कथाकार 2022: भारत के अनूठे स्टोरीटेलिंग उत्सव की शानदार शुरुआत

 

नई दिल्ली


: ऐसे समय में जबअत्याधुनिक मशीनों और उपकरणों का दुनिया पर वर्चस्व कायम है, कहानी कहने की पारंपरिक शैली को पुनर्जीवित करने के लिए एक व्यापक आयोजन ‘कथाकर2022’, की राष्ट्रीय राजधानी में एक शानदार शुरुआत हुई।इस तथ्य को रेखांकित करने के लिए कि कहानी सुनाना एक ऐसा माध्यम है जो महाद्वीपों और संस्कृतियों में समान है, देश-विदेश के पेशेवर और उत्साही कहानी गढ़ने वाले लोगों के एक समूह ने अपने मंत्रमुग्ध कर देने वाले शिल्प को दिखाना शुरू कर दिया है। 

अचानक आई बारिश और तेज़ हवाओं से बेपरवाह, इसमें हिस्सा लेने वाले और दर्शकों का उत्साह देखते ही बनता था। ऐसा होना स्वाभाविक भी था, क्योंकि वार्षिक आयोजन का 14 वां संस्करणकोविडमहामारी के कारण दो साल के लंबे व्यवधान के बाद अपने पुराने रूप में लौटा है।थार,मुल्तान और पोलैंड के रेगिस्तान की कुछ आश्चर्यजनक कहानियां और संगीत के साथ इस आयोजन ने एक बार फिर अपनी गति पकड़ी। 


यह याद करते हुए कि बचपन के दिनों में, वह कैसे पहाड़ी की चोटी पर स्थित अपने गांव से असम के तेजपुर शहर में सिनेमा देखने आते थे, केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री श्री किरण रिजिजू ने शुक्रवार शाम को दो दिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत की।


"उन दिनों हर जगह सिनेमा हॉल नहीं थे और जब हमें शहर आने का मौका मिलता था,जहां चार सिनेमा हॉलमें फिल्में दिखाई जाती थीं, तो मैं एक दिन में पांच फिल्में देखता था, क्योंकि हम इसका अधिकतम लाभ उठाना चाहते थे," उन्होंने अपने खास भाषण में बोलते हुए कहा।


“गाँवों से निकलने वाली कहानियां बहुत सशक्त होती हैं, क्योंकि वहां का जीवन बिलकुल अलग होता है… मुझे ऐसे लोक गीत और कहानियां बहुत पसंद हैं जो हमारे जीवन से जुड़ी होती हैं। जब भी मैं फिल्म निर्माताओं से मिलता हूं,तो मैं उनसे गांवों की कहानियों पर आधारित फिल्में बनाने का आग्रह करता हूं," उन्होंने जाने-माने फिल्म निर्माता, लेखक और निर्माता इम्तियाज अली की ओर देखते हुए कहा जो मंच पर उनके साथ बैठे थे। 


श्री किरण रिजिजूनेप्रसिद्ध गीतकार और संगीतकार मोहित चौहान के साथब्लॉकबस्टर फिल्म‘शोले’ का 'ये दोस्ती हम नहीं छोड़ेंगे' गाना गाकर सबको चौंका दिया। चौहान,जो इस उत्सव के संरक्षक हैं और भारत में मंगोलिया के सांस्कृतिक दूत भी हैं,ने याद दिलाया कि कैसे वे दोनों अपने खाली समय में लोक गीत गाया करते थे और लोक कथाओं को सुना करते थे। 


केंद्रीय संस्कृति राज्य मंत्री श्रीमती मीनाक्षीलेखी,जिन्होंने भव्य हुमायूं के मकबरे से सटी सुंदर नर्सरी में कार्यक्रम की शुरुआत के अवसर पर श्री रिजिजू के साथ दीप प्रज्ज्वलित किया,ने भी अपने कॉलेज के दिनों की कुछ घटनाओं को साझा करते हुए कहा कि उन्होंने कैसेभूतों पर अपनी बात साबित करने के लिए, कॉलेजट्रिप के दौरान आधी रात को कब्रिस्तान जाने की चुनौती स्वीकार की थी।

‘‘मैं सहमत हो गई,लेकिन ट्रिपपर छात्रों के साथ आए शिक्षक द्वारा पकडी गई और कब्रिस्तान जाने की योजना सफल न हो सकी," उन्होंने  हंसते हुए कहा।


श्रीमती लेखी और मिस्टर रिजिजू ने अन्य अतिथियों के साथ शागुना और प्रार्थना गहिलोट द्वारा लिखित पुस्तक 'क्यूरियसटेल्सफ्रॉम द डेजर्ट' का भी विमोचन किया। इन्होंने अपनी बहन रचना गहिलोटबिष्ट के साथ उत्सव कोक्यूरेट भी किया है। 


इस अवसर पर अपने विचार साझा करते हुए,इम्तियाज अली ने कहा कि चूंकि कार्यक्रम में मौजूद दोनों केंद्रीय मंत्री चाहते हैं कि फिल्म निर्माता भूतों पर और अधिक फिल्में बनाएं, तो वह निश्चित रूप से इस विचार पर विचार करेंगे और इस विषय पर अच्छी कहानियों के साथ आएंगे।


इससे पहले,मुंबई की अभिनेत्री सांची पेशवानी,जिन्होंने कई हिंदी और तमिल फिल्मों और गुजराती नाटकों में काम किया है,ने अपने द्वारा लिखित एक लोक कथा प्रस्तुत की। नाटकीय प्रस्तुति के माध्यम से,उन्होंने मुख्य पात्र जीतू पंडित की कहानी सुनाकर स्कूली बच्चों के साथ-साथ दर्शकों को भी मंत्रमुग्ध कर दिया। जीतू पंडितऐसे व्यक्ति की कहानी है जो बहुत लालची था और सस्ते दामों पर या मुफ्त में चीजें पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता था। कहानी में बताया गया है कि कैसे जीतू ने सस्ते दाम पर नारियल खरीदने के लिए दूसरों के साथ-साथ अपनी जान भी खतरे में डाल दी।


पोलैंड के एक पेशेवर कहानीकार,माइकलमालिनोव्स्कीने दो कहानियां प्रस्तुत कीं,जिन्होंने दर्शकों,विशेषकर स्कूली बच्चों को बहुत उत्साहित किया। उनकी एक कहानी एक अंधे व्यक्ति के बारे में थी जो एक अभिमानी शिकारी को एक बेहतर इंसान बनाने में सफल हो पाया। कहानी सरल होने के बावजूद इतनी प्रभावशाली थी कि दर्शकों में मौजूद बच्चे और अन्य लोग भी कलाकार के साथ इसे दोहराने लगे। 

आज दूसरे और अंतिम दिन, थिएटर कलाकार सिकंदर खान और शांतनुमोइत्रा द्वारा कहानी सुनाने के सत्र होंगे। सिकंदर खान राजस्थान की लोक कथाओं का वर्णन करेंगे,जिनमें पद्म श्री और साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता विजयदानदेथाकी कहानियां भी शामिल हैं। थ्रीइडियट्स,परिणीता और पीके जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों के संगीत निर्देशक शांतनुमोइत्रा‘स्टोरीजफ्रॉमहिमालयाज’नामक सत्र में दर्शकों का मनोरंजन करेंगे। मदन गोपाल सिंह और उनकी मंडली ‘चार यार’ रेगिस्तानी सूफी संगीत के साथ दर्शकों को मंत्रमुग्ध करेगी।


दोनों दिन, मंगोलिया के कलाकार बैट-अमगलनओरसूके चित्रों की प्रदर्शनी स्थल पर प्रदर्शित की जाएगी। 


अलग-अलग संस्कृतियों की कहानी कहने की परंपराओं के रहस्य और भव्यता को उजागर करने का प्रयास करने वाला यह उत्सव पहली बार 2010 में यूनेस्को के तत्वावधानमें एक यात्रा साहित्य उत्सव ‘घुमक्कड़ नारायण’ के हिस्से के रूप में शुरू किया गया था। इसे भारत के पहले ब्रेल संपादक और उत्साही पाठक ठाकुर विश्व नारायण सिंह की याद में आयोजित किया जाता है।


इस उत्सव को अब तक अन्य लोगों के अतिरिक्त, (दिवंगत) डॉ. एपीजेअब्दुल कलाम,डॉ. शशि थरूर,मार्गरेटअल्वा,सुनील शास्त्री,नंदिता दास,सुषमासेठ, एमिलीग्रेवेट,जोआनब्लेक,टीयूयूपी,जोसेफ बेले और ज़ांथेग्रेशम ने संबोधित कर चुके हैं। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सुपरटेक टावर के ध्वस्त होने के बाद बढ़ेंगी स्वास्थ्य चुनौतियां, रखें ये सावधानियॉ

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

साई अपार्टमेंट सेक्टर 71 में लगाया गया टीकाकरण शिविर