शहर में पहली बार औषधीय वाटिका , नरेंद्र भूषण ने लगाए गिलोय के पौधे

ग्रेनो के सीईओ नरेंद्र भूषण ने शहरवासियों को दिया औषधीय वाटिका का तोहफा


अभियान के तहत एक दिन में लगाए गए 52 हजार औषधीय पौधे 


ग्रेटर नोएडा। उत्तर प्रदेश के 25 करोड़ पौधारोपण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए रविवार को गे्रटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) नरेन्द्र भूषण पौधारोपण कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने शहरवासियों को औषधीय वाटिका देने के आने वादे को पूरा करते हुए प्राधिकरण कार्यालय के सामने ग्रीन बेल्ट में गिलोय के पौधे लगाए। 


सीईओ नरेंद्र भूषण ने बताया कि शहर में पहली बार औषधीय वाटिका विकसित की जा रही है। यह एक अभिनव प्रयोग है। औषधीय वाटिका में दुर्लभ प्रजाति के विभिन्न जड़ी-बूटियों के पौधे रोपित किए जा रहे हैं। इसमें तुलसी, एलोवेरा, गिलोय, लेमन टी, अजवाइन, पत्थर चूर, सतावर, नागर मोथा, बन तुलसी एवं सुदर्शन आदि के लगभग 500 पौधों का रोपण किया जाएगा। यह औषधीय वाटिका 6 से 8 माह में पूरी तरह विकसित हो जाएगी। 


नरेन्द्र भूषण ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट के सेक्टर-2 स्थित सम्पूर्णानंद ग्रुप हाउसिंग के निकट स्थित ग्रीन बेल्ट में ऑवला के पौधे रोपकर अभियान का शुभारंभ किया। इसके तहत सेक्टर-2, ग्रेटर नोएडा वेस्ट विभिन्न पॉकेट, पार्कों, हरित पट्टी, मुख्य आंतरिक सड़कों के किनारे भी पौधे रोपे गए। उन्होंने बताया कि रविवार को एक दिन में कुल 42,000 पौधों का रोपण किया गया। प्राधिकरण के उद्यान विभाग द्वारा कराये गये इस वृहद पौधारोपण कार्यक्रम के तहत 88.88 एकड़ क्षेत्र का हरित आच्छादन कराया गया है। इसके अतिरिक्त सेक्टर-टेक्जोन-4 में 130 मीटर रोड के साथ 100 मीटर चौड़े लगभग 16 हजार वर्गमीटर क्षेत्र को हरित क्षेत्र के रूप में विकसित किया जाएगा। इस ग्रीन बेल्ट में भी रविवार को अर्जुन समेत विभिन्न प्रजातियो के लगभग 10 हजार पौधे रोपे गए। 


उन्होंने बताया कि अभियान के तहत जिन प्रजातियों के पौधों का रोपण किया गया, उनमें पीपल, पीलखन, आंवला, जामुन, बेल पत्थर, गूलर, बरगद, शीशम, आम, नीम, बालम खीरा, ईमली, अशोक पैण्डुला, प्लूमेरिया अल्बा, बिसमार्किया पाम, वाश्ंिगटोनिया पाम, मौल श्री शामिल हैं। इसके अलावा हिमेलिया ड्राफ, कलैण्ड्रा रेड, गुणहल, पीली करनेर, टिकोमा गौडी चौडी, चांदनी वैरिगेटेड, एगजोरा सिंगापुरी, केसिया बाई फ्लोरा, हिबिकस वेरीगेटिड, हिबिकस डबल तथा हैज प्रजाति में ईनरमी गोल्डन डुरन्टा एवं पुत्रन्जीवा आदि के पौधे रोपित किए गए। अभियान के तहत औद्योगिक आवासीय, संस्थागत, शैक्षणिक, चिकित्सीय एवं शासकीय अर्धशासकीय तथा विभिन्न सैन्य बलों के द्वारा लगभग 52000 पौधों के रोपण का लक्ष्य पूरा किया गया। 


इस अवसर पर एसीईओ दीप चन्द्र, कृष्ण कुमार गुप्त, ओएसडी सौम्य श्रीवास्तव, हौसिला प्रसाद वर्मा, समाकान्त श्रीवास्त्व, पीके कौशिक, मोनिका चतुर्वेदी, अजय कुमार राय, मुकेश कुमार और ज्ञानेन्द्र यादव आदि मौजूद थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन