राज्य शिक्षा मंत्री डा. सतीश चंद्र द्विवेदी द्वारा राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत के उत्तर प्रदेश पुस्तक प्रोन्नयन केन्द्र, लखनऊ का उद्घाटन

 


लखनऊ 

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत, उत्तर प्रदेश के पुस्तक प्रेमियों के लिए लखनऊ में पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र का


6 सितंबर  को उद्घाटन किया गया। यह पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र लखनऊ विश्वविद्यालय के निकटस्थ मेट्रो स्टेशन के प्रथम स्थल कॉनकोर्स लेवल, विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन लखनऊ पर स्थित है।

पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र का उद्घाटन डा. सतीश चंद्र द्विवेदी, राज्य मंत्री, (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा, उत्तर प्रदेश के कर कमलों द्वारा एवं राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत  के अध्यक्ष प्रो. गोविन्द प्रसाद शर्मा, निदेशक श्री युवराज मलिक की गरिमामयी उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री बिजय कुमार मौर्य, आईएएस, एडीजी, उत्तर प्रदेश पुलिस, श्री कुमार केशव, प्रबंध निदेशक, उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोशन लिमिटेड, डॉ. अनिता भटनागर जैन, आईएएस, पूर्व प्रमुख सचिव शिक्षा व सदस्य राज्य अधिकरण उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महिला एवं शिक्षा एवं बाल विकास तथा उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। 

पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र का उद्घाटन डा. सतीश चंद्र द्विवेदी, राज्य मंत्री, (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा, उत्तर प्रदेश के कर-कमलों द्वारा किया गया। इस अवसर पर माननीय मंत्री ने कहा कि लखनऊ मेट्रो स्टेशन पर उ.प्र. बी.पी.सी. के खुलने से लखनऊ एवं उत्तर प्रदेश के युवा पाठकों को विशेष सुविधा मिली है।

न्यास के अध्यक्ष प्रो. गोविन्द प्रसाद शर्मा ने लखनऊ में पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र स्थापिन करने के पीछे उद्धेश्य बताया की उत्तर प्रदेश देश में मानव पूंजी में सर्वोच्च है और यह पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र नए भारत के विचार को आकार देने के लिए हमें युवाओं की बौद्धिक क्षमताओं को बढ़ाने में मददगार साबित होगा।

न्यास के निदेशक श्री युवराज मलिक ने इस अवसर पर लखनऊ के लोगों को बधाई दी और न्यास द्वारा युवा लेखकों को प्रोत्साहित करने के लिए माननीय प्रधानमंत्री द्वारा जारी युवा मेटंरशिप योजना के बारे में भी बताया और यह सुचित किया कि यह योजना देश के नवोदित लेखकों को आगे बढ़ाने में काफी सहायक होगा साथ ही उन्होंने न्यास की विभिन्न परियोजनाओ के बारें में भी बताया। निदेशक ने श्री कुमार केशव को भी पढ़ने के विचार को समर्थन और बढ़ावा देने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोशन के साथ न्यास ने मेट्रों में पुस्तक पढ़ने को बढ़ावा देने के लिए अभियान भी आरंभ किया है। 

न्यास का लखनऊ पुस्तक प्रोन्नयन केंद, पुस्तक प्रोन्नयन की अनेक गतिधियों का केंद्र होगा, इसके अतिरिक्त पुस्तक प्रेमी पाठक मंच, लेखक मंच, युवा लेखक प्रोत्साहन योजना, पंचायत पुस्तकालय परियोजना, संचल पुस्तक परिक्रमा व पुस्तक प्रदर्शनी एवं साहित्यिक गतिविधियाँ का लाभ भी उठा सकते हैं।

न्यास के इस पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र में 55 सें अधिक भारतीय भाषाओं एवं बोलियों में विज्ञान, साहित्य, समाज, कला एवं सस्ंकृति, शिक्षा तथा प्रतियोगिता परिक्षाओं के विषयों से जुड़ी उत्कृष्ट पुस्तकें तो होगीं ही, साथ ही पुस्तकों पर सभी के लिए विशेष 10ः की छूट, मेट्रो कार्ड धारको को 15ः, बुक क्लब सदस्य (आजीवन सदस्यता) को 20ः व हिन्दी पखवाड़ा (1 से 30 सितम्बर) के दौरान हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं की पुस्तको पर 20ः की छूट भी मिलेगी। आगंतुक 30 सितंबर 2021 तक मात्र एक रुपये (रु. 1.00) में बुक क्लब की आजीवन सदस्यता का भी लाभ उठा सकता है। 

उद्घाटन के अवसर पर 06 से 10 सितंबर तक लखनऊ पुस्तक प्रोन्नयन केंद्र पर पुस्तक प्रेमियांे को न्यास की सभी पुस्तकों पर 25ः तक की विशेष छूट दी जाएगी। 

इस अवसर पर बड़ी संख्या में लेखक, साहित्यकार, वितरक तथा बहुत सारे पुस्तक प्रेमी उपस्थित थे। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन