पुस्तक मेले के वर्चुअल संस्करण का आयोजन 6 से 9 मार्च तक

शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंक' नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले (वर्चुअल संस्करण) का उद्घाटन करने जा रहे हैं

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत द्वारा स


पुस्तक मेले के 29 वें संस्करण का आयोजन 06 से 09 मार्च 2021 तक वर्चुअल संस्करण के रूप में आयोजित किया जाएगा. 

नई दिल्ली : शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक दोपहर 11.30 बजे वर्चुअल समारोह के माध्यम से पुस्तक मेले का उद्घाटन करेंगे. राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के अध्यक्ष  गोविंद प्रसाद शर्मा तथा निदेशक  युवराज मलिक इस मौके पर उपस्थित रहेंगे.

नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले के उद्घाटन से पहले राष्ट्रीय पुस्तक न्यास ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया. प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के चेयरमैन   गोविन्द शर्मा  ने मीडिया से आये सभी पत्रकारों का स्वागत किया साथ ही उन्होंने पुस्तक मेले से जुड़ी तमाम जानकारियांविस्तृत रूप से साझा कीं. उन्होंने बताया कि कोविड के कारण अभी हम सब की सीमाएं तय हैं इसलिए इस साल यह विश्व पुस्तक मेला वर्चुअल रूप में आयोजित हो रहा है.

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के निदेशक  युवराज मलिक ने मीडिया का धन्यवाद करते हुए मेले से जुड़ने की सभी तकनीकी जानकारियों के बारे में बताया.  उन्होंने बताया हमारी पूरी कोशिश यही रही है कि इस मेले को ज्यादा ज्यादा लोगों तक आसानी से पहुँचाया जाए.

मीडिया के उपस्थित लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए, श्री युवराज मलिक ने  सभी को सूचित किया कि 360 डिग्री अनुभव के साथ पुस्तक मेले का यह वर्चुअल संस्करण आगंतुकों के लिएएक यादगार अनुभव होगा.

थीम पैवेलियन :इस साल नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2021 वर्चुअल संस्करण नई शिक्षा नीति 2020 थीम पर आधारित होगा।नई शिक्षा नीति, भारत की शिक्षा नीति में यह पहला नया परिवर्तन है, जिसका उद्देश्य प्री-प्राइमरी स्तर से लेकर उच्च शिक्षा तक भारतीय शिक्षा प्रणाली को सार्वभौमिक बनाना है. यह नीति सभी के लिए समान रूप से शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने और भारत को एक वैश्विक महाशक्ति के रूप में मजबूत करने की दिशा में आगे बढ़ने का प्रयास है. 

प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना का सम्मान करते हुए नई शिक्षा नीति में, छात्रवृत्ति की उपलब्धता को बढ़ाने, ओपन और डिस्टेंस लर्निंग के लिए बुनियादी ढांचे को मजबूत करने, ऑनलाइन शिक्षा और प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ाने जैसे पहलुओं का बहुत ध्यान रखा गया है, ये शिक्षा क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण सुधार है.

मेले के दौरान शिक्षा और शिक्षाशास्त्र पर चर्चा, लेखकों, विद्वानों के साथ बातचीत, पुस्तक विमोचन समारोह, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि आयोजित किए जाएंगे. 

विदेशी भागीदार :यूके, यूएसए, यूएई, चीन, फ्रांस, ईरान, नेपाल, स्पेन, श्रीलंका, यूक्रेन, इटली सहित 15 से अधिक देश मेले में भाग ले रहे हैं.

B2B एक्टिविटीज़: नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला, भारत और विदेशों के प्रकाशकों के लिए B2B गतिविधियों के लिए एक मंच भी प्रदान करता है. न्यास और FICCI द्वारा आयोजित एक प्रकाशक का फोरम, CEOSpeakराष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में प्रकाशकों के लिए चुनौतियों और अवसरों पर ध्यान केंद्रित करेगा।

प्रकाशक : भारत और विदेश के 160 से अधिक प्रकाशक और प्रदर्शक ई-स्टॉल के माध्यम से मेले में भाग लेंगे, सभी प्रमुख भारतीय और विदेशी भाषाओं में पुस्तकों के साथ आगंतुकों को परिचित कराएंगे. आगंतुक अधिक उत्पादों को देखने के लिए ई-स्टॉल से सीधे प्रदर्शक / प्रकाशक की वेबसाइटों पर जा सकेंगे. 

ई-ईवेंट:आगंतुक मेले के 4 दिन की अवधि में सेमिनार, साहित्यिक कार्यक्रम, पुस्तक विमोचन, लेखकों के साथ बातचीत, दूतावासों के साथ पैनल चर्चा और विदेशी प्रकाशकों के साथ ई-इवेंट देख सकेंगे.