोजेक्ट और प्रयोगशाला पर आधारित शिक्षा को बढ़ावा देती है।

यह प्रोग्राम छात्रों को इंटरव्यू, इंटर्नशिप के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेकर ना केवल सबसे आगे रहने में मदद करेगा, बल्कि युनिविर्सिटी की डिग्री के साथ-साथ आईबीएम का डिजिटल बैज देगा जिसकी पूरी दुनिया में मान्यता है।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सुपरटेक टावर के ध्वस्त होने के बाद बढ़ेंगी स्वास्थ्य चुनौतियां, रखें ये सावधानियॉ

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

साई अपार्टमेंट सेक्टर 71 में लगाया गया टीकाकरण शिविर