लखीमपुरी खीरी व कुन्दुकुर में कृषि विज्ञान केंद्रों के प्रशासनिक भवन का शिलान्यास

एग्री इंफ्रा फंड व एफपीओ का छोटे किसानों तक लाभ पहुंचाए केवीके- श्री तोमर


नई दिल्ली। कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके), लखीमपुर खीरी-2 (उत्तर प्रदेश) और कुन्दुकुर (जिला प्रकाशम, आंध्र प्रदेश) के प्रशासनिक भवन का शिलान्यास केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री  नरेंद्र सिंह तोमर के मुख्य आतिथ्य में हुआ। इस अवसर पर श्री तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए 1 लाख करोड़ रूपए के कृषि अवसंरचना फंड और दस हजार कृषि उत्पादक संगठन (एफपीओ) का केवीके अपने विशाल नेटवर्क के माध्यम से छोटे किसानों तक लाभ पहुंचाए।


श्री तोमर ने कहा कि किसान परिश्रम से फसल उगाता है। उसके इस परिश्रम में देश के कृषि वैज्ञानिकों, कृषि विभागों तथा सरकार का बड़ा सहयोग रहता है। किसान पूंजी भी लगाता है, लेकिन उसे प्रकृति पर निर्भर रहना पड़ता है। प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों को नुकसान भी होता है। प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने किसानों के इस नुकसान की भरपाई के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का सृजन किया है। फसल बीमा योजना के नए प्रावधानों के बाद 13 हजार करोड़ रू. प्रीमियम किसानों ने भरा है, वहीं उन्हें क्लैम के रूप में 58 हजार करोड़ रू. का भुगतान मिला है। अधिकतम किसानों को इसका लाभ लेना चाहिए। श्री तोमर ने कहा कि किसान संगठित हों और उन्हें कृषि प्रौद्योगिकी का पूर्ण लाभ मिलें, यह बहुत आवश्यक है। प्रधानमंत्री  ने हाल ही में देश में दस हजार नए एफपीओ बनाने की घोषणा की है। देश में करीब 80 प्रतिशत छोटे किसान हैं। ये किसान खुद कृषि में निवेश करने में सक्षम नहीं है। ऐसे में एफपीओ बनाने से इनकी क्षमता बढ़ जाएगी, नया निवेश इन तक पहुंचेगा, जिससे इनके जीवन में समृद्धि आएगी। एफपीओ खुशहाली लाएंगे।


कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री  कैलाश चौधरी ने विश्वास जताया कि नए केवीके किसानों तक कृषि की आधुनिक जानकारी पहुंचाने में अहम योगदान देंगे। केवीके व किसानों के बीच संबंध निरंतर मजबूत होता जा रहा है। किसान इन केंद्रों से जानकारी लेकर फसल उत्पादन बढ़ा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान ने बेहतर काम किया है। किसानों को गन्ने के उत्तम बीज मिले, जिससे पैदावार में वृद्धि हुई है। इससे रिकार्ड चीनी उत्पादन उ.प्र. में हुआ है।


खीरी के सांसद  अजय मिश्रा ने कहा लखीमपुर खीरी कृषि क्षेत्र में अग्रणी जिला है। केंद्र व उ.प्र. सरकार के संयुक्त प्रयासों से कृषि क्षेत्र में बड़े बदलाव आए हैं। नैल्लोर के सांसद श्री अदला प्रभाकर रेड्डी ने केवीके भवन के शिलान्यास पर केंद्रीय मंत्री श्री तोमर का आभार जताते हुए कहा कि इस केंद्र की स्थापना से स्थानीय कृषक उन्नत कृषि की ओर अग्रसर हो सकेंगे। कार्यक्रम में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डा. त्रिलोचन महापात्र सहित केवीके के वैज्ञानिक-अधिकारी तथा कृषि मंत्रालय के अधिकारी उपस्थित थे।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव