केंद्रीय शिक्षा मंत्री 23 नवंबर को करेंगे 46 ऑनलाइन अटल संकाय विकास कार्यक्रमों का उद्घाटन

• 1000 ऑनलाइन एफडीपी की योजना बनाई गई, एक लाख प्रतिभागियों को लाभ होगा •


अब तक 499 फैकल्टी डिवेलपमेंट प्रोग्राम (एफडीपी) ऑनलाइन आयोजित किए गए, 70 हजार से ज्यादा टीचरों को ट्रेनिंग दी गई


• केंद्रीय शिक्षा मंत्री माननीय श्री रमेश पोखरियाल निशंक उद्गाटन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे


New Delhi


अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद और अभातशिप प्रशिक्षण और अधिगम (अटल) अकादमी की ओर से 46 ऑनलाइन अटल संकाय विकास कार्यक्रमों का उद्घाटन 23 नवंबरको केंद्रीय शिक्षा मंत्री माननीय श्री रमेश पोखरियाल “निशंक” करेंगे। इसी के साथ सोमवार को 500वीं अटल एफडीपी (फैकल्टी डिवेलपमेंट प्रोग्राम) की शुरुआत होगी। कोरोना महामारी के इस चुनौतीपूर्ण समय में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) से जुड़े हुए शिक्षकों के कौशल में सुधार के लिए अब तक 499 ऑनलाइन एफडीपी आयोजित किए जा चुके हैं, जिसमें देश के उच्च तकनीकी शिक्षण संस्थानों के 70 हजार से ज्यादा शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जा चुकी है। गौरतलब है कि 1000 ऑनलाइन एफडीपी की योजना बनाई गई है, जिससे एक लाख प्रतिभागियों को लाभ होगा। उद्घाटन समारोह में आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी के विभिन्न प्रमुख संस्थान और राष्ट्रीय महत्व के अन्य संस्थान के गणमान्य व्यक्ति शामिल होंगे। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के तत्वाधान में अभातशिप शिक्षण और प्रशिक्षण अटल अकादमी की ओर से आयोजित ATAL लर्निंग और टर्निंग प्रोग्राम ऑनलाइन चलाया जाएगा। आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नॉलजी) के साथ भागीदारी में पूरे देश के विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में यह प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। एआईसीटीई की ओर से स्वीकृत संस्थानों के संकाय सदस्य इसमें भाग ले सकते हैं।


एआईसीटीआई के चेयरमैन प्रोफेसर डॉ. अनिल सहस्त्रबुद्धे ने कहा, “अटल लर्निंग और ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉक चेन, रोबोटिक्स, क्वांटम कंप्यूटिंग, डेटा विज्ञान, साइबर सुरक्षा, थ्री डी प्रिटिंग और डिजाइन, एआर (ऑग्युमेंटेंड रिएलिटी) और वीआर (वर्चुअल रिएलटी) से संबंधित क्षेत्रों में एआईसीटीई से जुड़े संस्थानों के शिक्षकों को नई-नई विधाओं में शिक्षित और प्रशिक्षित किया जा रहा है। इस कड़ी में 499 एफडीपी ऑनलाइन आयोजित किए जा चुके हैं। 23 नवंबर को 500वीं अटल एफडीपी के तहत 46 ऑनलाइन अटल संकाय विकास कार्यक्रमों का उद्घाटन केंद्रीय शिक्षा मंत्री माननीय श्री रमेश पोखरियाल निशंक के करकमलों से किया जाएगा। 2020-21 में ऑनलाइन आयोजित किए जाने वाले एफडीपी कार्यक्रमों में इंजीनियरिंग प्रबंधन, जीवन कौशल, डिजाइन और मीडिया जैसे नए क्षेत्रों को शामिल किया गया है। अखिल भारतीय तकनीकी परिशद के उपाध्यक्ष प्रोफेसर एम.पी. पूनिया ने कहा, “2019-20 में अटल ट्रेनिंग और लनिंग प्रोग्राम के तहत नौ विषयों में फैकल्टी के सदस्यों के कौशल को निखारने के लिए 5 दिवसीय 185 एफडीपी कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था। इनमें देश भर के आईआईटी, एनआईटी और आईआईआईटी जैसे प्रमुख संस्थानों ने भागीदारी की थी।“ अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के सदस्य सचिव प्रोफेसर राजीव कुमार ने कहा, “कोविड-19 के इस चुनौतीपूर्ण समय में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद संबद्ध शिक्षकों के कौशल में सुधार के लिए एफडीपी आयोजित कर रहा है। किसी भी संस्थान की उन्नति में वहां के शिक्षकों का विशेष योगदान होता है। इसलिए शिक्षकों के ज्ञान और कौशल को निखारने के लिए इस तरह के फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम आयोजित होते रहने चाहिए। समय के साथ शिक्षकों को खुद में बदलाव की जरूरत है। कोरोना काल ने शिक्षकों को बदलाव करने की सीख भी दी है।“


अटल अकादमी के अध्यक्ष रविंद्र कुमार सोनी ने कहा, “एआईसीटीई ने ट्रेनिंग एंड लर्निंग (ATAL) एकेडेमी की स्थापना की है। इन अकादमियों का मुख्य उद्देश्य देश में गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा प्रदान करना और विभिन्न उभरते क्षेत्रों में प्रशिक्षण के माध्यम से अनुसंधान, नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने में मदद करना है।“ 46 ऑनलाइन अटल संकाय विकास कार्यक्रमों के उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय शिक्षा मंत्री माननीय रमेश पोखरियाल निशंक होंगे। इसके अलावा समारोह में शामिल होने वाले अन्य गणमान्य व्यक्तियों में एआईसीटीई के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल डी. सहस्त्रबुद्धे, उपाध्यक्ष प्रोफेसर एम. पी. पूनिया, सदस्य सचिव डॉ. राजीव कुमार, पंजाब केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, बठिंडा के कुलपति प्रोफेसर राघवेंद्र पी. तिवारी, अटल अकादमी के अध्यक्ष डॉ. रविंद्र कुमार सोनी, आईआईआईटी त्रिची के निदेशक डॉ. नरसिंह सरमा, आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रोफेसर अजीत के. चतुर्वेदी, आईआईटी जम्मू के निदेशक डॉ. मनोज सिंह गौर और अटल प्रकोष्ठ के सहायक निदेशक डॉ. गिरधारी लाल गर्ग होंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव