नई पीढ़ी को मिश्रित शिक्षा एनईपी 2020 के लिए विकसित करने के उद्देश्य से आईपी ​​विश्वविद्यालय ने अंतर्राष्ट्रीय एफडीपी का उद्घाटन किया

 नई दिल्ली 


महामारी की संकर स्थिति में, अतुल्यकालिक संचार में कक्षाओं में भाग लेना युवा शिक्षार्थियों के लिए कम चुनौती नहीं है। इसे देखते हुए आईपी विश्वविद्यालय के मास कम्युनिकेशन स्कूल ने गुरुवार को "डेवलपिंग एकेडमिक लीडर्स फॉर फ्यूचर: द वे फॉरवर्ड" थीम पर ऑनलाइन फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम / रिसर्च मेथोडोलॉजी वर्कशॉप का दो-सप्ताह 15 अप्रैल 2021 से 27 अप्रैल के लिए उद्घाटन किया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 पर ध्यान केंद्रित करने के साथ, इस कार्यशाला का उद्देश्य अगली पीढ़ी के नेताओं का निर्माण करना है, जो एनईपी में कल्पना के अनुसार मिश्रित शिक्षा को संभालने के लिए सुसज्जित हों। कार्यक्रम जन संचार और पत्रकारिता, मानविकी और सामाजिक विज्ञान और संबंधित विषयों  में शोधकर्ताओं और फैकल्टी  के लिए फायदेमंद है।

प्रो0 महेश वर्मा, वीसी, जीजीएसआईपीयू, ने उद्घाटन सत्र के दौरान वर्तमान महामारी की स्थिति में  उच्च शिक्षा में मिश्रित शिक्षण  के महत्व पर बल दिया। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा में फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम से विज्ञान के विभिन्न पहलुओं के साथ-साथ उभरती हुई शैक्षिक तकनीकों जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की गहरी समझ विकसित करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, मुख्य अतिथि अखिलेश मिश्रा, अतिरिक्त सचिव, विदेश मंत्रालय ने कहा कि संकट अवसर लाता है, इस आपदा ने पढ़ने और पढ़ाने के तरीको को बदला है I उन्होंने कहा की शिक्षक देश के भविष्य को आकार देता है I साथ ही उन्होंने मिश्रित  शिक्षण और भारतीय भाषाओं के महत्व पर जोर देने के लिए नई शिक्षा निति  2020 की भी प्रशंसा की।
कई देशों में लॉकडाउन जारी रहने की संभावना के साथ  यात्रा सुरक्षा और सामाजिक दूरी की आवश्यकता  और ऑनलाइन /वर्चुअल टेक्नोलॉजी  को पाठ्यक्रम वितरण में एकीकृत करने की तत्काल आवश्यकता है। विशेषज्ञों ने सत्र के दौरान विकसित शिक्षण पारितंत्र स्थिति के साथ-साथ वास्तविक और संभव समाधानों की खोज पर विचार-विमर्श किया I  कार्यक्रम ने उच्च शिक्षा में रिसर्च और टेक्नोलोजी  से संबंधित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को संबोधित किया I   "एजुकेशन इन द डिजिटल ऐज : क्रिएटिविटी एंड क्रिटिकल थिंकिंग" जैसे महत्वपूर्ण, सामयिक विषयों पर चर्चा हुई I
कार्यक्रम भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर) , शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार, द्वारा प्रायोजित  हुआ । रवि दाधीच, रजिस्ट्रार, जीजीएसआईपीयू; प्रोo  ए.के. सैनी, अध्यक्ष, नेक , जीजीएसआईपीयू; प्रोo कवीनी  प्रधान, डीन, यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन; डॉo  दुर्गेश त्रिपाठी, यूएसएमसी; डॉo  सचिन भारती, यूएसएमसी; और फिलीपींस, मलेशिया, स्लोवाकिया और लंदन, अमेरिका विभिन्न ज्ञान भागीदारो ने इस कार्यक्रम आयोजन कियाI

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन